शिक्षा-जगत में फिर गौरवान्वित हुआ बोकारो

0
274

10वीं बोर्ड में 98.6% अंक के साथ चिन्मय की स्मृति रही टॉपर

Bokaro Topper Smrity Raj with her parents.

कार्यालय संवाददाता
बोकारो : झारखंड प्रदेश की शैक्षणिक राजधानी कही जाने वाली इस्पातनगरी बोकारो के छात्र-छात्राओं ने एक बार फिर से अपनी कुशल में मेधाविता का परिचय देते हुए इस शहर का नाम प्रदेश व राष्ट्रीय स्तर पर गौरवान्वित किया है। सीबीएसई 10वीं बोर्ड की परीक्षा में यहां के विद्यार्थियों ने बेहतरीन परिणाम हासिल कर अपने विद्यालय, परिवार और शहर का नाम रोशन किया। पूरे जिले में चिन्मय विद्यालय ने अपनी बादशाहत का लोहा एक बार फिर से मनवाया। इस विद्यालय की मेधावी छात्रा स्मृति राज ने 98.6 प्रतिशत अंक प्राप्त कर जिले में टॉपर होने का गौरव हासिल किया। जबकि 98.4 प्रतिशत अंक प्राप्त कर होली क्रॉस स्कूल, बालीडीह की छात्रा श्रुति सिन्हा और छात्र कृष विश्वनाथ ने संयुक्त रूप से दूसरा स्थान प्राप्त किया। वहीं दिल्ली पब्लिक स्कूल के छात्र प्रियांशु रंजन ने 98.2 प्रतिशत अंकों के साथ तीसरा स्थान प्राप्त किया। जिला टॉपर स्मृति राज को संस्कृत, एसएसटी, मैथमेटिक्स और आईटी में 100 फीसदी अंक मिले हैं, जबकि अंग्रेजी में 98 और विज्ञान में 95 अंक प्राप्त हुए। दूसरे स्थान पर रहे होली क्रॉस के विद्यार्थी कृष विश्वनाथ को गणित और अंग्रेजी में 99 तथा संस्कृत, एसएसटी और साइंस में 98 अंक मिले। दूसरे स्थान पर ही रही श्रुति सिन्हा को अंग्रेजी में 99, हिंदी में 97, गणित में 98 और विज्ञान में 100 अंक प्राप्त हुए। इसके अलावा अन्य स्कूलों का भी काफी उम्दा परीक्षाफल रहा।

इंटिलेजेन्स ब्यूरों की अधिकारी बनना चाहती है जिला टॉपर


98.6 प्रतिशत अंक प्राप्त कर बोकारो जिले में सर्वश्रेष्ठ स्थान प्राप्त करने वाली छात्रा स्मृति राज आगे चलकर इंटेलिजेंस ब्यूरो यानी खुफिया विभाग की एक अधिकारी बनना चाहती है। इस संवाददाता से एक खास बातचीत में स्मृति ने कहा कि वह देश के दुश्मनों का बारीकी के साथ गहराई में जाकर पता करना चाहती है और राष्ट्र-सेवा के उद्देश्य से ही व इंटेलिजेंस ब्यूरो में जाना चाहती है। इसके पूर्व व आईआईटी से मैकेनिकल इंजीनियरिंग करेगी। बोकारो में एक कंप्यूटर कोचिंग संस्थान चलाने वाले राजकुमार और गृहिणी अनिता अंजली की सुपुत्री स्मृति राज ने अपनी सफलता का श्रेय अपने परिवार, अपने दोस्तों के सहयोग तथा स्कूल शिक्षकों के मार्गदर्शन साथ-साथ अपने कठिन परिश्रम को भी दिया है। 16 वर्षीय स्मृति राज का मानना है कि पढ़ाई में मानसिक तनाव और दबाव की कहीं कोई जरूरत नहीं है। आश्चर्य की बात तो यह है कि परीक्षा के दिनों में भी वह सोशल मीडिया से लगातार जुड़ी रही।

जनसम्पर्क विभाग के कर्मी के पुत्र ने बढ़ाया मान

Raunit Ranjan


बोकारो : सीबीएसई 10वीं बोर्ड की परीक्षा में शानदार सफलता के दौर में बोकारो जिला प्रशासन के जनसम्पर्क विभाग (पीआरडी) के वरीय लिपिक (बड़ा बाबू) राकेश रंजन सिन्हा के पुत्र रौनित रंजन ने भी बेहतरीन कामयाबी पाकर पूरे अपने पूरे परिवार का मान बढ़ाया है। डीएवी पब्लिक स्कूल, सेक्टर- 4 के विद्यार्थी रौनित को कुल 95 प्रतिशत अंक प्राप्त हुआ। विषयवार उसे अंग्रेजी में 94, हिन्दी व गणित में 96 तथा विज्ञान समाज विज्ञान में 94 प्रतिशत अंक प्राप्त हुए। अपने पुत्र रौनित की इस सफलता पर पीआरडीकर्मी राकेश रंजन सिन्हा तथाा उनकी पत्नी गृहिणी रेणु सिन्हा ने हर्ष व्यक्त किया है। उसे जनसम्पर्क विभाग के सभी कर्मियों ने भी बधाई देते हुए उसके उज्जवल भविष्य की कामना की है। रौनित आगे चलकर आईएएस बन देश की सेवा करना चाहता है।

पलक और साहिल बने एसएपीएस टॉपर

Palak SIngh Sahil Kumar


बोकारो : सीबीएसई बोर्ड नई दिल्ली द्वारा आयोजित एआईएसएसई (10वीं बोर्ड) की परीक्षा में बोकारो के सेक्टर-5 स्थित श्री अय्यप्पा पब्लिक स्कूल के विद्यार्थियों ने भी अच्छी सफलता प्राप्त की। परीक्षा में कुल 197 परीक्षार्थी शामिल हुए और परिणाम शत-प्रतिशत रहा। 95 प्रतिशत से अधिक चार बच्चों को अंक प्राप्त हुए। 28 विद्यार्थियों ने 90 प्रतिशत से अधिक अंक हासिल किए, वहीं 75 फीसदी से ज्यादा प्राप्तांक लाने वाले बच्चों में 105 विद्यार्थी शामिल रहे। 96.2 प्रतिशत प्राप्तांक के साथ पलक सिंह और साहिल कुमार ने संयुक्त रूप से स्कूल में प्रथम स्थान प्राप्त किया। 95.4 प्रतिशत अंक लाकर अपेक्षा मिश्रा दूसरे और 95.2 प्रतिशत अंक लाकर निशा कुमारी तृतीय स्थान पर रहीं। प्रथम स्थान प्राप्त करने वाली पलक सिंह वरीय स्वास्थ्यकर्मी मीरा सिंह की सुपुत्री है। विद्यालय के प्राचार्य लता मोहनन ने सभी सफल विद्यार्थियों को बधाई देते हुए उनके उज्जवल भविष्य की कामना की है।

  • Varnanlive Report.

Previous articleजनमत- घंटी आधारित सहायक प्राध्यापक और उनका भविष्य
Next articleचीराचास के मैथिलों को एकसूत्र में पिरोयेगा मिथिला मंच
मिथिला वर्णन (Mithila Varnan) : स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता'! DAVP मान्यता-प्राप्त झारखंड-बिहार का अतिलोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक अब न्यूज-पोर्टल के अवतार में भी नियमित अपडेट रहने के लिये जुड़े रहें हमारे साथ- facebook.com/mithilavarnan twitter.com/mithila_varnan ---------------------------------------------------- 'स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता', यही है हमारा लक्ष्य। इसी उद्देश्य को लेकर वर्ष 1985 में मिथिलांचल के गर्भ-गृह जगतजननी माँ जानकी की जन्मभूमि सीतामढ़ी की कोख से निकला था आपका यह लोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक 'मिथिला वर्णन'। उन दिनों अखण्ड बिहार में इस अख़बार ने साप्ताहिक के रूप में अपनी एक अलग पहचान बनायी। कालान्तर में बिहार का विभाजन हुआ। रत्नगर्भा धरती झारखण्ड को अलग पहचान मिली। पर 'मिथिला वर्णन' न सिर्फ मिथिला और बिहार का, बल्कि झारखण्ड का भी प्रतिनिधित्व करता रहा। समय बदला, परिस्थितियां बदलीं। अन्तर सिर्फ यह हुआ कि हमारा मुख्यालय बदल गया। लेकिन एशिया महादेश में सबसे बड़े इस्पात कारखाने को अपनी गोद में समेटे झारखण्ड की धरती बोकारो इस्पात नगर से प्रकाशित यह साप्ताहिक शहर और गाँव के लोगों की आवाज बनकर आज भी 'स्वच्छ और स्वस्थ पत्रकारिता' के क्षेत्र में निरन्तर गतिशील है। संचार क्रांति के इस युग में आज यह अख़बार 'फेसबुक', 'ट्वीटर' और उसके बाद 'वेबसाइट' पर भी उपलब्ध है। हमें उम्मीद है कि अपने सुधी पाठकों और शुभेच्छुओं के सहयोग से यह अखबार आगे और भी प्रगतिशील होता रहेगा। एकबार हम अपने सहयोगियों के प्रति पुनः आभार प्रकट करते हैं, जिन्होंने हमें इस मुकाम तक पहुँचाने में अपना विशेष योगदान दिया है।

Leave a Reply