जाम से निजात को लेकर आगे आया पुपरी विकास मंच

0
241

पुपरी (सीतामढ़ी) : पुपरी विकास मंच ने यहां रोज-रोज लगने वाले जाम की विकट स्थिति से निजात दिलाने को लेकर अपनी सक्रिय भूमिका निभाते हुए आगे कदम बढ़ाया है। मंच के एक शिष्टमंडल ने बीते दिनों पुपरी के अनुमंडल पदाधिकारी धनंजय कुमार से मिलकर शहर नगर में लगने वाले जाम और अतिक्रमण की समस्या पर उनका ध्यान आकृष्ट कराया। खासकर कपूर्री चौक से लेकर बकरी बाजार तक सड़क के दोनों किनारे ठेला एवं रेहड़ी के छोटे दुकानदारों द्वारा सड़क अतिक्रमित करने की पुरानी समस्या पर उनका ध्यान आकृष्ट कराते हुए व्यापक जनहित में उनसे अविलंब इस समस्या के समुचित निदान दिलाने की मांग की तथा इससे संबंधित एक ज्ञापन सौंपा। शिष्टमंडल ने पुपरी का नासूर बन चुकी इस जाम की समस्या से मुक्ति दिलाने को लेकर अतिक्रमण के स्थायी निवारण हेतु कुछ सुझाव भी दिए। अनुमंडल पदाधिकारी श्री कुमार ने बहुत गंभीरता से उन सुझाव पर विस्तृत चर्चा की तथा अपने स्तर से यथासंभव सकारात्मक कार्रवाई का आश्वासन दिया।


अपने सुझावों की कड़ी में मंच के लोगों ने बताया कि पटना उच्च न्यायालय द्वारा लगभग एक साल पहले इस समस्या के निदान को लेकर आदेश जारी किया जा चुका है। दुर्भाग्यवश, इसका अनुपालन अभी तक स्थानीय प्रशासन ने नहीं किया। उच्च न्यायालय के आदेश के अनुसार उन सभी खुदरा दुकानदारों को शहर के कपूर्री चौक से सटी बेकार पड़ी सरकारी भूमि (थाना नंबर- 183, खाता नंबर- 322, रकवा करीब 93 डिसमिल) पर पुनर्वासित कर उनके व्यवसाय को चलने देने का आदेश दिया गया है। एसडीओ ने उक्त जमीन की पैमाइश कराने के बाद शहर में माइक द्वारा प्रचार कर सभी खुदरा व्यवसाय वालों को अपने तथा मंच के देख रेख में एक सप्ताह के भीतर पुनर्वासित करने का भरोसा दिलाया। मौके पर मंच के अध्यक्ष सह सरपंच संघ के अध्यक्ष सुमन कुमार उर्फ कंचन मिश्रा, सचिव रामबाबू शर्मा, कोषाध्यक्ष प्रमोद शर्मा, उपसचिव आशीष रंजन प्रणव, उपाध्यक्ष राज कुमार, राजा रौनियार, संदीप कुमार आदि मौजूद थे।

Previous articleदि सिटी सेंटर ट्रेडर्स एसोसिएशन की नयी कार्यकारिणी गठित
Next articleनारियल- जितना शुभ पूजा में, उतना ही सेहतमंद भी
मिथिला वर्णन (Mithila Varnan) : स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता'! DAVP मान्यता-प्राप्त झारखंड-बिहार का अतिलोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक अब न्यूज-पोर्टल के अवतार में भी नियमित अपडेट रहने के लिये जुड़े रहें हमारे साथ- facebook.com/mithilavarnan twitter.com/mithila_varnan ---------------------------------------------------- 'स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता', यही है हमारा लक्ष्य। इसी उद्देश्य को लेकर वर्ष 1985 में मिथिलांचल के गर्भ-गृह जगतजननी माँ जानकी की जन्मभूमि सीतामढ़ी की कोख से निकला था आपका यह लोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक 'मिथिला वर्णन'। उन दिनों अखण्ड बिहार में इस अख़बार ने साप्ताहिक के रूप में अपनी एक अलग पहचान बनायी। कालान्तर में बिहार का विभाजन हुआ। रत्नगर्भा धरती झारखण्ड को अलग पहचान मिली। पर 'मिथिला वर्णन' न सिर्फ मिथिला और बिहार का, बल्कि झारखण्ड का भी प्रतिनिधित्व करता रहा। समय बदला, परिस्थितियां बदलीं। अन्तर सिर्फ यह हुआ कि हमारा मुख्यालय बदल गया। लेकिन एशिया महादेश में सबसे बड़े इस्पात कारखाने को अपनी गोद में समेटे झारखण्ड की धरती बोकारो इस्पात नगर से प्रकाशित यह साप्ताहिक शहर और गाँव के लोगों की आवाज बनकर आज भी 'स्वच्छ और स्वस्थ पत्रकारिता' के क्षेत्र में निरन्तर गतिशील है। संचार क्रांति के इस युग में आज यह अख़बार 'फेसबुक', 'ट्वीटर' और उसके बाद 'वेबसाइट' पर भी उपलब्ध है। हमें उम्मीद है कि अपने सुधी पाठकों और शुभेच्छुओं के सहयोग से यह अखबार आगे और भी प्रगतिशील होता रहेगा। एकबार हम अपने सहयोगियों के प्रति पुनः आभार प्रकट करते हैं, जिन्होंने हमें इस मुकाम तक पहुँचाने में अपना विशेष योगदान दिया है।

Leave a Reply