मिथिला के लाल साकेत बने गृहमंत्री के निजी सचिव

0
260

मधुबनी : मधुबनी के वरिष्ठ शिक्षाविद सतीश कुमार के होनहार बेटे व वर्ष 2009 बैच के आईएएस अधिकारी साकेत कुमार मिश्र गृहमंत्री अमित शाह के निजी सचिव बनाये गये हैं। मधुबनीवासियों ने मिथिला के इस लाल को यह नया मुकाम मिलने पर हर्ष व्यक्त किया है। स्थानीय लोगों ने कहा कि श्री कुमार की इस नियुक्ति से समस्त मिथिलावासी गौरवान्वित महसूस कर रहे हैं।

साकेत वर्ष 2018 से केंद्रीय प्रतिनियुक्ति पर हैैं। हाल तक वह पूर्व केंद्रीय मंत्री मनोज सिन्हा के निजी सचिव थे। केंद्रीय प्रतिनियुक्ति पर जाने के पूर्व वह भवन निर्माण विभाग में अपर सचिव के रूप में तैनात थे। साकेत ने अपनी स्कूल की पढ़ाई डॉनबास्को मधुबनी व मॉडल स्कूल दिल्ली से की है। स्नातक व पीजी की पढ़ाई दिल्ली के हिंदू कॉलेज से की है। सिविल सर्विसेस की तैयारी के दौर में अपने दूसरे प्रयास में उन्होंने संघ लोक सेवा आयोग में सफलता प्राप्त की।

Previous articleनिखिल-संदेश का वाहक बन घूम रहा “निखिल चेतना रथ”
Next articleजानिये कपूर तेल के सेहतमंद फायदे
मिथिला वर्णन (Mithila Varnan) : स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता'! DAVP मान्यता-प्राप्त झारखंड-बिहार का अतिलोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक अब न्यूज-पोर्टल के अवतार में भी नियमित अपडेट रहने के लिये जुड़े रहें हमारे साथ- facebook.com/mithilavarnan twitter.com/mithila_varnan ---------------------------------------------------- 'स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता', यही है हमारा लक्ष्य। इसी उद्देश्य को लेकर वर्ष 1985 में मिथिलांचल के गर्भ-गृह जगतजननी माँ जानकी की जन्मभूमि सीतामढ़ी की कोख से निकला था आपका यह लोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक 'मिथिला वर्णन'। उन दिनों अखण्ड बिहार में इस अख़बार ने साप्ताहिक के रूप में अपनी एक अलग पहचान बनायी। कालान्तर में बिहार का विभाजन हुआ। रत्नगर्भा धरती झारखण्ड को अलग पहचान मिली। पर 'मिथिला वर्णन' न सिर्फ मिथिला और बिहार का, बल्कि झारखण्ड का भी प्रतिनिधित्व करता रहा। समय बदला, परिस्थितियां बदलीं। अन्तर सिर्फ यह हुआ कि हमारा मुख्यालय बदल गया। लेकिन एशिया महादेश में सबसे बड़े इस्पात कारखाने को अपनी गोद में समेटे झारखण्ड की धरती बोकारो इस्पात नगर से प्रकाशित यह साप्ताहिक शहर और गाँव के लोगों की आवाज बनकर आज भी 'स्वच्छ और स्वस्थ पत्रकारिता' के क्षेत्र में निरन्तर गतिशील है। संचार क्रांति के इस युग में आज यह अख़बार 'फेसबुक', 'ट्वीटर' और उसके बाद 'वेबसाइट' पर भी उपलब्ध है। हमें उम्मीद है कि अपने सुधी पाठकों और शुभेच्छुओं के सहयोग से यह अखबार आगे और भी प्रगतिशील होता रहेगा। एकबार हम अपने सहयोगियों के प्रति पुनः आभार प्रकट करते हैं, जिन्होंने हमें इस मुकाम तक पहुँचाने में अपना विशेष योगदान दिया है।

Leave a Reply