Dabangg3- अब ‘मुन्नी बदनाम…’ नहीं, ‘मुन्ना होगा बदनाम’!

0
394

बॉलीवुड के दबंग सलमान खान इन दिनों अपनी अगली फिल्म ‘दबंग 3’ की शूटिंग में व्यस्त हैं यानी बड़े परदे पर एक बार फिर से बालीवुड के दबंग अपनी दस्तक देंगे।

फिल्म का पहला शेड्यूल मध्य प्रदेश के कई हिस्सों में शूट किया गया, जो कि एक अप्रैल से शुरू हुआ था। खबरों के अनुसार अब दबंग 3 का सेकंड शेड्यूल मुंबई में शूट किया जाएगा। सेकंड शेट्यूल के तहत कुछ सीन शूट कर भी लिए हैं। यूं तो सलमान खान की हर फिल्म चर्चा में बनी रहती हैं, लेकिन दबंग सिरीज की बात ही कुछ खास है। ‘दंबग 3’ को लेकर आए दिन कुछ ना कुछ खबरें आती ही रहती हैं। ऐसे में अब सवाल ये उठ रहा है कि सलमान खान की इस फिल्म में आइटम नंबर कौन करेगा। जैसा कि हम सभी जानते हैं अरबाज खान से तलाक के बाद मलाइका अरोड़ा इस फिल्म का हिस्सा नहीं होंगी।

बता दें कि, दबंग सीरीज के फर्स्ट पार्ट में मलाइका कैमियो रोल में नजर आईं थीं। इस फिल्म में मलाइका ने ‘मुन्नी बदनाम हुई’ गाने पर सलमान के साथ जबरदस्त आइटम डांस किया था, जो काफी हिट भी हुआ था। वहीं, दबंग सीरीज की दूसरी फिल्म में करीना कपूर ने ‘फेविकोल’ गाने पर आइटम डांस किया था। मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो ‘दबंग 3’ में भी एक आइटम नंबर होगा, लेकिन इस आइटम सॉन्ग में कोई एक्ट्रेस नहीं, बल्कि सलमान खान खुद ही डांस करने वाले हैं। इस जबरदस्त आइटम सॉन्ग के बोल होंगे ‘मुन्ना बदनाम हुआ’। सूत्रों की माने तो ‘मुन्नी बदनाम हुई’ गाने के लिरिक्स में बदलाव कर इस सलमान पर फिल्माया जाएगा।

  • Varnan Live.
Previous articleINS रंजीत- 36 वर्षों के गौरवशाली युग का सुखद अंत
Next articleबिना दूल्हे की बारात है महागठबंधन : विनोद नारायण झा
मिथिला वर्णन (Mithila Varnan) : स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता'! DAVP मान्यता-प्राप्त झारखंड-बिहार का अतिलोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक अब न्यूज-पोर्टल के अवतार में भी नियमित अपडेट रहने के लिये जुड़े रहें हमारे साथ- facebook.com/mithilavarnan twitter.com/mithila_varnan ---------------------------------------------------- 'स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता', यही है हमारा लक्ष्य। इसी उद्देश्य को लेकर वर्ष 1985 में मिथिलांचल के गर्भ-गृह जगतजननी माँ जानकी की जन्मभूमि सीतामढ़ी की कोख से निकला था आपका यह लोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक 'मिथिला वर्णन'। उन दिनों अखण्ड बिहार में इस अख़बार ने साप्ताहिक के रूप में अपनी एक अलग पहचान बनायी। कालान्तर में बिहार का विभाजन हुआ। रत्नगर्भा धरती झारखण्ड को अलग पहचान मिली। पर 'मिथिला वर्णन' न सिर्फ मिथिला और बिहार का, बल्कि झारखण्ड का भी प्रतिनिधित्व करता रहा। समय बदला, परिस्थितियां बदलीं। अन्तर सिर्फ यह हुआ कि हमारा मुख्यालय बदल गया। लेकिन एशिया महादेश में सबसे बड़े इस्पात कारखाने को अपनी गोद में समेटे झारखण्ड की धरती बोकारो इस्पात नगर से प्रकाशित यह साप्ताहिक शहर और गाँव के लोगों की आवाज बनकर आज भी 'स्वच्छ और स्वस्थ पत्रकारिता' के क्षेत्र में निरन्तर गतिशील है। संचार क्रांति के इस युग में आज यह अख़बार 'फेसबुक', 'ट्वीटर' और उसके बाद 'वेबसाइट' पर भी उपलब्ध है। हमें उम्मीद है कि अपने सुधी पाठकों और शुभेच्छुओं के सहयोग से यह अखबार आगे और भी प्रगतिशील होता रहेगा। एकबार हम अपने सहयोगियों के प्रति पुनः आभार प्रकट करते हैं, जिन्होंने हमें इस मुकाम तक पहुँचाने में अपना विशेष योगदान दिया है।

Leave a Reply