बोकारो के प्रजनापन बसु को ‘NEET’ में देशभर में 72वां स्थान

0
242

बोकारो। दिल्ली पब्लिक स्कूल, बोकारो के छात्र प्रजनापन बसु को मेडिकल संस्थानों में प्रवेश के लिए आयोजित अखिल भारतीय प्रतियोगिता परीक्षा NEET-2019 में 72वां स्थान प्राप्त कर न सिर्फ बोकारो जिला बल्कि पूरे झारखंड को गौरवान्वित किया है। नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (NTA) द्वारा बुधवार को इंटरनेट पर जारी परीक्षा परिणाम के अनुसार प्रजनापन ने नीट में कुल 720 में से 681 अंक प्राप्त कर अखिल भारतीय स्तर पर 72वां रैंक प्राप्त किया है। समाचार लिखे जाने तक इस वर्ष नीट में डीपीएस बोकारो के लगभग तीन दर्जन विद्यार्थी सफल हुए हैं।

उल्लेखनीय है कि मेधावी छात्र प्रजनापन बसु ने इसके पूर्व विद्यार्थी विज्ञान मंथन, प्रफुल्ल चंद्र राय केमिस्ट्री क्वेस्ट 2019 में तथा कक्षा 11 में ‘हिमालयन अवाॅर्ड’ प्राप्त कर अपनी मेधाविता का परचम लहरा चुके हैं। ‘हिमालयन अवाॅर्ड’ के लिए राष्ट्रीय प्रतिभा खोज के तहत देशभर से कुल 18 विद्यार्थियों का चयन हुआ था, जिसमें प्रजनापन भी शामिल थे। डीपीएस बोकारो के प्राचार्य ए एस गंगवार ने नीट में प्रजनापन सहित विद्यालय के अन्य विद्यार्थियों के प्रदर्शन पर प्रसन्नता व्यक्त करते हुए उन्हें बधाई दी है और उनके उज्ज्वल भविष्य की कामना की है। विदित हो कि एमबीबीएस/बीडीएस पाठ्यक्रमों में नामांकन हेतु अब एकमात्र माध्यम नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (एनटीए) द्वारा आयोजित नीट परीक्षा ही है। राष्ट्रीय व राज्य स्तर पर आयोजित होनेवाली अन्य प्रवेश परीक्षाओं की जगह अब नीट के माध्यम से ही विद्यार्थी एमबीबीए/बीडीएस पाठ्यक्रमों में प्रवेश पाते हैं।

Previous articleहर भेदभाव भुला सबों ने कहा- ईद मुबारक, अकीदत से मनी ईद-उल-फितर
Next articleहर दिन पर्यावरण दिवस मनाने की है जरूरत : DDC
मिथिला वर्णन (Mithila Varnan) : स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता'! DAVP मान्यता-प्राप्त झारखंड-बिहार का अतिलोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक अब न्यूज-पोर्टल के अवतार में भी नियमित अपडेट रहने के लिये जुड़े रहें हमारे साथ- facebook.com/mithilavarnan twitter.com/mithila_varnan ---------------------------------------------------- 'स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता', यही है हमारा लक्ष्य। इसी उद्देश्य को लेकर वर्ष 1985 में मिथिलांचल के गर्भ-गृह जगतजननी माँ जानकी की जन्मभूमि सीतामढ़ी की कोख से निकला था आपका यह लोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक 'मिथिला वर्णन'। उन दिनों अखण्ड बिहार में इस अख़बार ने साप्ताहिक के रूप में अपनी एक अलग पहचान बनायी। कालान्तर में बिहार का विभाजन हुआ। रत्नगर्भा धरती झारखण्ड को अलग पहचान मिली। पर 'मिथिला वर्णन' न सिर्फ मिथिला और बिहार का, बल्कि झारखण्ड का भी प्रतिनिधित्व करता रहा। समय बदला, परिस्थितियां बदलीं। अन्तर सिर्फ यह हुआ कि हमारा मुख्यालय बदल गया। लेकिन एशिया महादेश में सबसे बड़े इस्पात कारखाने को अपनी गोद में समेटे झारखण्ड की धरती बोकारो इस्पात नगर से प्रकाशित यह साप्ताहिक शहर और गाँव के लोगों की आवाज बनकर आज भी 'स्वच्छ और स्वस्थ पत्रकारिता' के क्षेत्र में निरन्तर गतिशील है। संचार क्रांति के इस युग में आज यह अख़बार 'फेसबुक', 'ट्वीटर' और उसके बाद 'वेबसाइट' पर भी उपलब्ध है। हमें उम्मीद है कि अपने सुधी पाठकों और शुभेच्छुओं के सहयोग से यह अखबार आगे और भी प्रगतिशील होता रहेगा। एकबार हम अपने सहयोगियों के प्रति पुनः आभार प्रकट करते हैं, जिन्होंने हमें इस मुकाम तक पहुँचाने में अपना विशेष योगदान दिया है।

Leave a Reply