Hidden Talent : टाइल्स मिस्त्री की बेटी बनी जिला टॉपर

0
249

बोकारो : बोकारो में गुदड़ी के लाल वाली कहावत को एक बार फिर से चरितार्र्थ किया है चास स्थित कस्तूरबा गांधी आवासीय बालिका विद्यालय की छात्रा जायफा आफरीन ने। जायफा 500 में 476 अंक प्राप्त कर जिला टॉपर बनीं। वह टाइल्स मिस्त्री खुर्शीद जमाल और गृहिणी माता मनेजी बीवी की होनहार पुत्री है। जायफा ने अपनी सफलता का श्रेय अपने पिता को दिया है। कहा कि पिता की प्रेरणा से ही पढ़ाई कर रही हूं।

वह पढ़-लिखकर आगे चलकर एक डॉक्टर बनना चाहती है। उसने कहा कि समय के साथ विषयवार पढ़ाई करने से उसने यह कामयाबी पायी है। इसके लिए वह हर दिन 5-6 घंटे तक पढ़ाई करती थी। परीक्षा के समय रिवीजन पर बच्चों को खास ध्यान देना चाहिए। वहीं, जिले में दूसरे नंबर पर गायत्री कुमारी रही। इस बार मैट्रिक की परीक्षा में जिले से 30 हजार 46 परीक्षार्थी शामिल हुए थे। जिसमें से 10 हजार 743 परीक्षार्थी प्रथम, 8 हजार 951 द्वितीय और 970 विद्यार्थियों ने तीसरा स्थान प्राप्त किया। 20 हजार 664 परीक्षार्थी उत्तीर्ण हुए। बीते वर्ष की तुलना में इस वर्ष 15 प्रतिशत अधिक बच्चे पास हुए हैं। जिले में विद्यार्थियों के सफलता प्रतिशत 68.77 है। जबकि बीते वर्ष 53.14 था।

Previous articleबच्चे बढ़ाते रहें बोकारो की शैक्षणिक गरिमा : सीईओ
Next articleबाबानगरी से विरोधियों पर निशाने साध गये मोदी
मिथिला वर्णन (Mithila Varnan) : स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता'! DAVP मान्यता-प्राप्त झारखंड-बिहार का अतिलोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक अब न्यूज-पोर्टल के अवतार में भी नियमित अपडेट रहने के लिये जुड़े रहें हमारे साथ- facebook.com/mithilavarnan twitter.com/mithila_varnan ---------------------------------------------------- 'स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता', यही है हमारा लक्ष्य। इसी उद्देश्य को लेकर वर्ष 1985 में मिथिलांचल के गर्भ-गृह जगतजननी माँ जानकी की जन्मभूमि सीतामढ़ी की कोख से निकला था आपका यह लोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक 'मिथिला वर्णन'। उन दिनों अखण्ड बिहार में इस अख़बार ने साप्ताहिक के रूप में अपनी एक अलग पहचान बनायी। कालान्तर में बिहार का विभाजन हुआ। रत्नगर्भा धरती झारखण्ड को अलग पहचान मिली। पर 'मिथिला वर्णन' न सिर्फ मिथिला और बिहार का, बल्कि झारखण्ड का भी प्रतिनिधित्व करता रहा। समय बदला, परिस्थितियां बदलीं। अन्तर सिर्फ यह हुआ कि हमारा मुख्यालय बदल गया। लेकिन एशिया महादेश में सबसे बड़े इस्पात कारखाने को अपनी गोद में समेटे झारखण्ड की धरती बोकारो इस्पात नगर से प्रकाशित यह साप्ताहिक शहर और गाँव के लोगों की आवाज बनकर आज भी 'स्वच्छ और स्वस्थ पत्रकारिता' के क्षेत्र में निरन्तर गतिशील है। संचार क्रांति के इस युग में आज यह अख़बार 'फेसबुक', 'ट्वीटर' और उसके बाद 'वेबसाइट' पर भी उपलब्ध है। हमें उम्मीद है कि अपने सुधी पाठकों और शुभेच्छुओं के सहयोग से यह अखबार आगे और भी प्रगतिशील होता रहेगा। एकबार हम अपने सहयोगियों के प्रति पुनः आभार प्रकट करते हैं, जिन्होंने हमें इस मुकाम तक पहुँचाने में अपना विशेष योगदान दिया है।