पैसे के अभाव में US नहीं जा पा रही मोनालिसा

0
353
अपनी मां के साथ राष्ट्रीय लॉन टेनिस खिलाड़ी मोनालिसा।

बदहाली के दौर में झारखंड की एकमात्र लॉन टेनिस खिलाड़ी

प्रधानमंत्री व मुख्यमंत्री से लगायी मदद की गुहार

संजय भारद्वाज

चंदनकियारी (बोकारो) : झारखण्ड की एकमात्र राष्ट्रीय स्तर की लॉन टेनिस के खिलाड़ी मोनालिसा चक्रवर्ती का टेनिस प्रशिक्षण के लिए यूएस में हो चुका है। इसके लिए उसे यूएस सरकार द्वारा 80 प्रतिशत तक स्कॉलरशिप भी मुहैया करवाने की बात कही गयी है, परन्तु परिवार की आर्थिक स्थिति अच्छी नही होने के कारण बाकी राशि उपलब्ध नही हो पायी। इस कारण मोनालिसा ने राज्य सरकार से मदद की गुहार भी लगाई, परन्तु अभी तक राज्य सरकार द्वारा इस दिशा में पहल नहीं दिख सकी है। ऐसे में मोनालिसा ने अब देश के प्रधानमंत्री व राज्य के मुख्यमंत्री से इस दिशा में मदद की गुहार लगायी है। 
क्या लिखा है पत्र में पीएम व सीएम को दिये गये अपने पत्र में मोनालिसा चक्रवर्ती ने लिखा है कि वह झारखंड की एकमात्र महिला लॉन टेनिस खिलाड़ी है।
कहा कि, ‘विगत 13 साल से मैं झारखंड के लिए खेल रही हूं। मेरे पिता की मृत्यु के बाद मेरी मां ने अकेले मुझे राष्ट्रीय स्तर तक पहुंचाया। वर्ष 2016 से मुझे झारखंड सरकार आर्थिक मदद दे रही है। अब मुझे अंतराष्ट्रीय ट्रेनिंग की ज़रूरत है, इसलिए पिछले साल सरकार ने मुझे अंतराष्ट्रीय टेनिस ट्रेनिंग स्कॉलरशिप के कार्यवाही के लिए भी मदद की। मुझे यूएस में टेनिस खेलने के लिए 80 प्रतिशत स्कॉलरशिप मिली। मैंने सभी चयन टूर्नामेंट प्रतियोगिता खेल सफलता पायी। इसके कारण मुझे यूएस से 80 प्रतिशत स्कॉलरशिप दी। मेरा बाक़ी का 20 प्रतिशत राशि का खर्च सिर्फ़ रहने और खाने का है, जिसके लिए मैंने झारखंड सरकार से मदद मांगी।’

…तो होगी राज्य की बदनामी

मोनालिसा ने अपने पत्र में लिखा है कि यूएस में उसका नामांकन को लेकर सारी कार्यवाही हो चुकाीहैं। अगर अभी वह नामांकन से इनकार करती है तो वो उसे डिस्क्वालिफाई कर देंगे और किसी भी देश में उसे खेलने की अनुमति नहीं मिलेगी। जाहिर है एेसा अगर होता है तो यह केवल मोनालिसा की ही परेशानी नहीं होगी, बल्कि पूरे झारखंड और भारत की साख पर इसका बुरा असर पड़ेगा।

 अंतिम घड़ी में इनकार

मोनालिसा का कहना है कि इतने दिन सरकार ने मदद करने का भरोसा दिया, लेकिन अंतिम तिथि के एक दिन पहले सहायता प्रदान करने से इनकार किया जा रहा है। उसने कहा-  यह जानते हुए कि इस फ़ैसले से मेरा पूरा कैरियर ख़त्म हो जाएगा। मेरी इसमें क्या ग़लती है कि मेरी मां उक्त राशि खर्च करने में असमर्थ है? मेरे लिए सबसे दुर्भाग्य है कि मेरे पिता नहीं है और मेरी मां किसी बड़े पद पर नहीं हैं। अगर मेरा 13 साल का संघर्ष और मेरा कैरियर ख़त्म होने के कगार में हैं तो इस उपरांत सिर्फ मैं प्रधानमंत्री जी और मुख्यमंत्री जी से अनुरोध करूंगी कि हमें अंतरराष्ट्रीय प्रशिक्षण के लिए आर्थिक मदद की जाय।

  • Special Report for “Varnan Live”.
Previous articleजून के अंत तक मिलेगा मतदानकर्मियों को मानदेय
Next articleNew Priorities for New Government
मिथिला वर्णन (Mithila Varnan) : स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता'! DAVP मान्यता-प्राप्त झारखंड-बिहार का अतिलोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक अब न्यूज-पोर्टल के अवतार में भी नियमित अपडेट रहने के लिये जुड़े रहें हमारे साथ- facebook.com/mithilavarnan twitter.com/mithila_varnan ---------------------------------------------------- 'स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता', यही है हमारा लक्ष्य। इसी उद्देश्य को लेकर वर्ष 1985 में मिथिलांचल के गर्भ-गृह जगतजननी माँ जानकी की जन्मभूमि सीतामढ़ी की कोख से निकला था आपका यह लोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक 'मिथिला वर्णन'। उन दिनों अखण्ड बिहार में इस अख़बार ने साप्ताहिक के रूप में अपनी एक अलग पहचान बनायी। कालान्तर में बिहार का विभाजन हुआ। रत्नगर्भा धरती झारखण्ड को अलग पहचान मिली। पर 'मिथिला वर्णन' न सिर्फ मिथिला और बिहार का, बल्कि झारखण्ड का भी प्रतिनिधित्व करता रहा। समय बदला, परिस्थितियां बदलीं। अन्तर सिर्फ यह हुआ कि हमारा मुख्यालय बदल गया। लेकिन एशिया महादेश में सबसे बड़े इस्पात कारखाने को अपनी गोद में समेटे झारखण्ड की धरती बोकारो इस्पात नगर से प्रकाशित यह साप्ताहिक शहर और गाँव के लोगों की आवाज बनकर आज भी 'स्वच्छ और स्वस्थ पत्रकारिता' के क्षेत्र में निरन्तर गतिशील है। संचार क्रांति के इस युग में आज यह अख़बार 'फेसबुक', 'ट्वीटर' और उसके बाद 'वेबसाइट' पर भी उपलब्ध है। हमें उम्मीद है कि अपने सुधी पाठकों और शुभेच्छुओं के सहयोग से यह अखबार आगे और भी प्रगतिशील होता रहेगा। एकबार हम अपने सहयोगियों के प्रति पुनः आभार प्रकट करते हैं, जिन्होंने हमें इस मुकाम तक पहुँचाने में अपना विशेष योगदान दिया है।

Leave a Reply