बिहार : एनडीए को महागठबंधन की चुनौती

0
187

Vijay Kumar Jha

Chief Editor.

Patna : बिहार में लोकसभा की 40 और झारखंड में 14 सीटें हैं। पिछली बार 2014 में हुए 16वीं लोकसभा के चुनाव परिणाम को देखें तो एनडीए का प्रदर्शन शानदार रहा था। भाजपा ने सबसे अधिक 22 सीटों पर जीत हासिल की थी। इसके बाद लोजपा ने सबसे अधिक छह सीटों पर कब्जा जमाया था। जबकि एनडीए में तीन सीटों पर चुनाव लड़ने वाली रालोसपा ने तीनों सीट जीतकर शत-प्रतिशत सफलता पायी थी। इस प्रकार एनडीए को बिहार में कुल 31 सीटें मिली थीं। कांग्रेस 12 सीटों पर चुनाव लड़ी थी। उसे मात्र दो सीटों पर जीत हासिल हुई थी, जबकि 27 सीटों पर चुनाव लड़ने वाले राजद को मात्र चार पर ही जीत हासिल हुई थी। जदयू 38 सीटों पर चुनाव लड़ा था, लेकिन उसे दो सीट पर ही जीत मिली। जबकि इसबार भाजपा मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की पार्टी नता दल यूनाइटेड (जदयू) और राम विलास पासवान की पार्टी लोजपा के साथ मिलकर चुनाव मैदान में है। रालोसपा इस चुनाव में भाजपा-विरोधी महागठबंधन में शामिल है।

2019 के लोकसभा चुनाव में भाजपा- जदयू 17-17 सीटों पर और लोजपा 6 चुनाव लड़ रहे हैं। दूसरी ओर कांग्रेस, राजद, हम और रालोसपा साथ मिलकर चुनाव लड़ रहे हैं। इस चुनाव में पटना साहिब से पूर्व में भाजपा सांसद और अब कांग्रेस टकिट पर चुनाव लड़ रहे शत्रुघ्न सिन्हा व केन्द्रीय मंत्री व भाजपा प्रत्याशी रविशंकर प्रसाद, केन्द्रीय मंत्री आर के सिंह, गिरिराज सिंह, अश्विनी चौबे, राधामोहन सिंह, पूर्व केन्द्रीय मंत्री राजीव प्रताप रूडी व शकील अहमद, पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी, पाटलिपुत्र से लालू यादव की पुत्री मीसा भारती व रामकृपाल यादव, अर्जुन राय, अशोक यादव सहित अन्य प्रमुख उम्मीदवारों की किस्मत का फैसला 23 मई को होना है। अब देखना यह है कि बिहार में मोदी-नीतीशराम विलास का एनडीए भारी पड़ेगा या तेजस्वी यादव का महागठबंधन?

  • Varnan Live Report .
Previous articleझारखंड : कई महारथियों की प्रतिष्ठा दांव पर
Next articleअल्पसंख्यक और उनका ‘डर’
मिथिला वर्णन (Mithila Varnan) : स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता'! DAVP मान्यता-प्राप्त झारखंड-बिहार का अतिलोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक अब न्यूज-पोर्टल के अवतार में भी नियमित अपडेट रहने के लिये जुड़े रहें हमारे साथ- facebook.com/mithilavarnan twitter.com/mithila_varnan ---------------------------------------------------- 'स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता', यही है हमारा लक्ष्य। इसी उद्देश्य को लेकर वर्ष 1985 में मिथिलांचल के गर्भ-गृह जगतजननी माँ जानकी की जन्मभूमि सीतामढ़ी की कोख से निकला था आपका यह लोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक 'मिथिला वर्णन'। उन दिनों अखण्ड बिहार में इस अख़बार ने साप्ताहिक के रूप में अपनी एक अलग पहचान बनायी। कालान्तर में बिहार का विभाजन हुआ। रत्नगर्भा धरती झारखण्ड को अलग पहचान मिली। पर 'मिथिला वर्णन' न सिर्फ मिथिला और बिहार का, बल्कि झारखण्ड का भी प्रतिनिधित्व करता रहा। समय बदला, परिस्थितियां बदलीं। अन्तर सिर्फ यह हुआ कि हमारा मुख्यालय बदल गया। लेकिन एशिया महादेश में सबसे बड़े इस्पात कारखाने को अपनी गोद में समेटे झारखण्ड की धरती बोकारो इस्पात नगर से प्रकाशित यह साप्ताहिक शहर और गाँव के लोगों की आवाज बनकर आज भी 'स्वच्छ और स्वस्थ पत्रकारिता' के क्षेत्र में निरन्तर गतिशील है। संचार क्रांति के इस युग में आज यह अख़बार 'फेसबुक', 'ट्वीटर' और उसके बाद 'वेबसाइट' पर भी उपलब्ध है। हमें उम्मीद है कि अपने सुधी पाठकों और शुभेच्छुओं के सहयोग से यह अखबार आगे और भी प्रगतिशील होता रहेगा। एकबार हम अपने सहयोगियों के प्रति पुनः आभार प्रकट करते हैं, जिन्होंने हमें इस मुकाम तक पहुँचाने में अपना विशेष योगदान दिया है।

Leave a Reply