लाचार जिंदगियों को लगातार संवार रही ‘जीव-रक्षा’

1
355

संवाददाता
बोकारो :
बोकारो, उपशहर चास एवं आसपास के इलाके में लाचार, असहाय व विक्षिप्त प्रकार के महिला-पुरुषों की जिंदगी संवारकर उन्हें समाज की मुख्य-धारा में जोड़ने की दिशा में कार्यरत स्थानीय संस्था जीव-रक्षा के दल ने एक बार फिर से सराहनीय कार्य किया है। पिछले ही हफ्ते युवा समाजसेवी राम खेड़िया के नेतृत्व में जिले के बालीडीह से एक मानसिक रूप से बीमार एक लाचार महिला को निकटवर्ती पुरुलिया स्थित अपना घर स्थित आश्रम में पहुंचाया गया।
राम खेड़िया ने बताया कि समाजसेवी प्रगति शंकर के कहने पर जीव रक्षा की टीम बालीडीह थाने गयी। वहां कागजी प्रक्रियाएं पूरी करने के बाद संजय और अभिषेक नामक दल के सदस्यों के साथ उनकी निजी गाड़ी से राम ने उक्त महिला को अपना घर पहुंचाया। बता दें कि उक्त आश्रम में ऐसी महिलाओं को ‘महिला प्रभुजी’ कहकर संबोधित किया जाता है तथा उनकी देखभाल कर उन्हें समाज की मुख्यधारा में जोड़ने का कार्य किया जाता है।
यहां जीव रक्षा की टीम ने अब तक कई मानसिक बीमार लाचार महिला-पुरुषों को अपना घर पहुंचाया है। इतना ही नहीं, कई बीमार मवेशियों का भी इलाज कराया गया है। संस्था बेसहारा, लाचार, बीमार और अक्षम पशुओं के साथ-साथ समाज की मुख्यधारा से कटे लोगों को नवजीवन देने का काम लगातार कर रही है।

Previous articleइस अस्पताल को है ‘इलाज’ की जरूरत
Next articleशिक्षा का मंदिर अब अपराधियों का ठिकाना
मिथिला वर्णन (Mithila Varnan) : स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता'! DAVP मान्यता-प्राप्त झारखंड-बिहार का अतिलोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक अब न्यूज-पोर्टल के अवतार में भी नियमित अपडेट रहने के लिये जुड़े रहें हमारे साथ- facebook.com/mithilavarnan twitter.com/mithila_varnan ---------------------------------------------------- 'स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता', यही है हमारा लक्ष्य। इसी उद्देश्य को लेकर वर्ष 1985 में मिथिलांचल के गर्भ-गृह जगतजननी माँ जानकी की जन्मभूमि सीतामढ़ी की कोख से निकला था आपका यह लोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक 'मिथिला वर्णन'। उन दिनों अखण्ड बिहार में इस अख़बार ने साप्ताहिक के रूप में अपनी एक अलग पहचान बनायी। कालान्तर में बिहार का विभाजन हुआ। रत्नगर्भा धरती झारखण्ड को अलग पहचान मिली। पर 'मिथिला वर्णन' न सिर्फ मिथिला और बिहार का, बल्कि झारखण्ड का भी प्रतिनिधित्व करता रहा। समय बदला, परिस्थितियां बदलीं। अन्तर सिर्फ यह हुआ कि हमारा मुख्यालय बदल गया। लेकिन एशिया महादेश में सबसे बड़े इस्पात कारखाने को अपनी गोद में समेटे झारखण्ड की धरती बोकारो इस्पात नगर से प्रकाशित यह साप्ताहिक शहर और गाँव के लोगों की आवाज बनकर आज भी 'स्वच्छ और स्वस्थ पत्रकारिता' के क्षेत्र में निरन्तर गतिशील है। संचार क्रांति के इस युग में आज यह अख़बार 'फेसबुक', 'ट्वीटर' और उसके बाद 'वेबसाइट' पर भी उपलब्ध है। हमें उम्मीद है कि अपने सुधी पाठकों और शुभेच्छुओं के सहयोग से यह अखबार आगे और भी प्रगतिशील होता रहेगा। एकबार हम अपने सहयोगियों के प्रति पुनः आभार प्रकट करते हैं, जिन्होंने हमें इस मुकाम तक पहुँचाने में अपना विशेष योगदान दिया है।

1 COMMENT

Leave a Reply