तीन महान व्यक्तित्व : युधिष्ठिर, विदुर और श्रीकृष्ण- बुद्धिमान, विद्वान और नीतिज्ञ

0
773

महाभारत का शान्तिपर्व एक विशिष्ट आख्यान है, जिसमें भीष्म पितामह युधिष्ठिर को अपने जीवन के अनुभवों के आधार पर ज्ञान एवं उपदेश देते हैं। युधिष्ठिर ने जब पितामह पूछा- हे पितामह! संसार में ख्याति प्राप्त करने और अपने जीवन में लक्ष्य प्राप्ति के लिए प्रत्येक मनुष्य में मूल रूप से क्या गुण होने चाहिए, जिससे वह हर विपरीत स्थिति सामना कर सके और विजयी हो सके। तब भीष्म पितामह ने कालजयी श्लोक कहा- जो आज भी हर स्थिति में खरा है और स्वयं सिद्ध है-
न हि बुद्धयान्वितः प्राज्ञो नीतिशास्त्र विशारदः।
निमज्जत्यापदं प्राप्य महतीं दारुणमपि।।
अर्थात्- तीन प्रकार के व्यक्ति बुद्धिमान, विद्वान और नीतिशास्त्र में निपुण अपने जीवन में भयंकर विपत्ति आने पर भी फंसते नहीं हैं और उस विपरीत परिस्थिति से पार हो जाते हैं। उन्हें ही संसार में ख्याति और सम्मान प्राप्त होता है। बुद्धि, विद्वता और नीति के अभाव में व्यक्ति सामान्य ही रहता है, चाहे वह कितने ही उच्च कुल में उत्पन्न क्यों न हुआ हो। चाहे उसे कितना ही धन प्राप्त क्यों न हुआ हो। बुद्धि, विद्वता और नीते के अभाव में धन नष्ट हो जाते हैं। उसकी ख्याति नष्ट हो जाती है। उसके जीवन में निरन्तर विपरीत स्थितियां आती ही रहती हैं। ऐसे व्यक्तियों का भाग्य भी साथ नहीं देता है। हर स्थिति में बुद्धि, विद्वता और नीति को अपने जीव न का सबसे आवश्यक आभूषण बनाते हुए, अपनी जीवन यात्रा करें। ये तीनों बातें हर स्त्री, पुरुष पर लागू होती है।

युधिष्ठिर – बुद्धि द्वारा धर्म की रक्षा महाभारत में एक आख्यान आता है, जब पांडव वनवास में थे और धर्मराज यमराज ने युधिष्ठिर की बुद्धि को जांचने का निश्चय किया। इसी उद्देश्य से यमराज ने यक्ष का रूप धारण कर कर लिया और यक्षरूपी यमराज ने एक सरोवर के पास एक-एक करके सभी पांडवों की परीक्षा ली, जिसमें पार न करने की वजह से युधिष्ठिर को छोड़कर बाकी चारों पांडव सरोवर के पास मृत पड़े थे। जब युधिष्ठिर ने अपने सभी भाइयों को मरा हुआ पाया तब यक्ष से उनको जीवित करने को कहा। यक्ष ने ऐसा करने के लिए युधिष्ठिर के सामने एक शर्त रखी। शर्त यह थी कि यक्ष युधिष्ठिर से कुछ सवाल करेंगे और अगर युधिष्ठिर ने उनके सही जवाब दे दिये, तो वह यक्ष उनके सभी भाइयों को जीवित कर देगा। ऐसी विपरीत परिस्थिति में भी युधिष्ठिर ने अपनी बुद्धिमानी से यक्ष की परीक्षा पार कर ली और अपने सभी भाइयों को फिर से जीवित करा लिया। इसलिए कहते हैं कि बुद्धिमान मनुष्य अपनी सूझ-बूझ से हर परेशानी का हल निकाल सकता है। बुद्धिमान व्यक्ति विपरीत एवं चुनौतीपूर्ण स्थिति में भी अपना धैर्य नहीं खोता और अपने बुद्धि, विवेक से हर स्थिति, हर बाधा का निवारण निश्चित रूप से कर ही लेता है।

विदुर – विद्वता द्वारा कुरुवंश- के पतन की जानकारी कहा जाता है कि जब दुर्योधन का जन्म हुआ था, तब वह जन्म होते ही गीदड़ की तरह जोर-जोर से रोने लगा और शोर मचाने लगा। विदुर महाविद्वान थे, उन्होंने दुर्योधन को देखते ही धृतराष्ट्र को उसका त्याग कर देने की सलाह दी थी। वह जान-समझ गये थे कि यह बालक ही कौरव वंश के विनाश का कारण बनेगा। इसके अलावा विदुर ने जीवन भर अपने विद्वान होने के प्रमाण दिये हैं। वे हर समय धृतराष्ट्र को सही सलाह देते थे, लेकिन अपने पुत्रा के प्यार में धृतराष्ट्र विद्वान विदुर की बातों को समझ न सके और इसी वजह से उनके कुल का नाश हो गया। विद्वान व्यक्तियों का, ज्ञानी व्यक्तियों का सदैव सम्मान करना चाहिए, उनके द्वारा प्रदान की गयी सलाह को स्वीकार करना ही बुद्धिमानी है। विद्वानों की बात न मानने पर नुकसान ही होता है।

श्रीकृष्ण – नीति द्वारा पांडवों को महाभारत युद्ध में विजय श्रीकृष्ण एक सफल नीतिकार थे। वे सभी तरह की नीतियों के बारे में जानते थ। कौरवों ने जीवन भर पांडवों के लिए कोई न कोई परेशानियां खड़ी की, लेकिन श्रीकृष्ण ने अपनी सफल नीतियों से पांडवों की हर वक्त सहायता की। अगर पांडवों के पास श्रीकृष्ण के जैसे नीतिकार न होते तो शायद पांडव युद्ध में कभी विजयी नहीं हो पाते। उसी तरह नीतियों को जानने वाले और उनका पालन करने वाले व्यक्ति का सामने कैसी भी परेशानी आ जाये, वह उसका समाधान आसानी से कर लेता है। नीति अर्थात् नैतिक मूल्यों को ध्यान में रखते हुए बनायी गयी योजना। जीवन के किसी भी क्षेत्रा में सफलता का मार्ग नीति के बिना संभव नहीं है। यहां एक बात अच्छी तरह समझ लेनी चाहिए कि दुर्योधन ने भी एक नीति अवश्य बनायी होगी, राज्य प्राप्त करने की। परन्तु उस नीति में नैतिक मूल्यों का स्थान नहीं था। इसलिए वह कभी भी नीति नहीं बन पायी और अनीति बनकर दुर्योधन का नाश ही कर दिया। अपनी उन्नति, विकास, आगे बढ़ने के लिए नीति का निर्माण करें, न कि अनीति का।
(साभार : निखिल मंत्र विज्ञान)

  • Varnan Live.
Previous articleकामाख्या मंदिर के रहस्य, जिन्हें जान दंग रह जायेंगे आप
Next articleVastu Tips : घर में चाहिये सुख-समृद्धि तो रखें ये 5 चीजें
मिथिला वर्णन (Mithila Varnan) : स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता'! DAVP मान्यता-प्राप्त झारखंड-बिहार का अतिलोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक अब न्यूज-पोर्टल के अवतार में भी नियमित अपडेट रहने के लिये जुड़े रहें हमारे साथ- facebook.com/mithilavarnan twitter.com/mithila_varnan ---------------------------------------------------- 'स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता', यही है हमारा लक्ष्य। इसी उद्देश्य को लेकर वर्ष 1985 में मिथिलांचल के गर्भ-गृह जगतजननी माँ जानकी की जन्मभूमि सीतामढ़ी की कोख से निकला था आपका यह लोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक 'मिथिला वर्णन'। उन दिनों अखण्ड बिहार में इस अख़बार ने साप्ताहिक के रूप में अपनी एक अलग पहचान बनायी। कालान्तर में बिहार का विभाजन हुआ। रत्नगर्भा धरती झारखण्ड को अलग पहचान मिली। पर 'मिथिला वर्णन' न सिर्फ मिथिला और बिहार का, बल्कि झारखण्ड का भी प्रतिनिधित्व करता रहा। समय बदला, परिस्थितियां बदलीं। अन्तर सिर्फ यह हुआ कि हमारा मुख्यालय बदल गया। लेकिन एशिया महादेश में सबसे बड़े इस्पात कारखाने को अपनी गोद में समेटे झारखण्ड की धरती बोकारो इस्पात नगर से प्रकाशित यह साप्ताहिक शहर और गाँव के लोगों की आवाज बनकर आज भी 'स्वच्छ और स्वस्थ पत्रकारिता' के क्षेत्र में निरन्तर गतिशील है। संचार क्रांति के इस युग में आज यह अख़बार 'फेसबुक', 'ट्वीटर' और उसके बाद 'वेबसाइट' पर भी उपलब्ध है। हमें उम्मीद है कि अपने सुधी पाठकों और शुभेच्छुओं के सहयोग से यह अखबार आगे और भी प्रगतिशील होता रहेगा। एकबार हम अपने सहयोगियों के प्रति पुनः आभार प्रकट करते हैं, जिन्होंने हमें इस मुकाम तक पहुँचाने में अपना विशेष योगदान दिया है।

Leave a Reply