बोकारो जिले में 61.2 % व गिरिडीह लोकसभा क्षेत्र में 65.9 % मतदान

0
435

जनता, प्रशासनिक टीम, राजनीतिक दल सभी बधाई के पात्र ः डीसी

Kripanand Jha, DC, Bokaro.

संवाददाता

बोकारो ः राज्य में तीसरे चरण के तहत हुए चुनाव के दरम्यान रविवार को बोकारो जिले में अपेक्षाकृत बेहतर मतदान प्रतिशत दर्ज किया गया। जिला निर्वाची पदाधिकारी सह उपायुक्त कृपानंद झा के अनुसार जिले की सभी छह विधानसभा क्षेत्रों में कुल मिलाकर 61.26 प्रतिशत मतदान संपन्न हुआ। सबसे ज्यादा मतदान 37-चंदनकियारी में हुआ, जहां वोटिंग का प्रतिशत 73.54 दर्ज किया गया। इसके बाद क्रमशः 34- गोमिया में 68.45 प्रतिशत, 35- बेरमो में 62.91 प्रतिशत तथा 36- बोकारो विधानसभा क्षेत्र में सबसे कम 52.51 प्रतिशत मतदान दर्ज किया गया।इधर, गिरिडीह लोकसभा निर्वाचन-2019 के छठे चरण के अन्तर्गत आयोजित गिरिडीह लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र में कुल मतदान 65.93 प्रतिशत हुआ। उपायुक्त के अनुसार गिरिडीह लोकसभा क्षेत्रान्तर्गत 32-गिरिडीह विधानसभा क्षेत्र में कुल मतदान 65.76 प्रतिशत, 33-डुमरी विधानसभा क्षेत्र में 71.21 प्रतिशत, 34-गोमिया विधानसभा क्षेत्र में 67.79 प्रतिशत, 35-बेरमो विधानसभा क्षेत्र में 63.36 प्रतिशत, 42-टुन्डी विधानसभा क्षेत्र में 68.02 तथा 43-बाघमारा विधानसभा क्षेत्र में कुल मतदान 60.02 प्रतिशत हुआ। 

इस मतदान पर निर्वाची पदाधिकारी -सह- उपायुक्त कृपा नंद झा एवं पुलिस अधीक्षक पी. मुरूगन सहित जिले के अन्य वरीय पदाधिकारियों के द्वारा पैनी नजर बनी हुई थी। उपायुक्त ने शांतिपूर्ण एवं निष्पक्ष मतदान हेतु जिले के सभी मतदाताओं सहित मतदान कार्य में लगे पदाधिकारियों एवं कर्मियों को धन्यवाद दिया। उन्होंने कहा कि इस मतदान के लिये जनता, प्रशासनिक टीम के हरेक पदाधिकारी व कर्मी के साथ-साथ राजनीतिक दलों के लोग भी आभार व बधाई के पात्र हैं, जिन्होंने आदर्श आचार संहिता के नियमों का अनुपालन किये रखा। उन्होंने  इस मतदान को अच्छा बताते हुए संतोष तो जताया, परंतु यह भी कहा कि अगर इससे अधिक होता तो और बेहतर होता।

  • Varnan Live Report.
Previous articleचुनाव में विपक्षी दूर-दूर तक नहीं : चंद्रप्रकाश
Next articleलोकतंत्र की मजबूती में खासो-आम रहे साथ, हेलीकाप्टर से पहुंच शिबू सोरेन ने किया मतदान
मिथिला वर्णन (Mithila Varnan) : स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता'! DAVP मान्यता-प्राप्त झारखंड-बिहार का अतिलोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक अब न्यूज-पोर्टल के अवतार में भी नियमित अपडेट रहने के लिये जुड़े रहें हमारे साथ- facebook.com/mithilavarnan twitter.com/mithila_varnan ---------------------------------------------------- 'स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता', यही है हमारा लक्ष्य। इसी उद्देश्य को लेकर वर्ष 1985 में मिथिलांचल के गर्भ-गृह जगतजननी माँ जानकी की जन्मभूमि सीतामढ़ी की कोख से निकला था आपका यह लोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक 'मिथिला वर्णन'। उन दिनों अखण्ड बिहार में इस अख़बार ने साप्ताहिक के रूप में अपनी एक अलग पहचान बनायी। कालान्तर में बिहार का विभाजन हुआ। रत्नगर्भा धरती झारखण्ड को अलग पहचान मिली। पर 'मिथिला वर्णन' न सिर्फ मिथिला और बिहार का, बल्कि झारखण्ड का भी प्रतिनिधित्व करता रहा। समय बदला, परिस्थितियां बदलीं। अन्तर सिर्फ यह हुआ कि हमारा मुख्यालय बदल गया। लेकिन एशिया महादेश में सबसे बड़े इस्पात कारखाने को अपनी गोद में समेटे झारखण्ड की धरती बोकारो इस्पात नगर से प्रकाशित यह साप्ताहिक शहर और गाँव के लोगों की आवाज बनकर आज भी 'स्वच्छ और स्वस्थ पत्रकारिता' के क्षेत्र में निरन्तर गतिशील है। संचार क्रांति के इस युग में आज यह अख़बार 'फेसबुक', 'ट्वीटर' और उसके बाद 'वेबसाइट' पर भी उपलब्ध है। हमें उम्मीद है कि अपने सुधी पाठकों और शुभेच्छुओं के सहयोग से यह अखबार आगे और भी प्रगतिशील होता रहेगा। एकबार हम अपने सहयोगियों के प्रति पुनः आभार प्रकट करते हैं, जिन्होंने हमें इस मुकाम तक पहुँचाने में अपना विशेष योगदान दिया है।

Leave a Reply