बोखड़ा में शांतिपूर्ण चुनाव संपन्न, न प्राथमिकी, न कोई हिरासत में

0
205

सतीश कुमार झा
बोखड़ा :
सीतामढ़ी जिले के बोखड़ा प्रखंड की सभी 11 पंचायतों को मिलाकर कुल 82 मतदान केंद्रों पर कुल 82 हजार 37 मतदाताओं ने शांतिपूर्ण तरीके से मतदान किया। इनमें महिलाएं 31 हजार, 163 व पुरूष 43 हजार, 874 मतदाता शामिल रहे। प्रखंड के मध्य विद्यालय पतनुका, सोरिया बड़ी,पंचायत भवन सिंगाचोरी, सहित अन्य मतदान केंद्रों पर भीड़ बनी रही। दूसरी तरफ नये वोटरों में खासा उत्साह देखा गया। बूथ संख्या 282 से 288 तक के मतदान केंद्र पर पहली बार वोट डालने के बाद रंजू, पम्मी, नेहा सहित अन्य ने बताया कि देश को विकासशील बनाने के लिए शत-प्रतिशत मतदान जरूरी है। बीडीओ पंडित ने बताया कि पहली बार इस चुनाब में न एक भी हिरासत में लिया गया है नहीं कोई प्राथमिकी दर्ज की गयी। सभी जगहों पर शांति पूर्ण मतदान करा लिया गया। सुरक्षा व्यवस्था की कमान संभाले नानपुर थानाध्यक्ष राम एकबाल प्रसाद, अवर निरीक्षक ओमप्रकाश श्रीवास्तव, शशिकांत कुमार, मो. इम्तियाज,कृष्ण कुमार पंडित, अनुज कुमार सहित जिला मुख्यालय से आये एसएसबी व पुलिस बलों जगह-जगह तैनात दिखे तो दर्जनों वाहनों से पेट्रोलिंग करने में वे व्यस्त भी दिखे। दंडाधिकारी के रूप में पीओ सन्तोष प्रसाद,अनुज कुमार, शिवशंकर पंडित, दिलीप कुमार, अर्धेन्दु शेखर प्रतिहस्त, शैलेंद्र कुमार सिंह, राम प्रकाश सिंह, अजय कुमार आदि पुलिस बलों के साथ तैनात दिखे। जबकि कंट्रोल रूम में कार्मिक कोषांग के पंकज किशोर पवन, शिब मंगल कुमार, विजय कुमार, आईटीकर्मी दीपक कुमार, नाजिर संतोष कुमार, किशोर कुमार आदि ने मोर्चा संभाले रखा।

  • Varnanlive Report.
Previous articleपिता-पुत्र के वाक्-व्यूह में घिरे नीतीश
Next articleMithila Diary : नये सांसद के लिए चैलेंज होगी जयनगर-सीतामढ़ी रेल परियोजना
मिथिला वर्णन (Mithila Varnan) : स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता'! DAVP मान्यता-प्राप्त झारखंड-बिहार का अतिलोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक अब न्यूज-पोर्टल के अवतार में भी नियमित अपडेट रहने के लिये जुड़े रहें हमारे साथ- facebook.com/mithilavarnan twitter.com/mithila_varnan ---------------------------------------------------- 'स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता', यही है हमारा लक्ष्य। इसी उद्देश्य को लेकर वर्ष 1985 में मिथिलांचल के गर्भ-गृह जगतजननी माँ जानकी की जन्मभूमि सीतामढ़ी की कोख से निकला था आपका यह लोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक 'मिथिला वर्णन'। उन दिनों अखण्ड बिहार में इस अख़बार ने साप्ताहिक के रूप में अपनी एक अलग पहचान बनायी। कालान्तर में बिहार का विभाजन हुआ। रत्नगर्भा धरती झारखण्ड को अलग पहचान मिली। पर 'मिथिला वर्णन' न सिर्फ मिथिला और बिहार का, बल्कि झारखण्ड का भी प्रतिनिधित्व करता रहा। समय बदला, परिस्थितियां बदलीं। अन्तर सिर्फ यह हुआ कि हमारा मुख्यालय बदल गया। लेकिन एशिया महादेश में सबसे बड़े इस्पात कारखाने को अपनी गोद में समेटे झारखण्ड की धरती बोकारो इस्पात नगर से प्रकाशित यह साप्ताहिक शहर और गाँव के लोगों की आवाज बनकर आज भी 'स्वच्छ और स्वस्थ पत्रकारिता' के क्षेत्र में निरन्तर गतिशील है। संचार क्रांति के इस युग में आज यह अख़बार 'फेसबुक', 'ट्वीटर' और उसके बाद 'वेबसाइट' पर भी उपलब्ध है। हमें उम्मीद है कि अपने सुधी पाठकों और शुभेच्छुओं के सहयोग से यह अखबार आगे और भी प्रगतिशील होता रहेगा। एकबार हम अपने सहयोगियों के प्रति पुनः आभार प्रकट करते हैं, जिन्होंने हमें इस मुकाम तक पहुँचाने में अपना विशेष योगदान दिया है।

Leave a Reply