एक महायुद्ध ऐसा भी…!

0
300
Symbolic Photo (Courtesy : Google Images)
Kunwar Gaurav Singh

वर्ल्ड वार- 2, जब पहली बार युद्ध इंसानों के बीच न होकर वैज्ञानिक अविष्कारों के बीच हुआ, जिसमें इंसानों को अपना आहार बनाकर विज्ञान ने विशाल और विनाशकारी रूप लेना शुरू किया। यह माना जाता है कि उस वक्त कई बड़े तकनीकी और स्वास्थ्य-संबंधी अविष्कार हुए, परंतु क्या उनमें से कोई भी अविष्कार इंसान की उम्र बढ़ा सका? समय के साथ औसत उम्र कम ही होता गया, अर्थात जितना हम बिना वैज्ञानिक सफलता के जिया करते थे, अब उतना भी नहीं जीते। डिजिटल दुनिया की पहली नींव भी सन 1939 में ही रखी गयी एलन तुरिंग द्वारा, पर प्रश्न यह है कि क्या इस अविष्कार ने हमें मेहनती बनाया या आलसी?

कहते हैं विज्ञान श्राप या वरदान, उसके इस्तेमाल के आधार पर बन जाता है। उचित इस्तेमाल तो वरदान, वरना अभिशाप, पर हम भूल जाते हैं कि इंसान को आसान रास्ता पसंद आता है, भले उसे पता हो कि मेहनत सही रास्ता है। हर अविष्कार को इंसान खुद के विनाश के लिए प्रयोग करता रहा, मानो सब भस्मासुर के ही वंशज हों।

दवाइयां बनीं तो चिकित्सालय व्यापार और चिकित्सक व्यापारी बन गया, जो एक पर्चे पर फ७ लिखकर आपकी महीने भर की कमाई एक पल में निगल जाता है। हाइब्रिड ने सब्जियों और अनाजों को जहर बना डाला, जो पेट तो ज्यादा लोगों की भरता रहा, पर जहर बनकर। इससे तो अच्छा होता हम वैज्ञानिक की जगह इंसान बनते और दो-दो निवाला आपस में बांटकर खाते। गाड़ियां आईं तो कोलेस्ट्रॉल बढ़ा दिया, प्रदूषण से सांस लेना दूभर हो गया, शरीर पर चर्बी की परत बढ़ती रही और दिमाग में पता नहीं कैसे गाड़ियां स्टेटस सिंबल बन गईं। मोबाइल ने दूरियां घटा दी या बढ़ा दी, आप स्वयं तय करें, कागजी मुद्रा के आने के बाद अब डिजिटल मुद्रा! राजनीति की जगह कूटनीति! इंसानियत की जगह हैवानियत! वाह क्या अविष्कार है! प्रकृति के मुंह पर विज्ञान एक तमाचा से ज्यादा कुछ नहीं रह गया।

आप सोच रहे होंगे कि यह लेख नकारात्मकता से भरा है, क्योंकि ऐसा सोचना आसान है, पर सच तो यह है कि खुद विज्ञान भी हमारी नकारात्मक, आलसी और विध्वंशक ऊर्जा का शिकार है। हमने बौद्धिक क्षमता बढ़ाने के अविष्कारों की जगह कैलकुलेटर बनाना आसान समझा। ओछी सोच का इलाज ढूंढ़ लेने से कई गुप्त रोगों का जन्म ही नहीं हो पाता। समाज को कानून की नहीं, सोच में बदलाव की जरूरत ज्यादा रही है, पर हम आज भी परेशानियों की जड़ की जगह शाखाएं काटने की कोशिश में उलझे हैं।
चलिए! अब यह लेख खत्म हुआ, समर्थन और विरोध दोनों ही अलग-अलग मस्तिष्क में आ रहे होंगे, पर बदलाव नहीं आएगा। इसलिए समापन करते हैं, क्योंकि किसी महापुरुष ने कहा है कि भगत सिंह का अवतार सब चाहते हैं, पर अपने नहीं, पड़ोसी के घर में।

(लेखक युवा साहित्यकार व समीक्षक हैं।)

Previous articleखदानों में विशाल जलभंडार, फिर भी हाहाकार!
Next articleमैथिली कविता : योग जीवन
मिथिला वर्णन (Mithila Varnan) : स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता'! DAVP मान्यता-प्राप्त झारखंड-बिहार का अतिलोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक अब न्यूज-पोर्टल के अवतार में भी नियमित अपडेट रहने के लिये जुड़े रहें हमारे साथ- facebook.com/mithilavarnan twitter.com/mithila_varnan ---------------------------------------------------- 'स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता', यही है हमारा लक्ष्य। इसी उद्देश्य को लेकर वर्ष 1985 में मिथिलांचल के गर्भ-गृह जगतजननी माँ जानकी की जन्मभूमि सीतामढ़ी की कोख से निकला था आपका यह लोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक 'मिथिला वर्णन'। उन दिनों अखण्ड बिहार में इस अख़बार ने साप्ताहिक के रूप में अपनी एक अलग पहचान बनायी। कालान्तर में बिहार का विभाजन हुआ। रत्नगर्भा धरती झारखण्ड को अलग पहचान मिली। पर 'मिथिला वर्णन' न सिर्फ मिथिला और बिहार का, बल्कि झारखण्ड का भी प्रतिनिधित्व करता रहा। समय बदला, परिस्थितियां बदलीं। अन्तर सिर्फ यह हुआ कि हमारा मुख्यालय बदल गया। लेकिन एशिया महादेश में सबसे बड़े इस्पात कारखाने को अपनी गोद में समेटे झारखण्ड की धरती बोकारो इस्पात नगर से प्रकाशित यह साप्ताहिक शहर और गाँव के लोगों की आवाज बनकर आज भी 'स्वच्छ और स्वस्थ पत्रकारिता' के क्षेत्र में निरन्तर गतिशील है। संचार क्रांति के इस युग में आज यह अख़बार 'फेसबुक', 'ट्वीटर' और उसके बाद 'वेबसाइट' पर भी उपलब्ध है। हमें उम्मीद है कि अपने सुधी पाठकों और शुभेच्छुओं के सहयोग से यह अखबार आगे और भी प्रगतिशील होता रहेगा। एकबार हम अपने सहयोगियों के प्रति पुनः आभार प्रकट करते हैं, जिन्होंने हमें इस मुकाम तक पहुँचाने में अपना विशेष योगदान दिया है।

Leave a Reply