पूजा की सफलता के लिये एेसे करें आरती

0
477

हिन्दू संस्कृति में पूजा पाठ, अनुष्ठान, हवन, यज्ञ, आदि कर्मो में दीपक द्वारा आरती करने का विधान है। पूजा की थाली में कपूर डालकर भी आरती की जाती है। आरती के लिए दीपक अथवा थाली को किस प्रकार पकड़ना चाहिए व किस प्रकार संबंधित देवी-देवता के समक्ष घुमाया जाना चाहिए इसकी भी विधि है। यदि यह कर्म विधि अनुसार न किया जाए तो सम्पूर्ण पूजा का फल निष्फल हो जाता है। अतः आरती करते समय निम्नलिखित बातों का विशेष ध्यान रखा जाना चाहिए-

  • दीपक की आरती करते समय दीपक को अपने इष्टदेवी -देवता के सम्मुख इस प्रकार घुमाया जाना चाहिए कि घुमाते हुए ‘ऊँ’ जैसी आकृति का निर्माण हो जाए, तभी आरती सफल मानी जाती है। आरती अपनी बाईं ओर से दाईं ओर चलाएं।
  • आरती की थाली अथवा दीपक आरती के पश्चात दूसरे को आरती हेतु देने के लिए अपने दाई ओर से दें।

भिन्न- भिन्न देवी- देवताओं के समक्ष दीपक को धुमाने की संख्या भी भिन्न है, जो इस प्रकार हैं-

भगवान शिव तीन अथवा पांच बार घुमाएं

भगवान गणेश : चार बार घुमाएं।

भगवान विष्णु : बारह बार घुमाएं।

भगवान रूद्र : चैदह बार घुमाएं।

भगवान सूर्य : सात बार घुमाएं।

भगवती दुर्गाजी : नौ बार घुमाएं।

अन्य देवताओ के समक्ष: सात बार घुमाएं।

पं. योगेन्द्र For Varnan Live.

Previous articleक्यों है हमारे यहां नदियों में सिक्के डालने की परंपरा?
Next articleKesariya Balam Aavo Ni | Maithili Thakur | Tabla – Rupak Jha | Best Rajasthani Folk Song Ever 2018
मिथिला वर्णन (Mithila Varnan) : स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता'! DAVP मान्यता-प्राप्त झारखंड-बिहार का अतिलोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक अब न्यूज-पोर्टल के अवतार में भी नियमित अपडेट रहने के लिये जुड़े रहें हमारे साथ- facebook.com/mithilavarnan twitter.com/mithila_varnan ---------------------------------------------------- 'स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता', यही है हमारा लक्ष्य। इसी उद्देश्य को लेकर वर्ष 1985 में मिथिलांचल के गर्भ-गृह जगतजननी माँ जानकी की जन्मभूमि सीतामढ़ी की कोख से निकला था आपका यह लोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक 'मिथिला वर्णन'। उन दिनों अखण्ड बिहार में इस अख़बार ने साप्ताहिक के रूप में अपनी एक अलग पहचान बनायी। कालान्तर में बिहार का विभाजन हुआ। रत्नगर्भा धरती झारखण्ड को अलग पहचान मिली। पर 'मिथिला वर्णन' न सिर्फ मिथिला और बिहार का, बल्कि झारखण्ड का भी प्रतिनिधित्व करता रहा। समय बदला, परिस्थितियां बदलीं। अन्तर सिर्फ यह हुआ कि हमारा मुख्यालय बदल गया। लेकिन एशिया महादेश में सबसे बड़े इस्पात कारखाने को अपनी गोद में समेटे झारखण्ड की धरती बोकारो इस्पात नगर से प्रकाशित यह साप्ताहिक शहर और गाँव के लोगों की आवाज बनकर आज भी 'स्वच्छ और स्वस्थ पत्रकारिता' के क्षेत्र में निरन्तर गतिशील है। संचार क्रांति के इस युग में आज यह अख़बार 'फेसबुक', 'ट्वीटर' और उसके बाद 'वेबसाइट' पर भी उपलब्ध है। हमें उम्मीद है कि अपने सुधी पाठकों और शुभेच्छुओं के सहयोग से यह अखबार आगे और भी प्रगतिशील होता रहेगा। एकबार हम अपने सहयोगियों के प्रति पुनः आभार प्रकट करते हैं, जिन्होंने हमें इस मुकाम तक पहुँचाने में अपना विशेष योगदान दिया है।

Leave a Reply