SAVE TREE, SAVE LIFE… : रेत कलाकृति बनाकर पर्यावरण-संरक्षण का संदेश

0
652

बोकारो : बोकारो के सुप्रसिद्ध सैंड आर्टिस्ट अजय शंकर महतो ने एक बार फिर से अपनी रचनात्मक कलाकृति के जरिये समाज, देश व पूरे विश्व को एक अच्छा संदेश देने का कार्य किया है। विश्व पर्यावरण दिवस (05 जून) के उपलक्ष्य में दामोदर नदी के किनारे कपाट घाट पर बनायी गयी अपनी दो-दो रेत कलाकृतियों में अजय ने “Save Tree. Save Life” यानी वृक्षों को बचायें, जीवन बचायें के स्लोगन के साथ पर्यावरण सुरक्षित बनाने का आह्वान किया है।

एक सैंड आर्ट में अजय ने सजीवता व मानवीय भाव उत्पन्न करने के दृष्टिकोण से पेड़ों में मानवीय चेहरों की आकृति उकेरी है। जड़े व तने से कटे हुए पेड़ों को हाथ फैलाकर तड़पते दिखाया है। बगल में ही पेड़ को काटने में प्रयुक्त कुल्हाड़ी की आकृति और ठीक नीचे “सेव ट्री, सेव लाइफ” का स्लोगन देकर मार्मिकतापूर्ण तरीके से अजय ने पेड़ों को बचाने का सुंदर संदेश दिया है।

जबकि दूसरी कलाकृति में हाथ में पृथ्वी थामी आकृति उकेरकर “GO GREEN – Environment Day” लिख हरित पर्यावरण बनाये जाने का संदेश दिया है। उल्लेखनीय है कि अजय हरेक अवसर-विशेष पर अपनी रेतकला का आकर्षण प्रदर्शन करते रहे हैं। जिले के चंदनकियारी प्रखंड अंतर्गत सिलफोर ग्राम निवासी व रवि महतो स्मारक बी.एड. कालेज में बतौर व्याख्याता कार्यरत अजय अजय हमेशा अपना सैंड आर्ट दामोदर नदी के कपाट घाट पर बनाते रहे हैं। उन्हें सैंड आर्ट के अलावा माइक्रो आर्ट, कैनवास पेंटिंग आदि में भी महारथ हासिल है।

  • Varnan Live Report. (05/06/2019)
Previous articleबोकारो से बिहार ले जाया जा रहा था ‘जहर’, ग्रामीणों ने नाकाम की योजना
Next articleधनतेरस और सोने का संताप
मिथिला वर्णन (Mithila Varnan) : स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता'! DAVP मान्यता-प्राप्त झारखंड-बिहार का अतिलोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक अब न्यूज-पोर्टल के अवतार में भी नियमित अपडेट रहने के लिये जुड़े रहें हमारे साथ- facebook.com/mithilavarnan twitter.com/mithila_varnan ---------------------------------------------------- 'स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता', यही है हमारा लक्ष्य। इसी उद्देश्य को लेकर वर्ष 1985 में मिथिलांचल के गर्भ-गृह जगतजननी माँ जानकी की जन्मभूमि सीतामढ़ी की कोख से निकला था आपका यह लोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक 'मिथिला वर्णन'। उन दिनों अखण्ड बिहार में इस अख़बार ने साप्ताहिक के रूप में अपनी एक अलग पहचान बनायी। कालान्तर में बिहार का विभाजन हुआ। रत्नगर्भा धरती झारखण्ड को अलग पहचान मिली। पर 'मिथिला वर्णन' न सिर्फ मिथिला और बिहार का, बल्कि झारखण्ड का भी प्रतिनिधित्व करता रहा। समय बदला, परिस्थितियां बदलीं। अन्तर सिर्फ यह हुआ कि हमारा मुख्यालय बदल गया। लेकिन एशिया महादेश में सबसे बड़े इस्पात कारखाने को अपनी गोद में समेटे झारखण्ड की धरती बोकारो इस्पात नगर से प्रकाशित यह साप्ताहिक शहर और गाँव के लोगों की आवाज बनकर आज भी 'स्वच्छ और स्वस्थ पत्रकारिता' के क्षेत्र में निरन्तर गतिशील है। संचार क्रांति के इस युग में आज यह अख़बार 'फेसबुक', 'ट्वीटर' और उसके बाद 'वेबसाइट' पर भी उपलब्ध है। हमें उम्मीद है कि अपने सुधी पाठकों और शुभेच्छुओं के सहयोग से यह अखबार आगे और भी प्रगतिशील होता रहेगा। एकबार हम अपने सहयोगियों के प्रति पुनः आभार प्रकट करते हैं, जिन्होंने हमें इस मुकाम तक पहुँचाने में अपना विशेष योगदान दिया है।

Leave a Reply