निखिल-संदेश का वाहक बन घूम रहा “निखिल चेतना रथ”

0
251

संवाददाता
बोकारो :
भगवान श्रीराम की जन्मभूमि अयोध्या से चलकर देशभर में गुरु महिमा और निखिल-संदेश का वाहक बनकर चला निखिल चेतना रथ का जगह-जगह भव्य स्वागत हो रहा है। बोकारो जिले के फुसरो के बाद चास और सेक्टर-12डी स्थित निखिल पारदेश्वर महादेव मंदिर में आने पर चास-बोकारो सहित जिलेभर से जुटे दर्जनों निखिल शिष्यों ने पूरी गर्मजोशी के साथ रथ का भव्य स्वागत किया। साधकों ने गुरु-पूजन और गुरु-आरती संपन्न की। इस दौरान आसपास का पूरा इलाका जय गुरुदेव और हर-हर महादेव के गगनभेदी घोष से गुंजरित होता रहा। स्थानीय लोगों ने रथ के साथ आये सारथी संजय दुबे सहित दिगम्बर मिश्रा, रामकेश चैधरी, बृजराज आदि का स्वागत-सत्कार किया। सारथी संजय दुबे ने कहा कि अयोध्या से यहां तक आने में हर जगह गुरु भाई-बहनों का उन्हें प्रेम व सत्कार मिला। दिगम्बर मिश्र ने कहा कि यहां के बाद यह रथयात्रा बंगाल और झारखंड के जमशेदपुर से होते हुए बिहार के लिये रवाना हो जायेगी।
सिद्धाश्रम साधक परिवार (निखिल मंत्र विज्ञान) के बोकारो शाखा महासचिव विजय कुमार झा ने बताया कि आगामी 15-16 जुलाई को भगवान राम की धरती अयोध्या स्थित कार सेवकपुरम (जानकी घाट) में श्रीराम राजयोग गुरु पूर्णिमा महोत्सव साधना शिविर का आयोजन किया जा रहा है। इसमें देश-विदेश से हजारों की संख्या में साधक-साधिकायें शामिल होंगे। शिविर के प्रचार-प्रसार तथा अधिकाधिक साधकों की सहभागिता को लेकर ही यह निखिल चेतना रथ जगह-जगह घूम-घूमकर निखिल-महिमा और गुरु-भजनों के साथ अध्यात्म रस की सरिता प्रवाहित करता चल रहा है। मौके पर स्थानीय साधकों में विजय कुमार झा सहित योगेन्द्र कुमार सिंह उर्फ जेलर सिंह, डा. पीएन सिंह, अमरेंद्र कुमार सिंह, सुचीत कुमार सिंह, रमेश चंद्रा, आदित्य आनंद, डा. आरएन प्रसाद, बहादुर सिंह, चंद्र प्रभावती देवी, नागेंद्र, ममता शुक्ला, गंगेश पाठक, विष्णु देव, दीपक झा आदि मौजूद थे।

Previous articleमुजफ्फरपुर में महामारी, अब तक 133 बच्चों की मौत
Next articleमिथिला के लाल साकेत बने गृहमंत्री के निजी सचिव
मिथिला वर्णन (Mithila Varnan) : स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता'! DAVP मान्यता-प्राप्त झारखंड-बिहार का अतिलोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक अब न्यूज-पोर्टल के अवतार में भी नियमित अपडेट रहने के लिये जुड़े रहें हमारे साथ- facebook.com/mithilavarnan twitter.com/mithila_varnan ---------------------------------------------------- 'स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता', यही है हमारा लक्ष्य। इसी उद्देश्य को लेकर वर्ष 1985 में मिथिलांचल के गर्भ-गृह जगतजननी माँ जानकी की जन्मभूमि सीतामढ़ी की कोख से निकला था आपका यह लोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक 'मिथिला वर्णन'। उन दिनों अखण्ड बिहार में इस अख़बार ने साप्ताहिक के रूप में अपनी एक अलग पहचान बनायी। कालान्तर में बिहार का विभाजन हुआ। रत्नगर्भा धरती झारखण्ड को अलग पहचान मिली। पर 'मिथिला वर्णन' न सिर्फ मिथिला और बिहार का, बल्कि झारखण्ड का भी प्रतिनिधित्व करता रहा। समय बदला, परिस्थितियां बदलीं। अन्तर सिर्फ यह हुआ कि हमारा मुख्यालय बदल गया। लेकिन एशिया महादेश में सबसे बड़े इस्पात कारखाने को अपनी गोद में समेटे झारखण्ड की धरती बोकारो इस्पात नगर से प्रकाशित यह साप्ताहिक शहर और गाँव के लोगों की आवाज बनकर आज भी 'स्वच्छ और स्वस्थ पत्रकारिता' के क्षेत्र में निरन्तर गतिशील है। संचार क्रांति के इस युग में आज यह अख़बार 'फेसबुक', 'ट्वीटर' और उसके बाद 'वेबसाइट' पर भी उपलब्ध है। हमें उम्मीद है कि अपने सुधी पाठकों और शुभेच्छुओं के सहयोग से यह अखबार आगे और भी प्रगतिशील होता रहेगा। एकबार हम अपने सहयोगियों के प्रति पुनः आभार प्रकट करते हैं, जिन्होंने हमें इस मुकाम तक पहुँचाने में अपना विशेष योगदान दिया है।

Leave a Reply