जानकी नवमी सह मैथिली दिवस धूमधाम से मना

0
438

सिंदरी। विद्यापति परिषद् सिंदरी द्वारा परिषद् प्रांगण में सोमवार को जानकी नवमी दिवस सह मैथिली दिवस धूमधाम से श्रद्धापूर्वक मनाया गया। इस अवसर पर माता जानकीजी के मंदिर में पं डॉ भास्कर झा एवं पं अमर झा द्वारा पूजन किया गया वहीं महिलाओं द्वारा भजन कीर्तन किया गया। जानकी नवमी की महत्ता पर प्रकाश डालते हुए कहा गया कि यह पर्व मिथिला एवं मैथिलों के लिए महत्वपूर्ण पर्व है और यह पूरे विश्व में एवं मैथिलों के बीच में मनाया जाता है। यह पर्व वैशाख मास के शुक्ल पक्ष की नवमी तिथि को जनकनंदिनी एवं प्रभु श्रीराम की प्राणप्रिया सर्वमंगल दायिनी, पतिवर्ताओं में शिरोमणी माता सीता का प्रकाटय हुआ उसी उपलक्ष्य में यह पर्व मनाया जाता है। धर्म शास्त्रों के अनुसार इस पावन पर्व पर को भी भगवान राम सहित मां जानकी का व्रत पूजन करता है उसे पृथ्वी दान का फल स्वत: ही प्राप्त हो जाता है एवं समस्त प्रकार के दुःखों, रोगों व संतापों से मुक्ति मिलती है।
 इस मौके पर परिषद् के अध्यक्ष निर्मल कांत झा द्वारा परिषद् प्रांगण में मिथिला का पारम्परिक ध्वजारोहण किया गया। मैथिल संस्था के प्रबुद्ध जनों ने मिथिला राज्य के लिए अपनी प्रतिबद्धता दोहराई एवं मिथिला राज्य की स्थापना तक संघर्ष जारी रखने की बात कही। स्कूलों, कॉलेजों में मैथिली भाषा की पढ़ाई को सुनिश्चित करने की मांग सरकार से की गईं। कार्यक्रम के अंत में महाप्रसाद के रुप में पुड़ी सब्जी, खीर का वितरण किया गया। मौके पर सिंदरी थाना प्रभारी सह निरीक्षक राज कपूर, सरस्वती विद्या मंदिर सिंदरी के प्राचार्य संजीव कुमार, महेन्द्र पाण्डेय, अजय कुमार, राजेश सिंह, पूर्णेंदू सिंह आदि थे। समारोह के आयोजन में डॉ केके ठाकुर, महासचिव विनोद कुमार झा, एके मिश्रा, चन्द्र शेखर झा, शैलेन्द्र कुमार झा, अशोक झा हेमन्त ठाकुर, मदन मोहन झा, शिव कांत झा ,अमरनाथ झा, बनवाली झा, अश्विनी मिश्रा उर्फ मिंटू मिश्रा, विजय चौधरी, अरुण कुमार झा, राज गोविंद झा, महेन्द्र झा, दिलीप झा, वंशीधर मिश्रा, संतोष झा, लक्ष्मी राउत आदि शामिल थे।

  • Varnanlive. (13/05/19)
Previous articleकड़ी सुरक्षा के बीच सील की गई ईवीएम, 23 को खुलेगा पिटारा
Next article#Loksabha Election 2019 : महामुकाबला – अब आर या पार
मिथिला वर्णन (Mithila Varnan) : स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता'! DAVP मान्यता-प्राप्त झारखंड-बिहार का अतिलोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक अब न्यूज-पोर्टल के अवतार में भी नियमित अपडेट रहने के लिये जुड़े रहें हमारे साथ- facebook.com/mithilavarnan twitter.com/mithila_varnan ---------------------------------------------------- 'स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता', यही है हमारा लक्ष्य। इसी उद्देश्य को लेकर वर्ष 1985 में मिथिलांचल के गर्भ-गृह जगतजननी माँ जानकी की जन्मभूमि सीतामढ़ी की कोख से निकला था आपका यह लोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक 'मिथिला वर्णन'। उन दिनों अखण्ड बिहार में इस अख़बार ने साप्ताहिक के रूप में अपनी एक अलग पहचान बनायी। कालान्तर में बिहार का विभाजन हुआ। रत्नगर्भा धरती झारखण्ड को अलग पहचान मिली। पर 'मिथिला वर्णन' न सिर्फ मिथिला और बिहार का, बल्कि झारखण्ड का भी प्रतिनिधित्व करता रहा। समय बदला, परिस्थितियां बदलीं। अन्तर सिर्फ यह हुआ कि हमारा मुख्यालय बदल गया। लेकिन एशिया महादेश में सबसे बड़े इस्पात कारखाने को अपनी गोद में समेटे झारखण्ड की धरती बोकारो इस्पात नगर से प्रकाशित यह साप्ताहिक शहर और गाँव के लोगों की आवाज बनकर आज भी 'स्वच्छ और स्वस्थ पत्रकारिता' के क्षेत्र में निरन्तर गतिशील है। संचार क्रांति के इस युग में आज यह अख़बार 'फेसबुक', 'ट्वीटर' और उसके बाद 'वेबसाइट' पर भी उपलब्ध है। हमें उम्मीद है कि अपने सुधी पाठकों और शुभेच्छुओं के सहयोग से यह अखबार आगे और भी प्रगतिशील होता रहेगा। एकबार हम अपने सहयोगियों के प्रति पुनः आभार प्रकट करते हैं, जिन्होंने हमें इस मुकाम तक पहुँचाने में अपना विशेष योगदान दिया है।

Leave a Reply