बारिश ने ऐसे खोली सड़क-निर्माण में धांधली की पोल

0
220

मानसून की पहली बरसात में ही कलभर्ट ढ़हने के कगार पर

विशाल अग्रवाल
गोमिया (बोकारो) :
गोमिया प्रखंड के सुदुरवर्ती हुरलुंग के बलिया गांव में विशेष केंद्रीय सहायता मद से पीसीसी पथ एवं कलभर्ट निर्माण के दो माह भी नहीं हुए कि मानसून की पहली बारिश में ही कलभर्ट ढहने के कगार पर आ गया है। इससे हुरलुंग, जरिया और बलिया गांव के लगभग 10 हजार लोगों को आवागमन में और भी परेशानी बढ़ गई है। आरोप है कि इस कलभर्ट का निर्माण बलिया के समीप ही छपरवा गांव में होना था, जहां सिर्फ खेतों के पानी का बहाव होने के लिए कलभर्ट का सेंक्शन किया जाना था, लेकिन कुछ दलालों और बिचौलियों के द्वारा विभागीय मधुर संबंध और ठेकेदार से आपसी संबंध बनाकर कोनार नदी से सटा हुरलूंग बलिया पथ के दोमुंहा नाला में उक्त कलभर्ट बना दिया और इस नाला में बलिया के समीप बनने वाले कलभर्ट को पुलिया का दर्जा देकर दोमुंहा नाला में बनाया गया। ज्ञात हो कि इस पीसीसी पथ एवं कलभर्ट का शिलान्यास 27 जनवरी 2019 को गोमिया विधायक बबीता देवी ने पूर्व गिरिडीह के सांसद रविन्द्र कुमार पांडेय एवं जिप सदस्य बसंती देवी की उपस्थिति में किया गया था।
ग्रामीण बताते हैं कि उक्त ध्वस्त नाले में बड़े पुलिया निर्माण के लिए ग्रामीणों कि गुहार पर पूर्व सांसद रविन्द्र कुमार पाण्डेय के द्वारा एक वर्ष पूर्व उपविकास आयुक्त बोकारो को पत्र लिखकर अनुशंसा हेतु भेजी गयी। प्रभावित ग्रामीणों ने बताया कि इस दो मुंहे नाले में लगभग चार किलोमीटर दूर के क्षेत्रों से पानी बहकर आता है। परिणामस्वरूप उक्त गांवों का पूर्णत: मुख्य पथ से संपर्क कट जाने से प्रभावित ग्रामीणों के समक्ष मुख्य बाजार, बेहतर उपचार जैसी समस्याएं उत्पन्न होने का खतरा बढ़ गया है।
इस पूरे मामले मे संज्ञान लेते हुए भाजपा के गोमिया प्रखण्ड अध्यक्ष प्रवीण कुमार ने कहा कि सुदूवर्ती पंचायत के मुख्य संपर्क पथ से संपर्क कटने से बरसात के दिनों मे ग्रामीणों के समक्ष कई समस्याएं उत्पन्न होंगी। उन्होंने जिला प्रशासन से इस पूरे मामले मे जिम्मेदार लोगों और विभागीय अनदेखी की जांच कर दोषियों पर कड़ी कार्रवाई की मांग की है। उन्होंने कहा कि इस कार्य से जुड़े संवेदक को अविलंब ब्लैकलिस्टेड किया जाय तथा सड़क-मरम्मत हेतु आवश्यक कार्रवाई की जाय।

Previous article… और योगमय बन गयी इस्पातनगरी
Next articleदि सिटी सेंटर ट्रेडर्स एसोसिएशन की नयी कार्यकारिणी गठित
मिथिला वर्णन (Mithila Varnan) : स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता'! DAVP मान्यता-प्राप्त झारखंड-बिहार का अतिलोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक अब न्यूज-पोर्टल के अवतार में भी नियमित अपडेट रहने के लिये जुड़े रहें हमारे साथ- facebook.com/mithilavarnan twitter.com/mithila_varnan ---------------------------------------------------- 'स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता', यही है हमारा लक्ष्य। इसी उद्देश्य को लेकर वर्ष 1985 में मिथिलांचल के गर्भ-गृह जगतजननी माँ जानकी की जन्मभूमि सीतामढ़ी की कोख से निकला था आपका यह लोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक 'मिथिला वर्णन'। उन दिनों अखण्ड बिहार में इस अख़बार ने साप्ताहिक के रूप में अपनी एक अलग पहचान बनायी। कालान्तर में बिहार का विभाजन हुआ। रत्नगर्भा धरती झारखण्ड को अलग पहचान मिली। पर 'मिथिला वर्णन' न सिर्फ मिथिला और बिहार का, बल्कि झारखण्ड का भी प्रतिनिधित्व करता रहा। समय बदला, परिस्थितियां बदलीं। अन्तर सिर्फ यह हुआ कि हमारा मुख्यालय बदल गया। लेकिन एशिया महादेश में सबसे बड़े इस्पात कारखाने को अपनी गोद में समेटे झारखण्ड की धरती बोकारो इस्पात नगर से प्रकाशित यह साप्ताहिक शहर और गाँव के लोगों की आवाज बनकर आज भी 'स्वच्छ और स्वस्थ पत्रकारिता' के क्षेत्र में निरन्तर गतिशील है। संचार क्रांति के इस युग में आज यह अख़बार 'फेसबुक', 'ट्वीटर' और उसके बाद 'वेबसाइट' पर भी उपलब्ध है। हमें उम्मीद है कि अपने सुधी पाठकों और शुभेच्छुओं के सहयोग से यह अखबार आगे और भी प्रगतिशील होता रहेगा। एकबार हम अपने सहयोगियों के प्रति पुनः आभार प्रकट करते हैं, जिन्होंने हमें इस मुकाम तक पहुँचाने में अपना विशेष योगदान दिया है।

Leave a Reply