JEE Advance 2019 में चिन्मय विद्यालय का उत्कृष्ट प्रदर्शन

0
520

45 से ज्यादा विद्यार्थी सफल, यश को 840वां रैंक

  • Varnan Live Correspondent.
    बोकारो : देश के सर्वाधिक प्रतिष्ठित इंजीनियरिंग संस्थान आईआईटी की प्रवेश परीक्षा जेईई एडवांस 2019 में भी स्थानीय चिन्मय विद्यालय के छात्र-छात्राओं ने अपनी प्रतिभा का लोहा मनवाया है। बोकारो के गरिमामय इतिहास को बरकरार रखते  इस स्कूल के 45 से अधिक विद्यार्थियों ने सफलता पायी है। छात्र यश वर्णवाल ने 840वां रैंक (जेनरल), चितरंजन हेम्ब्रम 533वां (अनु. जाति श्रेणी) स्थान प्राप्त किया।
    सफल छात्रों में अनीश साप्रिया, मिलन कुमार, गौतम कुमार, शुभम, सौरभ कुमार, आदित्य झा, अनुज कुमार, मनदीप, मितेश कुमार, श्रेया सिंह, रितेश महतों, अनिकेत अग्रवाल, प्रियंका सिन्हा, अभिषेक कुमार, वेदांत अग्रवाल, मनीष कुमार, कार्तिक सिन्हा, सिद्धांत जैन, मेहुल सिंह, रौशन कुमार दास, आदित्य कुमार, रवि राज, उमंग अनंत, शुभम कुमार राउत, अमित कुमार सहित 45 से ज्यादा छात्रों ने अच्छी सफलता पायी। 
    छात्रों के इस शानदार प्रदर्शन से विद्यालय में हर्ष उल्लास का माहौल है। चिन्मय मिशन, बोकारो की आचार्य स्वामिनी संयुक्तानंद सरस्वती, विद्यालय प्रबंध समिति के अध्यक्ष बी. मुखोपाध्याय, सचिव महेश त्रिपाठी, प्रभारी-प्राचार्य अशोक कुमार झा, वरीय शिक्षक शंभुनाथ झा, नरमेन्द्र कुमार, अमरेन्द्र उपाध्याय, केशव कुमार तिवारी, गोपाल चंद्र मुशी, लीला सिंह, सुधा बाला, कुमारी निशा, संजीव सिंह, उत्पल मित्रा, चंदन कुमार, सुनील कुमार आदि ने सफल बच्चों को बधाई देते हुए उनके उज्जवल भविष्य की कामना की है। 
Previous article‘बलिदान’ पर ICC की दोहरी नीति क्यों?
Next articleजून के अंत तक मिलेगा मतदानकर्मियों को मानदेय
मिथिला वर्णन (Mithila Varnan) : स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता'! DAVP मान्यता-प्राप्त झारखंड-बिहार का अतिलोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक अब न्यूज-पोर्टल के अवतार में भी नियमित अपडेट रहने के लिये जुड़े रहें हमारे साथ- facebook.com/mithilavarnan twitter.com/mithila_varnan ---------------------------------------------------- 'स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता', यही है हमारा लक्ष्य। इसी उद्देश्य को लेकर वर्ष 1985 में मिथिलांचल के गर्भ-गृह जगतजननी माँ जानकी की जन्मभूमि सीतामढ़ी की कोख से निकला था आपका यह लोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक 'मिथिला वर्णन'। उन दिनों अखण्ड बिहार में इस अख़बार ने साप्ताहिक के रूप में अपनी एक अलग पहचान बनायी। कालान्तर में बिहार का विभाजन हुआ। रत्नगर्भा धरती झारखण्ड को अलग पहचान मिली। पर 'मिथिला वर्णन' न सिर्फ मिथिला और बिहार का, बल्कि झारखण्ड का भी प्रतिनिधित्व करता रहा। समय बदला, परिस्थितियां बदलीं। अन्तर सिर्फ यह हुआ कि हमारा मुख्यालय बदल गया। लेकिन एशिया महादेश में सबसे बड़े इस्पात कारखाने को अपनी गोद में समेटे झारखण्ड की धरती बोकारो इस्पात नगर से प्रकाशित यह साप्ताहिक शहर और गाँव के लोगों की आवाज बनकर आज भी 'स्वच्छ और स्वस्थ पत्रकारिता' के क्षेत्र में निरन्तर गतिशील है। संचार क्रांति के इस युग में आज यह अख़बार 'फेसबुक', 'ट्वीटर' और उसके बाद 'वेबसाइट' पर भी उपलब्ध है। हमें उम्मीद है कि अपने सुधी पाठकों और शुभेच्छुओं के सहयोग से यह अखबार आगे और भी प्रगतिशील होता रहेगा। एकबार हम अपने सहयोगियों के प्रति पुनः आभार प्रकट करते हैं, जिन्होंने हमें इस मुकाम तक पहुँचाने में अपना विशेष योगदान दिया है।

Leave a Reply