बाबानगरी से विरोधियों पर निशाने साध गये मोदी

0
243

चंद्रविजय प्रसाद ‘चंदन’

देवघर : चुनावी दौर में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पिछले दिनों अपने चुनावी अभियान के क्रम में बाबानगरी देवघर (बैद्यनाथ धाम) पहुंचे तथा अपने विरोधियों पर निशाने साध गये। उन्होंने कांग्रेस और उसके नेताओं का नाम लिये बगैर ही ऐसे-ऐसे शब्द-बाण चलाये कि विरोधियों की बोलती बंद हो गयी। उन्होंने कहा-

“अपनी निश्चित हार को देखते हुए कांग्रेस पार्टी के नामदार ने हार का ठीकरा दूसरे के सिर पर फोड़ने के उद्देश्य से दूसरे बल्लेबाज को बैटिंग के लिए उतारा, जो उनके गुरु हैं और वो कहते हैं कि 1984 में सिख दंगा हुआ तो हुआ। कांग्रेस अपनी हार को देखकर इस कदर बौखलाई हुई है कि अभी नामदार ने एक और बल्लेबाज को उतार दिया है।”

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का इशारा मणिशंकर अय्यर के बयानों को लेकर था। उन्होंने कहा कि नामदारों ने यह सब अपनी हार का ठीकरा अन्य के सर पर फोड़ने के लिए किया है। इसके पूर्व कुंडा एयरपोर्ट के पास बने सभास्थल पर भारी भीड़ को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने भाषण की शुरुआत बाबा बैद्यनाथ को नमन के साथ किया तथा संताली भाषा में जोहार के उद्बोधन के साथ ही भगवान बिरसा मुंडा, सिद्धो-कान्हू को नमन किया। उन्होंने कहा कि झारखण्ड की जनजातीय सांस्कृतिक विरासत, सभ्यता और संस्कृति का संरक्षण भारतीय जनता पार्टी की सरकार करने के लिए पूरी तरह प्रतिबद्ध है और जनजातीय हितों की उनके होते किसी को अनदेखी नहीं करने देंगे।
उन्होंने अपने संबोधन में एक पुरानी घटना का स्मरण करते हुए कहा कि झारखण्ड के प्रति उनके मन में अगाध श्रद्धा है जब उन्हें एक जगह एक जगह देखने को मिला कि जनजातीय लोग तीर चलाते समय अपने अंगूठे का प्रयोग नहीं करते। उन्होंने अफसोस जाहिर करते हुए कहा कि जनजातीय की सांस्कृतिक विरासत के उन्नयन के लिए दिल्ली के सरकारों ने समुचित ध्यान नहीं दिया, जबकि भाजपा के अटल बिहारी बाजपेयी ने झारखण्ड राज्य के संकल्पों को पूरा किया और अब उनकी सरकार इस दिशा में अटल जी के आदर्शों को उतारने का कार्य किया है। अपने पांच वर्षों के शासन-काल में जो किया, वह आम जनमानस के सामने है। प्रधानमंत्री ने कहा कि उनकी सरकार पूरी पारदर्शिता से कार्य करने के प्रति प्रतिबद्ध है।

घुसपैठियों को निकालेंगे बाहर
सभा को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री ने घुसपैठियों और नक्सली समस्याओं पर बोला। कहा- जितने भी घुसपैठिये हैं, उन्हें देश से बाहर निकाला जाएगा। ईस्टर के अवसर पर श्रीलंका में आतंकवाद घटनाओं पर कहा कि ऐसी घटनायें यहां नहीं घटने दी जाएगी। उन्होंने कांग्रेस पर नक्सल और आतंकवाद पर संरक्षण देने का आरोप लगाते हुए कहा कि उनकी सरकार देश से आतंकवाद की जड़ें पूरी तरह खत्म कर देगी। पाकिस्तान पर किये एयर स्ट्राइक पर चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि भारत अब घर में घुसकर मारता है।

संताल में बहेगी विकास की बयार
प्रधानमंत्री मोदी ने अपनी सरकार की उपलब्धियां गिनाते हुए कहा कि देवघर में एम्स, एयरपोर्ट,सड़कें, नई रेल लाइनें, साहेबगंज में बंदरगाह जैसी योजनाएं धरातल पर उतारी गयी हंै, ताकि संताल परगना के विकास की बयार बहाई जा सके। उन्होंने भीड़ को आश्वस्त करते हुए कहा कि वह बाबा बैद्यनाथ की इस पावन नगरी से यह बोल रहे हैं, संताल परगना को विकसित करने के लिए वह हरसम्भव कार्य करंगे।

जनता का मांगा आशीर्वाद
हर-हर मोदी,घर-घर मोदी, अबकी बार मोदी सरकार, मोदी है तो मुमकिन है जैसे गगनभेदी नारों के साथ ही उन्होंने संताल परगना के भाजपा के सभी प्रत्याशियों की जीत का आशीर्वाद जनता से मांगा। प्रधानमंत्री के इस चुनावी कार्यक्रम में उनके आगमन के पूर्व कल्याण मंत्री झारखण्ड सरकार लुइस मरांडी, मंत्री रणधीर सिंह, मंत्री राज पलिवार, पूर्व मुख्यमंत्री अर्जुन मुंडा, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष लक्ष्मण गिलुवा, आजसू के सुप्रीमो सुदेश महतो, लोकजनशक्ति पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष, महागामा विधायक अशोक भगत, राजमहल लोकसभा से भाजपा प्रत्याशी हेमलाल मुर्मू, दुमका भाजपा प्रत्याशी सुनील सोरेन, गोड्डा प्रत्याशी निशिकांत दुबे ने भी भाजपा के लिये विजय का आशीर्वाद मांगा।

मोदी की सभा में दु:साहस
देवघर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की चुनावी सभी में दु:साहस का बड़ा मामला सामने आया। सभास्थल के समीप गोली के साथ दो युवकों को दबोचा गया। उन्हें अगले दिन मेडिकल चेकअप के बाद जेल भेज दिया गया। उक्त युवकों को उस वक़्त खदेड़ कर पकड़ा गया था जब वे प्रधानमंत्री के सभास्थल के पास मुख्य द्वार पर खड़े थे और सभा स्थल में प्रवेश करने के लिए हो रही जांच को देखते हुए कुल तीन युवक पीछे मुड़कर भागने लगे। उन्हीं में से दो को खदेड़कर पकड़ा गया और एक युवक भागने में सफल रहा। गिरफ्तार युवकों में रामपुर, बैद्यनाथपुर निवासी चन्दन यादव तथा राहुल कुमार पांडेय के नाम शामिल। जबकि सुनील पोद्दार नामक युवक भागने में सफल रहा।

Previous articleHidden Talent : टाइल्स मिस्त्री की बेटी बनी जिला टॉपर
Next articleमिथिलांचल की परंपरा को जीवंतता प्रदान कर रहा “झारखंड मिथिला मंच”
मिथिला वर्णन (Mithila Varnan) : स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता'! DAVP मान्यता-प्राप्त झारखंड-बिहार का अतिलोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक अब न्यूज-पोर्टल के अवतार में भी नियमित अपडेट रहने के लिये जुड़े रहें हमारे साथ- facebook.com/mithilavarnan twitter.com/mithila_varnan ---------------------------------------------------- 'स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता', यही है हमारा लक्ष्य। इसी उद्देश्य को लेकर वर्ष 1985 में मिथिलांचल के गर्भ-गृह जगतजननी माँ जानकी की जन्मभूमि सीतामढ़ी की कोख से निकला था आपका यह लोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक 'मिथिला वर्णन'। उन दिनों अखण्ड बिहार में इस अख़बार ने साप्ताहिक के रूप में अपनी एक अलग पहचान बनायी। कालान्तर में बिहार का विभाजन हुआ। रत्नगर्भा धरती झारखण्ड को अलग पहचान मिली। पर 'मिथिला वर्णन' न सिर्फ मिथिला और बिहार का, बल्कि झारखण्ड का भी प्रतिनिधित्व करता रहा। समय बदला, परिस्थितियां बदलीं। अन्तर सिर्फ यह हुआ कि हमारा मुख्यालय बदल गया। लेकिन एशिया महादेश में सबसे बड़े इस्पात कारखाने को अपनी गोद में समेटे झारखण्ड की धरती बोकारो इस्पात नगर से प्रकाशित यह साप्ताहिक शहर और गाँव के लोगों की आवाज बनकर आज भी 'स्वच्छ और स्वस्थ पत्रकारिता' के क्षेत्र में निरन्तर गतिशील है। संचार क्रांति के इस युग में आज यह अख़बार 'फेसबुक', 'ट्वीटर' और उसके बाद 'वेबसाइट' पर भी उपलब्ध है। हमें उम्मीद है कि अपने सुधी पाठकों और शुभेच्छुओं के सहयोग से यह अखबार आगे और भी प्रगतिशील होता रहेगा। एकबार हम अपने सहयोगियों के प्रति पुनः आभार प्रकट करते हैं, जिन्होंने हमें इस मुकाम तक पहुँचाने में अपना विशेष योगदान दिया है।

Leave a Reply