INS रंजीत- 36 वर्षों के गौरवशाली युग का सुखद अंत

0
203
“INS Ranjeet”

दिल्ली ब्यूरो
नई दिल्ली :
राजपूत श्रेणी का विध्वंसक आईएनएस रंजीत अपने गौरवशाली युग का समापन करते हुए बीते हफ्ते विशाखापत्तनम के नौसेना यार्ड में आयोजित एक भव्य समारोह में सेवामुक्त हो गया। इस समारोह में वे अधिकारी और चालक दल के सदस्य भी उपस्थित रहे, जो आईएनएस रंजीत के भारतीय नौसेना में शामिल होने के समारोह के समय भी मौजूद रहे थे। इनके अलावा पिछले 36 वर्षों में आईएनएस रंजीत की सामुद्रिक यात्राओं में शामिल होने वाले अधिकारी भी इस मौके पर मौजूद थे। अंडमान निकोबार द्वीप समूह के माननीय लेफ्टिनेन्ट गवर्नर (सेवानिवृत्त) देवेन्द्र कुमार जोशी पीवीएसएम एवीएसएम वाईएसएम एनएम वीएसएम एडीसी इस समारोह के मुख्य अतिथि थे। वे आईएनएस रंजीत के जलावतरण के समय चालक दल के भी सदस्य थे। जलावतरण समारोह के चालक दल के 16 अधिकारियों और 10 नाविकों तथा 23 पूर्व कमांडिंग आॅफिसर्स की मौजूदगी ने भी इस समारोह को चार चांद लगाए।

1983 में हुआ था जलावतरण
आईएनएस रंजीत का जलावतरण 15 सितंबर, 1983 को कैप्टन विष्णु भागवत द्वारा पूर्व सोवियत संघ में किया गया था। इसने 36 वर्षों तक राष्ट्र की उल्लेखनीय सेवा की। इस पोत की कमान 27 कमांडिंग आॅफिसर्स द्वारा संभाली गई है और इसके अंतिम कमांडिंग आॅफिसर कैप्टन विक्रम सी. मेहरा ने 6 जून, 2017 को इसकी कमान संभाली थी। अपने जलावतरण के बाद से इस पोत ने 2190 दिनों तक 7,43,000 समुद्री मील की यात्रा की, जो दुनिया का 35 चक्कर लगाने के बराबर है। यह दूरी धरती एवं चंद्रमा की दूरी का करीब साढ़े तीन गुणा है। अभियानों में अग्रणी भूमिका पीआईबी सूत्रों के अनुसार इस पोत ने कई प्रमुख नौसैनिक अभियानों के दौरान अग्रणी भूमिका निभाई है और यह पूर्वी तथा पश्चिमी समुद्री तट दोनों स्थानों पर विशिष्ट सेवाएं प्रदान कर चुका है। आॅपरेशन तलवार जैसे विविध नौसैनिक अभियानों और बहुराष्ट्रीय नौसैनिक अभ्यासों में भाग लेने के अलावा यह पोत 2004 में सुनामी और 2014 में हुदहुद चक्रवात के बाद चलाए गए राहत अभियानों के दौरान भारतीय नौसेना की हितकारी भूमिका का ध्वजवाहक रहा है। नौसेना प्रमुख ने इस पोत द्वारा राष्ट्र को प्रदान की गई सेवाओं के सम्मान में 2003-2004 और 2009-2010 में इसे यूनिट साइटेशन प्रदान किया।

जीवित रहेगी भावना

6 मई, 2019 को सांझ ढलने पर राष्ट्रीय ध्वज, नौसेना की पताका और कमीशनिंग ध्वज आखिरी बार इस पोत से नीचे उतारे गए। इसके साथ ही भारतीय नौसेना में इस पोत के गौरवशाली युग का समापन हो गया। भारतीय नौसेना में आईएनएस रंजीत का युग भले ही समाप्त हो गया हो, लेकिन इसकी भावना, इस पर तैनात रह चुके प्रत्येक अधिकारी और नाविक के हृदय में सदैव जीवित रहेगी और उसके ध्येय वाक्य ‘सदा रणे जयते’ अथवा ‘युद्ध में सदैव विजयी’ समुद्री योद्धाओं की वर्तमान और भावी पीढ़ियों को प्रेरित करता रहेगा। 6 मई, 2019 को सांझ ढलने पर राष्ट्रीय ध्वज, नौसेना की पताका और कमीशनिंग ध्वज आखिरी बार इस पोत से नीचे उतारे गए। इसके साथ ही भारतीय नौसेना में इस पोत के गौरवशाली युग का समापन हो गया। भारतीय नौसेना में आईएनएस रंजीत का युग भले ही समाप्त हो गया हो, लेकिन इसकी भावना, इस पर तैनात रह चुके प्रत्येक अधिकारी और नाविक के हृदय में सदैव जीवित रहेगी और उसके ध्येय वाक्य ‘सदा रणे जयते’ अथवा ‘युद्ध में सदैव विजयी’ समुद्री योद्धाओं की वर्तमान और भावी पीढ़ियों को प्रेरित करता रहेगा।

  • Varnan Live.
Previous articleसेल सिक्योर टीएमटी से और मजबूत बनेंगे घर
Next articleDabangg3- अब ‘मुन्नी बदनाम…’ नहीं, ‘मुन्ना होगा बदनाम’!
मिथिला वर्णन (Mithila Varnan) : स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता'! DAVP मान्यता-प्राप्त झारखंड-बिहार का अतिलोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक अब न्यूज-पोर्टल के अवतार में भी नियमित अपडेट रहने के लिये जुड़े रहें हमारे साथ- facebook.com/mithilavarnan twitter.com/mithila_varnan ---------------------------------------------------- 'स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता', यही है हमारा लक्ष्य। इसी उद्देश्य को लेकर वर्ष 1985 में मिथिलांचल के गर्भ-गृह जगतजननी माँ जानकी की जन्मभूमि सीतामढ़ी की कोख से निकला था आपका यह लोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक 'मिथिला वर्णन'। उन दिनों अखण्ड बिहार में इस अख़बार ने साप्ताहिक के रूप में अपनी एक अलग पहचान बनायी। कालान्तर में बिहार का विभाजन हुआ। रत्नगर्भा धरती झारखण्ड को अलग पहचान मिली। पर 'मिथिला वर्णन' न सिर्फ मिथिला और बिहार का, बल्कि झारखण्ड का भी प्रतिनिधित्व करता रहा। समय बदला, परिस्थितियां बदलीं। अन्तर सिर्फ यह हुआ कि हमारा मुख्यालय बदल गया। लेकिन एशिया महादेश में सबसे बड़े इस्पात कारखाने को अपनी गोद में समेटे झारखण्ड की धरती बोकारो इस्पात नगर से प्रकाशित यह साप्ताहिक शहर और गाँव के लोगों की आवाज बनकर आज भी 'स्वच्छ और स्वस्थ पत्रकारिता' के क्षेत्र में निरन्तर गतिशील है। संचार क्रांति के इस युग में आज यह अख़बार 'फेसबुक', 'ट्वीटर' और उसके बाद 'वेबसाइट' पर भी उपलब्ध है। हमें उम्मीद है कि अपने सुधी पाठकों और शुभेच्छुओं के सहयोग से यह अखबार आगे और भी प्रगतिशील होता रहेगा। एकबार हम अपने सहयोगियों के प्रति पुनः आभार प्रकट करते हैं, जिन्होंने हमें इस मुकाम तक पहुँचाने में अपना विशेष योगदान दिया है।

Leave a Reply