हिन्दी कविता – बुखार में घोषणा

0
244

आचार्य धीरेन्द्र झा


सजग प्रहरी देखो मंजर
आंखों को अपने बंद कर
वेदना करुण क्रन्दन सुनो
कानों को अपने खोल कर।

चीत्कार ही चीत्कार है
वातावरण में गूंजता
नौनिहालों के शव पर
लोटती ममता यहां।

बाहों में भरकर रोती कोई
रोते-रोते बेसुध सी खोई
जो खोया है उसने, अभी
लौटा नहीं सकता कोई कभी।

बढ़ रही संख्या मृतकों के नाम की
घोषणा-उद्घोषणा किस काम की?
गर्मी में लीची, ये बात आम है
पूरा नहीं तुम्हारा इंतजाम है।

चमकी बुखार के तपन की
मन ही मन भावना करो
मृतक की मां की जगह
खुद की कल्पना करो।
उठाओ कदम फिर ऐसा
आए न मंजर अबकी जैसा।

Previous articleऐसी आजादी और कहां?
Next article… और योगमय बन गयी इस्पातनगरी
मिथिला वर्णन (Mithila Varnan) : स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता'! DAVP मान्यता-प्राप्त झारखंड-बिहार का अतिलोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक अब न्यूज-पोर्टल के अवतार में भी नियमित अपडेट रहने के लिये जुड़े रहें हमारे साथ- facebook.com/mithilavarnan twitter.com/mithila_varnan ---------------------------------------------------- 'स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता', यही है हमारा लक्ष्य। इसी उद्देश्य को लेकर वर्ष 1985 में मिथिलांचल के गर्भ-गृह जगतजननी माँ जानकी की जन्मभूमि सीतामढ़ी की कोख से निकला था आपका यह लोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक 'मिथिला वर्णन'। उन दिनों अखण्ड बिहार में इस अख़बार ने साप्ताहिक के रूप में अपनी एक अलग पहचान बनायी। कालान्तर में बिहार का विभाजन हुआ। रत्नगर्भा धरती झारखण्ड को अलग पहचान मिली। पर 'मिथिला वर्णन' न सिर्फ मिथिला और बिहार का, बल्कि झारखण्ड का भी प्रतिनिधित्व करता रहा। समय बदला, परिस्थितियां बदलीं। अन्तर सिर्फ यह हुआ कि हमारा मुख्यालय बदल गया। लेकिन एशिया महादेश में सबसे बड़े इस्पात कारखाने को अपनी गोद में समेटे झारखण्ड की धरती बोकारो इस्पात नगर से प्रकाशित यह साप्ताहिक शहर और गाँव के लोगों की आवाज बनकर आज भी 'स्वच्छ और स्वस्थ पत्रकारिता' के क्षेत्र में निरन्तर गतिशील है। संचार क्रांति के इस युग में आज यह अख़बार 'फेसबुक', 'ट्वीटर' और उसके बाद 'वेबसाइट' पर भी उपलब्ध है। हमें उम्मीद है कि अपने सुधी पाठकों और शुभेच्छुओं के सहयोग से यह अखबार आगे और भी प्रगतिशील होता रहेगा। एकबार हम अपने सहयोगियों के प्रति पुनः आभार प्रकट करते हैं, जिन्होंने हमें इस मुकाम तक पहुँचाने में अपना विशेष योगदान दिया है।

Leave a Reply