वोट करें, देश गढ़ें : रेत-कलाकृति से मतदाता-जागरुकता की अपील

0
269

बोकारो। बोकारो के सुप्रसिद्ध रेत कलाकार अजय शंकर महतो हर अवसर विशेष पर अपनी रेत कलाकृति के जरिये एक खास संदेश देते रहे हैं। इन दिनों लोकतंत्र के महापर्व चुनाव के रंग में पूरा देश रंगा है और इसी खास अवसर पर अजय ने अपनी खास रेतकलाकृति से देशवासियों को उनके मतदाधिकार के प्रति जागरुक करने का प्रयास किया है।

हमेशा की तरह अजय ने चंदनकियारी प्रखंड अंतर्गत दामोदर नदी के किनारे कपाट घाट पर इस सुंदर कलाकृति को घंटों की मेहनत से तैयार किया है। महिला पुरुष मतदाताओं की आकृति, उंगली पर वोट के निशान को परिक्षित करने के साथ अपने सैंड आर्ट में अजय ने वोट करें, देश गढ़ें का नारा दिया है। सबसे नीचे “Proud to Be a Voter, Ready to Vote” लिखकर मतदान को गर्व का विषय बताया है। अजय ने कहा कि मताधिकार सभी भारतवासी का सबसे महत्वपूर्ण संवैधानिक अधिकार है, जो हमारे देश की दशा-दिशा करता है। इसलिये हरेक मतदाता अपना जरूर डालें। जिले के चंदनकियारी प्रखंड अंतर्गत सिलफोर ग्राम निवासी व रवि महतो स्मारक बी.एड. कालेज में बतौर व्याख्याता कार्यरत अजय अजय हमेशा अपना सैंड आर्टदामोदर नदी के कपाट घाट पर बनाते रहे हैं। उन्हें सैंड आर्ट के अलावा माइक्रो आर्ट, कैनवास पेंटिंग आदि में भी महारथ हासिल है।

  • Varnan Live.
Previous articleबिना दूल्हे की बारात है महागठबंधन : विनोद नारायण झा
Next articleभगवान गणपति ही विघ्नों के विनाशकर्ता
मिथिला वर्णन (Mithila Varnan) : स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता'! DAVP मान्यता-प्राप्त झारखंड-बिहार का अतिलोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक अब न्यूज-पोर्टल के अवतार में भी नियमित अपडेट रहने के लिये जुड़े रहें हमारे साथ- facebook.com/mithilavarnan twitter.com/mithila_varnan ---------------------------------------------------- 'स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता', यही है हमारा लक्ष्य। इसी उद्देश्य को लेकर वर्ष 1985 में मिथिलांचल के गर्भ-गृह जगतजननी माँ जानकी की जन्मभूमि सीतामढ़ी की कोख से निकला था आपका यह लोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक 'मिथिला वर्णन'। उन दिनों अखण्ड बिहार में इस अख़बार ने साप्ताहिक के रूप में अपनी एक अलग पहचान बनायी। कालान्तर में बिहार का विभाजन हुआ। रत्नगर्भा धरती झारखण्ड को अलग पहचान मिली। पर 'मिथिला वर्णन' न सिर्फ मिथिला और बिहार का, बल्कि झारखण्ड का भी प्रतिनिधित्व करता रहा। समय बदला, परिस्थितियां बदलीं। अन्तर सिर्फ यह हुआ कि हमारा मुख्यालय बदल गया। लेकिन एशिया महादेश में सबसे बड़े इस्पात कारखाने को अपनी गोद में समेटे झारखण्ड की धरती बोकारो इस्पात नगर से प्रकाशित यह साप्ताहिक शहर और गाँव के लोगों की आवाज बनकर आज भी 'स्वच्छ और स्वस्थ पत्रकारिता' के क्षेत्र में निरन्तर गतिशील है। संचार क्रांति के इस युग में आज यह अख़बार 'फेसबुक', 'ट्वीटर' और उसके बाद 'वेबसाइट' पर भी उपलब्ध है। हमें उम्मीद है कि अपने सुधी पाठकों और शुभेच्छुओं के सहयोग से यह अखबार आगे और भी प्रगतिशील होता रहेगा। एकबार हम अपने सहयोगियों के प्रति पुनः आभार प्रकट करते हैं, जिन्होंने हमें इस मुकाम तक पहुँचाने में अपना विशेष योगदान दिया है।

Leave a Reply