अल्पसंख्यक और उनका ‘डर’

0
242
प्रवीण कुमार झा
वरिष्ठ विश्लेषक व समीक्षक

मुझे लगता है कि देश के हर एक अल्पसंख्यक को दिल बड़ा कर एक बार अवश्य सोचना चाहिए कि उन्होंने पिछले 50-60 वर्षों से जिनको वोट किया, बदले में उन्होंने आपको क्या दिया? तुष्टीकरण की नीति का साथ देकर कौन सी संतुष्टि मिली भला आजतक? हिन्दू जितना जातिवाद में बर्बाद हुआ, उससे कहीं ज्यादा अल्पसंख्यक एक खामखां के डर में मुख्यधारा से अलग रखे गए। नतीजा यह है कि देश के कुछेक पिछड़े इलाकों को छोड़ दें तो अल्पसंख्यक समुदाय में गरीबी, कुपोषण, अशिक्षा और कुरीतियां सर्वाधिक है।

आजतक लालू यादव या मुलायम सिंह जैसा न तो इनका कोई ऐसा नेता हुआ, जो अपने समुदाय-विशेष का भला सोचे और न ही कोई ऐसा नेता, जो इन्हें झूठे सम्प्रदायवाद के डर के एवज में क्या मिला, वो बता सकें। जो कुछ निकम्मे मिले, वो तात्कालिक फायदे के लिए या तो बोटी-बोटी काटने की बात करते मिले या फिर 20 मिनट के लिए पुलिस हटाने की बात मात्र करते रहे या किसी राजनैतिक दल के उपाध्यक्ष/प्रवक्ता बन कर ‘मोक्ष’ को पा गए …। और तो और, वो दिन भी देखा है इस देश ने, जब मस्जिद के ईमाम हिटलरी बयान जारी किया करते थे – ‘सुनो मुसलमानों, फलाना दल ने सम्प्रदायवाद से बचने को मेरे एकाउंट में इतने लाख दे दिया है, तुमलोग इस बार उनको वोट करो’ –

अफसोस कि न तो ये दल इन्हें सम्प्रदायवाद से बचा सके और न ही इस कौम विशेष को
समाज की अगड़ी पंक्ति का हिस्सा बना पाए… वही दो हाथ, दो पैर, दो आंख, कान, एक नाक, दिमाग और लाल खून रखकर भी इस समाज का बड़ा हिस्सा आज भी घुंट घुंट कर जीता है…. इस देश का होकर भी सौतेला होने की फीलिंग पाता रहता है। दरअसल, इस देश में जैसे एक फर्जी नागपुरिया फौज है, जो दशकों से हिंदुओं पर खतरा देख रहा है, ठीक वैसे ही फर्जी मौलाना, उलेमा और मदरसे वाली फौज भी है, जिन्हें इस्लाम खतरे में दिखता है। अगर नहीं दिखता है तो बस वो बच्चा, जिसका पेट नहीं भरता, वो बच्चा जो स्कूल का मुंह नहीं देख पाता, वो बच्चा जिसका समुचित इलाज नहीं हो पाता, वो औरत जो कई बच्चों के साथ तलाक की बलि चढ़ जाती है… वो भी जो पर्दे में घुंट-घुंटकर बीमारियां पालती हैं। ठंडे दिमाग से सोचिए तो पाएंगे कि न तो हिन्दू खतरे में है और न ही मुसलमान, बल्कि इस डर ने किसी को खतरे में किया है तो वो है भारत मां और उसके बच्चे।
(यह लेखक के निजी विचार हैं।)

Previous articleबिहार : एनडीए को महागठबंधन की चुनौती
Next articleजनमत : सामाजिक परिवर्तन के मायने
मिथिला वर्णन (Mithila Varnan) : स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता'! DAVP मान्यता-प्राप्त झारखंड-बिहार का अतिलोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक अब न्यूज-पोर्टल के अवतार में भी नियमित अपडेट रहने के लिये जुड़े रहें हमारे साथ- facebook.com/mithilavarnan twitter.com/mithila_varnan ---------------------------------------------------- 'स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता', यही है हमारा लक्ष्य। इसी उद्देश्य को लेकर वर्ष 1985 में मिथिलांचल के गर्भ-गृह जगतजननी माँ जानकी की जन्मभूमि सीतामढ़ी की कोख से निकला था आपका यह लोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक 'मिथिला वर्णन'। उन दिनों अखण्ड बिहार में इस अख़बार ने साप्ताहिक के रूप में अपनी एक अलग पहचान बनायी। कालान्तर में बिहार का विभाजन हुआ। रत्नगर्भा धरती झारखण्ड को अलग पहचान मिली। पर 'मिथिला वर्णन' न सिर्फ मिथिला और बिहार का, बल्कि झारखण्ड का भी प्रतिनिधित्व करता रहा। समय बदला, परिस्थितियां बदलीं। अन्तर सिर्फ यह हुआ कि हमारा मुख्यालय बदल गया। लेकिन एशिया महादेश में सबसे बड़े इस्पात कारखाने को अपनी गोद में समेटे झारखण्ड की धरती बोकारो इस्पात नगर से प्रकाशित यह साप्ताहिक शहर और गाँव के लोगों की आवाज बनकर आज भी 'स्वच्छ और स्वस्थ पत्रकारिता' के क्षेत्र में निरन्तर गतिशील है। संचार क्रांति के इस युग में आज यह अख़बार 'फेसबुक', 'ट्वीटर' और उसके बाद 'वेबसाइट' पर भी उपलब्ध है। हमें उम्मीद है कि अपने सुधी पाठकों और शुभेच्छुओं के सहयोग से यह अखबार आगे और भी प्रगतिशील होता रहेगा। एकबार हम अपने सहयोगियों के प्रति पुनः आभार प्रकट करते हैं, जिन्होंने हमें इस मुकाम तक पहुँचाने में अपना विशेष योगदान दिया है।

Leave a Reply