खेल पत्रकारों के बिना खेल-जगत अधूरा : जयदीप

0
430

बोकारो के खेल जगत ने मनाया विश्व खेल पत्रकारिता दिवस

संवाददाता
बोकारो :
विश्व खेल पत्रकारिता दिवस की 25वीं वर्षगांठ मंगलवार को बोकारो में खेल-जगत से जुड़े प्रमुख लोगों ने सोल्लास मनायी। सेक्टर-3 स्थित ट्रेनीज होस्टल में स्कूल स्पोर्ट्स प्रोमोशन फाउंडेशन (एसएसपीएफ) की ओर से आयोजित इस समारोह में जहां विश्व खेल पत्रकारिता दिवस की महत्ता व प्रासंगिकता पर चर्चा की गयी, वहीं शहर के सभी खेल पत्रकारों को सम्मानित भी किया गया। झारखंड में इस विशेष दिवस के आयोजन की पहल करने वाले एसपीपीएफ के संयोजक (वालीबाल) सह वालीबाल के अंतरराष्ट्रीय प्रशिक्षक जयदीप सरकार ने मौके पर खेल पत्रकारों की भूमिका व महत्ता बतायी।
उन्होंने कहा कि खेल पत्रकारों के बिना खेल-जगत अधूरा है। खेल पत्रकारिता न होती तो लोग खेल से जुड़ी खबरें जान भी नहीं पाते। चाहे व संस्थागत तौर पर हो या व्यक्तिगत, खेल व खेल-प्रतिभाओं के प्रोत्साहन व विकास में खेल पत्रकारिता की अग्रणी भूमिका है। उन्होंने विश्व खेल पत्रकारिता दिवस की पृष्ठभूमि भी रेखांकित की।
इस अवसर पर बोकारो स्टील के क्रीड़ा विभाग के उपप्रबंधक सुभाष रजक ने खेल पत्रकारिता को समाज का अच्छा संदेशवाहक बताया। आयोजन को सफल बनाने में एसएसपीएफ के संयोजक (क्रिकेट व फुटबाल) चन्द्रदेव सिंह, बोकारो जिला क्रिकेट संघ के संयुक्त सचिव राजेश्वर सिंह, बास्केटबाल के राष्ट्रस्तरीय प्रशिक्षक संजीव कुमार सिंह, फुटबाल प्रशिक्षक महेन्द्र प्रसाद सहित मो. सलीम, मदन राम, दिनेश, कमलेश होता आदि की सराहनीय भूमिका रही।

Previous articleपत्रकारिता समाज का दर्पण : स्वामिनी संयुक्तानंद
Next articleखुद तो पांचवीं पास है यह राजमिस्त्री, पर दो दशकों से निर्धन बच्चों में जगा रहा शिक्षा का अलख
मिथिला वर्णन (Mithila Varnan) : स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता'! DAVP मान्यता-प्राप्त झारखंड-बिहार का अतिलोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक अब न्यूज-पोर्टल के अवतार में भी नियमित अपडेट रहने के लिये जुड़े रहें हमारे साथ- facebook.com/mithilavarnan twitter.com/mithila_varnan ---------------------------------------------------- 'स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता', यही है हमारा लक्ष्य। इसी उद्देश्य को लेकर वर्ष 1985 में मिथिलांचल के गर्भ-गृह जगतजननी माँ जानकी की जन्मभूमि सीतामढ़ी की कोख से निकला था आपका यह लोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक 'मिथिला वर्णन'। उन दिनों अखण्ड बिहार में इस अख़बार ने साप्ताहिक के रूप में अपनी एक अलग पहचान बनायी। कालान्तर में बिहार का विभाजन हुआ। रत्नगर्भा धरती झारखण्ड को अलग पहचान मिली। पर 'मिथिला वर्णन' न सिर्फ मिथिला और बिहार का, बल्कि झारखण्ड का भी प्रतिनिधित्व करता रहा। समय बदला, परिस्थितियां बदलीं। अन्तर सिर्फ यह हुआ कि हमारा मुख्यालय बदल गया। लेकिन एशिया महादेश में सबसे बड़े इस्पात कारखाने को अपनी गोद में समेटे झारखण्ड की धरती बोकारो इस्पात नगर से प्रकाशित यह साप्ताहिक शहर और गाँव के लोगों की आवाज बनकर आज भी 'स्वच्छ और स्वस्थ पत्रकारिता' के क्षेत्र में निरन्तर गतिशील है। संचार क्रांति के इस युग में आज यह अख़बार 'फेसबुक', 'ट्वीटर' और उसके बाद 'वेबसाइट' पर भी उपलब्ध है। हमें उम्मीद है कि अपने सुधी पाठकों और शुभेच्छुओं के सहयोग से यह अखबार आगे और भी प्रगतिशील होता रहेगा। एकबार हम अपने सहयोगियों के प्रति पुनः आभार प्रकट करते हैं, जिन्होंने हमें इस मुकाम तक पहुँचाने में अपना विशेष योगदान दिया है।

Leave a Reply