जल्द प्रखंड बनेंगे पिंड्राजोरा और बरमसिया

0
227

मंत्री अमर बाउरी ने दिया कैबिनेट में प्रस्ताव लाने का आश्वासन

संजय भारद्वाज
चंदनकियारी :
प्रधानमंत्री किसान सम्मान व मुख्यमंत्री कृषि आशीर्वाद योजना का लाभ चंदनकियारी प्रखण्ड के सभी 45 हजार किसान परिवारों व चास प्रखण्ड के किसानों को भी मिलेंगे। इसके लिए 14 जून तक सम्बन्धित अंचल कार्यालय में लाभुकों को आवेदन करना अनिवार्य है। उक्त बातें स्थानीय विधायक सह सूबे के भू राजस्व मंत्री अमर कुमार बाउरी ने चंदनकियारी स्थित अपने आवासीय कार्यालय में आयोजित प्रेसवार्ता के दौरान कही। कहा कि इसी माह की 25 तारीख से सम्मान निधि के राशि का समायोजन किसानों के बैंक खाते में शुरू हो जायेगा। इसके लिए लाभुकों को जमीन सम्बन्धी कागजात व वंशावली समेत बैंक खाते का डिटेल्स अंचल कार्यालय में 14 जून तक जमा करना अनिवार्य है। उन्होंने चंदनकियारी अंचलाधिकारी अनिल सिंह व चास सीओ को भी मौके पर त्वरित कार्यवाही का निर्देश देते हुए ग्रामीणों को योजना से सम्बंधित फॉर्म उपलब्ध कराने व दस्तावेजों के डाटा इंट्री जल्द से जल्द करने का निर्देश दिया।
प्रेसवार्ता के दौरान मौजूद कार्यकताओं व ग्रामीणों ने बरमसिया की छह पंचायतों को पिंड्राजोरा प्रखण्ड में सम्मिलित करने के प्रस्ताव पर नाराजगी जाहिर की। इस पर मंत्री ने कहा- घबराएं नहीं, चंदनकियारी के किसी पंचायत को पिंड्राजोरा प्रखण्ड में नहीं मिलाया जाएगा, बल्कि पिंड्राजोरा के साथ-साथ बरमसिया को भी प्रखण्ड का दर्जा प्राप्त होगा। इसके लिए जल्द ही राज्य मंत्रिमंडल के कैबिनेट में प्रस्ताव लाकर पारित कराया जाएगा, ताकि सुदूरवर्ती पंचायत के लोगों को जनहित के कार्यों के लिए सहूलियत हो। मौके पर अंचलाधिकारी चास व चंदनकियारी, कृपानाथ मुखर्जी, अनुकूल ओझा, सुबोध चक्रवर्ती, विनोद गोराई, नारायण साव, महादेव महथा, अजीत महतो आदि मौजूद थे।

  • For Varnan Live.
Previous articleशैक्षणिक संस्थान नहीं, ये आर्थिक उपक्रम हैं
Next article15000 एलईडी बल्बों से जगमगायेगा चास
मिथिला वर्णन (Mithila Varnan) : स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता'! DAVP मान्यता-प्राप्त झारखंड-बिहार का अतिलोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक अब न्यूज-पोर्टल के अवतार में भी नियमित अपडेट रहने के लिये जुड़े रहें हमारे साथ- facebook.com/mithilavarnan twitter.com/mithila_varnan ---------------------------------------------------- 'स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता', यही है हमारा लक्ष्य। इसी उद्देश्य को लेकर वर्ष 1985 में मिथिलांचल के गर्भ-गृह जगतजननी माँ जानकी की जन्मभूमि सीतामढ़ी की कोख से निकला था आपका यह लोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक 'मिथिला वर्णन'। उन दिनों अखण्ड बिहार में इस अख़बार ने साप्ताहिक के रूप में अपनी एक अलग पहचान बनायी। कालान्तर में बिहार का विभाजन हुआ। रत्नगर्भा धरती झारखण्ड को अलग पहचान मिली। पर 'मिथिला वर्णन' न सिर्फ मिथिला और बिहार का, बल्कि झारखण्ड का भी प्रतिनिधित्व करता रहा। समय बदला, परिस्थितियां बदलीं। अन्तर सिर्फ यह हुआ कि हमारा मुख्यालय बदल गया। लेकिन एशिया महादेश में सबसे बड़े इस्पात कारखाने को अपनी गोद में समेटे झारखण्ड की धरती बोकारो इस्पात नगर से प्रकाशित यह साप्ताहिक शहर और गाँव के लोगों की आवाज बनकर आज भी 'स्वच्छ और स्वस्थ पत्रकारिता' के क्षेत्र में निरन्तर गतिशील है। संचार क्रांति के इस युग में आज यह अख़बार 'फेसबुक', 'ट्वीटर' और उसके बाद 'वेबसाइट' पर भी उपलब्ध है। हमें उम्मीद है कि अपने सुधी पाठकों और शुभेच्छुओं के सहयोग से यह अखबार आगे और भी प्रगतिशील होता रहेगा। एकबार हम अपने सहयोगियों के प्रति पुनः आभार प्रकट करते हैं, जिन्होंने हमें इस मुकाम तक पहुँचाने में अपना विशेष योगदान दिया है।

Leave a Reply