हिन्दी कविता : तपती धरती

0
351

धरती है तपती, प्यासे है पंछी,
आसमां की गोद भी सूनी है।
गर्म हवाओं से मुरझाए चेहरों
की आसमां से उम्मीद दूनी है।

धरती के हर प्राणी ने प्रभु से
बस एक ही आस बुनी है।
बरसे बादल जोर से कुछ ऐसे,
कि हर किसान की फसल
लगे, चली आकाश को छूनी है।

आंचल धरती का,
जो तुम हरा-भरा चाहते हो।
आलसपन छोड़कर
फिर पौधे क्यों ना लगाते हो?

प्रयास करेंगे मिलकर सब
तभी हरियाली आएगी।
कोई पंछी ना प्यासा होगा
सबकी प्यास बुझ जाएगी।।

आओ ऐसे विश्व के-
निर्माण का प्रयास करते हैं।
हर माह एक पौधे को धरती की गोद में बोते हैं।।

नीरज त्यागी

गाजियाबाद (उत्तर प्रदेश).
मो. – 09582488698

Previous articleमैथिली कविता : योग जीवन
Next articleजिन आंखों में थे समस्याओं के आंसू, उनमें चमकी विकास की उम्मीद की खुशी
मिथिला वर्णन (Mithila Varnan) : स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता'! DAVP मान्यता-प्राप्त झारखंड-बिहार का अतिलोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक अब न्यूज-पोर्टल के अवतार में भी नियमित अपडेट रहने के लिये जुड़े रहें हमारे साथ- facebook.com/mithilavarnan twitter.com/mithila_varnan ---------------------------------------------------- 'स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता', यही है हमारा लक्ष्य। इसी उद्देश्य को लेकर वर्ष 1985 में मिथिलांचल के गर्भ-गृह जगतजननी माँ जानकी की जन्मभूमि सीतामढ़ी की कोख से निकला था आपका यह लोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक 'मिथिला वर्णन'। उन दिनों अखण्ड बिहार में इस अख़बार ने साप्ताहिक के रूप में अपनी एक अलग पहचान बनायी। कालान्तर में बिहार का विभाजन हुआ। रत्नगर्भा धरती झारखण्ड को अलग पहचान मिली। पर 'मिथिला वर्णन' न सिर्फ मिथिला और बिहार का, बल्कि झारखण्ड का भी प्रतिनिधित्व करता रहा। समय बदला, परिस्थितियां बदलीं। अन्तर सिर्फ यह हुआ कि हमारा मुख्यालय बदल गया। लेकिन एशिया महादेश में सबसे बड़े इस्पात कारखाने को अपनी गोद में समेटे झारखण्ड की धरती बोकारो इस्पात नगर से प्रकाशित यह साप्ताहिक शहर और गाँव के लोगों की आवाज बनकर आज भी 'स्वच्छ और स्वस्थ पत्रकारिता' के क्षेत्र में निरन्तर गतिशील है। संचार क्रांति के इस युग में आज यह अख़बार 'फेसबुक', 'ट्वीटर' और उसके बाद 'वेबसाइट' पर भी उपलब्ध है। हमें उम्मीद है कि अपने सुधी पाठकों और शुभेच्छुओं के सहयोग से यह अखबार आगे और भी प्रगतिशील होता रहेगा। एकबार हम अपने सहयोगियों के प्रति पुनः आभार प्रकट करते हैं, जिन्होंने हमें इस मुकाम तक पहुँचाने में अपना विशेष योगदान दिया है।

Leave a Reply