‘खट्टर काका’ की डायरी से : स्व. हरिमोहन झा और मैथिली में क्वालिटी फिल्मों का अकाल

0
1056

विजय देव झा

हास्य सम्राट हरिमोहन झा मैथिली के प्रथम व अंतिम साहित्यकार रहे हैं, जिनकी रचना पर आधारित फिल्म कन्यादान बनी थी। नानाजी का सौभाग्य था की इस फिल्म में वह लीड भूमिका में थे। उसके बाद से आजतक मैथिली के किसी उपन्यास या किसी भी रचना पर आधारित कोई फिल्म नहीं बनी। हरिमोहन झा स्वयं में साहित्य की एक विधा हैं और ऐसा बेजोड़ साहित्यकार आपको किसी भाषा साहित्य में नहीं मिलेगा। उनके देहावसान के बाद उनके योग्य पुत्रों ने उनके कृतियों का पुन: संस्करण प्रकाशित किया और उनकी कुछ कथाओं का संग्रह साहित्य अकादमी ने प्रकाशित किया।
उनकी कृतियों को लोग इसलिए आतुर होकर नहीं खोजते हैं कि इसे सिलेबस में पढ़ाया जाता है। आम पाठक जो मैथिली साहित्य के बारे में अधिक नहीं जानते हैं, वे भी हरिमोहन झा को पढ़ना चाहते हैं। उनकी किताबें दसअसल कस्तूरी को खोज की तरह है, क्योंकि ये दुर्लभ व अप्राप्य हैं। कॉपीराइट के विरुद्ध फर्जी लोग उनकी किताबों की फोटोकॉपी कर बेचते हैं। सड़े हुए कागजों पर उसे छाप कर बेचते हैं और लोग मुंहमांगी कीमत देते हैं।

Late Harimohan Jha (photo courtesy : google mages)

क्या इस बात की जानकारी श्रद्धेय हरिमोहन झा के परिवार के उन सदस्यों को नहीं है? क्या वह आर्थिक रूप से इतने सक्षम नहीं हैं कि किताबें छपवा सकें? हमारे पास कॉपीराईट तो है, लेकिन हम उनकी किताबें नहीं छापेंगे। उनकी कई अप्रकाशित रचनाएं हैं, लेकिन हम उसे नहीं छापेंगे। उन दुर्लभ अमोल रचनाओं को संदूक में सड़ जाने दीजिये, हम तो बस कॉपीराइट का मुहरमाल बनायेंगें।
मेरे पास भी उनकी लिखी एक दुर्लभ रचना है, जिसका किसी ने नाम भी नहीं सुना होगा। किसी को दे नहीं सकता हूं, क्योंकि कॉपीराइट का टंडा ना शुरू हो जाये। धीरे धीरे एक दिन हरिमोहन झा लुप्त हो जायेंगें। नुकसान किसका? हरिमोहन झा करोड़ों मैथिलों के श्रद्धा विंदु हैं, एक मूर्तिभंजक जिसकी रचनाएं मिथिला में रेनेसां का समर्थन करती हैं।
मैथिली में क्वालिटी फिल्मों का अकाल है। फिल्म तो बनती ही नहीं हैं। जो अगर कभी बनती हैं, उसका टाइटिल देख कर समझ में आ जाता है कि इसके अंदर एक भाषा विशेष की आत्मा घुसी हुई है। मैथिली फिल्मों से कमाई नहीं होती है और अगर ऐसे में अगर कोई व्यक्ति जो मैथिली सिनेमा के लिए गंभीर है, हिंदी फिल्मों में ढ़ेर सारा कैरियर आॅप्शन के बावजूद मैथिली में कोई स्तरीय फिल्में बनाता है, तो उसकी हौसला अफजाई होनी चाहिए न कि आप उसको कॉपीराइट दिखा-दिखाकर हतोत्साहित करें। किसी प्रतिष्ठित व लोकप्रिय साहित्यकार की संतति होना सौभाग्य ही है और उस सौभाग्य में चन्दन का सुबास आ जाएगा, अगर आप उनकी थाती को आगे बढ़ाएं। हम खुद कुछ नहीं करेंगें, लेकिन दूसरों को भी कुछ नहीं करने देंगें। किसी लब्ध प्रतिष्ठित साहित्यकार के वंशज उन स्वनामधन्य साहित्यकार की कृतियों के कस्टोडियन होते हैं, मालिक नहीं। मैं खट्टर काका की डायरी लिखता हूं। खट्टर काका हरिमोहन झा की रचनाओं के एक प्रसिद्ध पात्र हैं। फिर यह भी कॉपीराइट के अंतर्गत माना जाए। इसे कहते हैं कि हीरे की लूट और कोयले पर छाप।
(लेखक वरिष्ठ पत्रकार व समीक्षक हैं।)

Previous articleनारियल- जितना शुभ पूजा में, उतना ही सेहतमंद भी
Next articleझारखंड की माटी से विश्व को योग-संदेश
मिथिला वर्णन (Mithila Varnan) : स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता'! DAVP मान्यता-प्राप्त झारखंड-बिहार का अतिलोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक अब न्यूज-पोर्टल के अवतार में भी नियमित अपडेट रहने के लिये जुड़े रहें हमारे साथ- facebook.com/mithilavarnan twitter.com/mithila_varnan ---------------------------------------------------- 'स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता', यही है हमारा लक्ष्य। इसी उद्देश्य को लेकर वर्ष 1985 में मिथिलांचल के गर्भ-गृह जगतजननी माँ जानकी की जन्मभूमि सीतामढ़ी की कोख से निकला था आपका यह लोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक 'मिथिला वर्णन'। उन दिनों अखण्ड बिहार में इस अख़बार ने साप्ताहिक के रूप में अपनी एक अलग पहचान बनायी। कालान्तर में बिहार का विभाजन हुआ। रत्नगर्भा धरती झारखण्ड को अलग पहचान मिली। पर 'मिथिला वर्णन' न सिर्फ मिथिला और बिहार का, बल्कि झारखण्ड का भी प्रतिनिधित्व करता रहा। समय बदला, परिस्थितियां बदलीं। अन्तर सिर्फ यह हुआ कि हमारा मुख्यालय बदल गया। लेकिन एशिया महादेश में सबसे बड़े इस्पात कारखाने को अपनी गोद में समेटे झारखण्ड की धरती बोकारो इस्पात नगर से प्रकाशित यह साप्ताहिक शहर और गाँव के लोगों की आवाज बनकर आज भी 'स्वच्छ और स्वस्थ पत्रकारिता' के क्षेत्र में निरन्तर गतिशील है। संचार क्रांति के इस युग में आज यह अख़बार 'फेसबुक', 'ट्वीटर' और उसके बाद 'वेबसाइट' पर भी उपलब्ध है। हमें उम्मीद है कि अपने सुधी पाठकों और शुभेच्छुओं के सहयोग से यह अखबार आगे और भी प्रगतिशील होता रहेगा। एकबार हम अपने सहयोगियों के प्रति पुनः आभार प्रकट करते हैं, जिन्होंने हमें इस मुकाम तक पहुँचाने में अपना विशेष योगदान दिया है।

Leave a Reply