जनता मेरे साथ, बनायेंगे नया गिरिडीह : चंद्रप्रकाश

0
261

खिरोधर राज
बेरमो :
राज्य के जल संसाधन, पेयजल एवं स्वच्छता मंत्री और गिरिडीह लोकसभा क्षेत्र से राजग समर्थित आजसू उम्मीदवार चंद्रप्रकाश चौधरी ने कहा है कि हमारी प्राथमिकता विकास आधारित राजनीति करते हुए जनता के बीच रहना है। हमने नया गिरिडीह बनाने का संकल्प लिया है और सभी के सहयोग से इस काम को पांच साल में पूरा करके दिखाएंगे। जनता का समर्थन मेरे साथ है। हम अपने हर वायदों पर खरा उतरेंगे। मेरा कोई प्रतिद्वंदी नहीं है। बेरमो विधानसभा क्षेत्र अंतर्गत विभिन्न इलाकों मतदाताओं के बीच जनसंपर्क व रोड-शो के दौरान लोगों को वह संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि हर वर्ग व हर हर तबके के लोग देश का प्रधानमंत्री पुन: नरेंद्र मोदी को देखना चाहते हैं। लोग महागठबंधन को बिल्कुल भी पसंद नहीं कर रहे हैं। लोग यह समझ चुके हैं कि महागठबंधन से किसी प्रकार का उम्मीद करना देश व राज्य में रह रही जनता के के भविष्य के साथ खिलवाड़ करने के बराबर होगा। इस लिहाज से महागंठबंधन को नकार देने में ही हम सबों की भलाई है। इस दौरान विधायक योगेश्वर महतो ‘बाटुल’ ने लोगों के बीच कहा कि यह चुनाव देश व गिरिडीह के हित को लेकर है। आप मतदाता इस बात को भी जानते व समझते हैं कि देश को आज ऐसे व्यक्ति की आवश्यकता है, जो सबको साथ लेकर चल सके और देश का दुनिया भर में मान बढ़ाएं और यह कोई कर सकता है तो वह नरेंद्र मोदी ही कर सकते हैं। यहां की जनता भी इस बात को समझती है। यहां के लोगों का मन मिजाज पूरी तरह से नरेंद्र मोदी के पक्ष में बना हुआ है और चंद्रप्रकाश चौधरी लोगों के दिलों दिमाग में बस गए हैं और उनकी जीत अपार मतों से होगी।

Previous articleचीराचास के मैथिलों को एकसूत्र में पिरोयेगा मिथिला मंच
Next articleGlance Tutorial के विद्यार्थियों ने फिर दिखायी प्रतिभा- 12वीं बोर्ड में शानदार प्रदर्शन
मिथिला वर्णन (Mithila Varnan) : स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता'! DAVP मान्यता-प्राप्त झारखंड-बिहार का अतिलोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक अब न्यूज-पोर्टल के अवतार में भी नियमित अपडेट रहने के लिये जुड़े रहें हमारे साथ- facebook.com/mithilavarnan twitter.com/mithila_varnan ---------------------------------------------------- 'स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता', यही है हमारा लक्ष्य। इसी उद्देश्य को लेकर वर्ष 1985 में मिथिलांचल के गर्भ-गृह जगतजननी माँ जानकी की जन्मभूमि सीतामढ़ी की कोख से निकला था आपका यह लोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक 'मिथिला वर्णन'। उन दिनों अखण्ड बिहार में इस अख़बार ने साप्ताहिक के रूप में अपनी एक अलग पहचान बनायी। कालान्तर में बिहार का विभाजन हुआ। रत्नगर्भा धरती झारखण्ड को अलग पहचान मिली। पर 'मिथिला वर्णन' न सिर्फ मिथिला और बिहार का, बल्कि झारखण्ड का भी प्रतिनिधित्व करता रहा। समय बदला, परिस्थितियां बदलीं। अन्तर सिर्फ यह हुआ कि हमारा मुख्यालय बदल गया। लेकिन एशिया महादेश में सबसे बड़े इस्पात कारखाने को अपनी गोद में समेटे झारखण्ड की धरती बोकारो इस्पात नगर से प्रकाशित यह साप्ताहिक शहर और गाँव के लोगों की आवाज बनकर आज भी 'स्वच्छ और स्वस्थ पत्रकारिता' के क्षेत्र में निरन्तर गतिशील है। संचार क्रांति के इस युग में आज यह अख़बार 'फेसबुक', 'ट्वीटर' और उसके बाद 'वेबसाइट' पर भी उपलब्ध है। हमें उम्मीद है कि अपने सुधी पाठकों और शुभेच्छुओं के सहयोग से यह अखबार आगे और भी प्रगतिशील होता रहेगा। एकबार हम अपने सहयोगियों के प्रति पुनः आभार प्रकट करते हैं, जिन्होंने हमें इस मुकाम तक पहुँचाने में अपना विशेष योगदान दिया है।

Leave a Reply