रास न आयी बेवफाई तो ले ली प्रेमिका की जान, आरोपी 24 घंटे में गिरफ्तार

0
327

विशाल अग्रवाल
गोमिया (बोकारो)।
गोमिया थाना क्षेत्र के हरदियामो ग्राम में अंकिता हत्याकांड के आरोपी रविन्द्र सोरेन को 24 घंटे में गोमिया पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। रविवार को अंकिता की मंझली दीदी के देवर रविन्द्र सोरेन ने चाकू गोदकर उसकी हत्या कर दी थी। इस दौरान बेटी को बचाने गई उसकी मां नुनिया देवी को भी उसने तेज धारदार चाकू से वार कर घायल कर दिया था, जो अब खतरे से बाहर है। पुलिस के बिछाये जाल में दबोचे गये आरोपी रविन्द्र सोरेन पुलिस के समक्ष जुर्म कबूलते हुए कहा कि हत्या करने के बाद वह अपने घर ललपनिया थाना क्षेत्र के कोदवाटांड में भी नही था। वह गोमिया छोड़कर भागने की तैयारी में इधर उधर छुपता फिर रहा था। जबकि गोमिया पुलिस उसकी तलाश सरगर्मी से कर रही थी, जिस कारण वह भागने में असफल रहा। सोमवार की रात को वह ट्रेन पकडकर मुंबई जैसे शहर में भागने की तैयारी में था, वहीं गोमिया के थाना प्रभारी अनिल उरांव ने गोमिया एवं डुमरी स्टेशन पर जाल बिछा रखा था। जैसे वह ही गोमिया मोड़ पर ओटो से पहुंचा कि घात लगाए गोमिया पुलिस ने उसे स्टेशन पहुंचने से पहले ही धर दबोचा।

एेसे दिया घटना को अंजामहत्या के नामजद गिरफ्तार आरोपी रविन्द्र सोरेन ने इकबालिया बयान में कहा है कि वह अंकिता से प्यार करता था। इसके लिए वह उस पर खर्च भी करता था तथा एक मोबाइल भी उसे गिफ्ट किया था, लेकिन जब भी वह युवती से बात करने के लिए फोन करता तो उसका फोन व्यस्त बताता था। इससे वह काफी नाराज चल रहा था। आरोपी ने बयान में यह भी कहा कि एक दिन उक्त युवती किसी दूसरे लडके के साथ मोटरसाइकिल पर घूमती देखी गयी थी। अंकिता की इस बेवफाई से वह खासा नाराज हो गया और उसकी हत्या करने का मन बनाकर उसके घर हरदियामो पहुंचा। घर में उसके साथ इसी बात को लेकर बहस हुई और चाकू से गोदकर उसकी हत्या कर दी।

  • Varnan Live.
Previous articleसमय के अनुरूप अपने को ढालें विद्यार्थी : पीके सिंह
Next articleआद्रा मंडल में इन ट्रेनों का हुआ विस्तारीकरण, समय व मार्ग भी बदले
मिथिला वर्णन (Mithila Varnan) : स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता'! DAVP मान्यता-प्राप्त झारखंड-बिहार का अतिलोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक अब न्यूज-पोर्टल के अवतार में भी नियमित अपडेट रहने के लिये जुड़े रहें हमारे साथ- facebook.com/mithilavarnan twitter.com/mithila_varnan ---------------------------------------------------- 'स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता', यही है हमारा लक्ष्य। इसी उद्देश्य को लेकर वर्ष 1985 में मिथिलांचल के गर्भ-गृह जगतजननी माँ जानकी की जन्मभूमि सीतामढ़ी की कोख से निकला था आपका यह लोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक 'मिथिला वर्णन'। उन दिनों अखण्ड बिहार में इस अख़बार ने साप्ताहिक के रूप में अपनी एक अलग पहचान बनायी। कालान्तर में बिहार का विभाजन हुआ। रत्नगर्भा धरती झारखण्ड को अलग पहचान मिली। पर 'मिथिला वर्णन' न सिर्फ मिथिला और बिहार का, बल्कि झारखण्ड का भी प्रतिनिधित्व करता रहा। समय बदला, परिस्थितियां बदलीं। अन्तर सिर्फ यह हुआ कि हमारा मुख्यालय बदल गया। लेकिन एशिया महादेश में सबसे बड़े इस्पात कारखाने को अपनी गोद में समेटे झारखण्ड की धरती बोकारो इस्पात नगर से प्रकाशित यह साप्ताहिक शहर और गाँव के लोगों की आवाज बनकर आज भी 'स्वच्छ और स्वस्थ पत्रकारिता' के क्षेत्र में निरन्तर गतिशील है। संचार क्रांति के इस युग में आज यह अख़बार 'फेसबुक', 'ट्वीटर' और उसके बाद 'वेबसाइट' पर भी उपलब्ध है। हमें उम्मीद है कि अपने सुधी पाठकों और शुभेच्छुओं के सहयोग से यह अखबार आगे और भी प्रगतिशील होता रहेगा। एकबार हम अपने सहयोगियों के प्रति पुनः आभार प्रकट करते हैं, जिन्होंने हमें इस मुकाम तक पहुँचाने में अपना विशेष योगदान दिया है।

Leave a Reply