थाने पहुंचा AGM से मारपीट का मामला, MLA के खिलाफ शिकायत दर्ज, जानिये क्या है Complain में

0
1233
  • Our Correspondent.

बोकारो : बोकारो इस्पात संयंत्र के सहायक महाप्रबंधक नगर सेवाएं अजीत कुमार के साथ मंगलवार को बोकारो विधायक बिरंची नारायण द्वारा कथित तौर पर की गई मारपीट का मामला गरमा चुका है। इसके विरुद्ध बोकारो इस्पात संयंत्र के अधिकारियों ने अपना गोलबंद हो कर अपना मोर्चा खोल दिया है। बोकारो स्टील ऑफिसर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष एके सिंह के नेतृत्व में अधिकारियों के दल ने डीसी कृपानंद झा तथा एसपी पी. मुरुगन से मिलने के बाद सिटी थाने पहुंच विधायक बिरंची नारायण के खिलाफ लिखित शिकायत दर्ज कराई। डीसी ने मामले की जांच कराकर आवश्यक कार्रवाई का भरोसा दिलाया। अपनी लिखित शिकायत में एजीएम अजीत कुमार का कहना है कि विधायक ने उनके साथ अभद्र भाषा में गाली- गलौज की तथा मुक्का से कई बार उनके चेहरे पर वार किया, जिससे उनकी दाहिनी आंख में काफी चोटें आई और उन्हें धुंधला सा दिखने लगा है। फिर विधायक द्वारा अपने समर्थकों को उन्हें मारने का निर्देश दिया गया और उनलोगों ने उन्हें दौड़ा-दौड़ाकर पीटा। इससे उनके सिर, गर्दन, चेहरा तथा पीठ में काफी चोटे आयीं। एजीएम ने विधायक और उनके साथियों पर गैरकानूनी कार्य करते हुए उन्हें पब्लिक सर्वेंट के रूप में कार्य करने में बाधा पहुंचाने का आरोप लगाया है।

सेक्टर 4एफ निवासी एजीएम अजीत कुमार ने कहा कि मंगलवार को उनकी ड्यूटी अतिक्रमण निरोधक दस्ते के साथ लगी थी। सुरक्षा विभाग के गृहरक्षकों के साथ सेक्टर- 8 एवं 9 में निरीक्षण करते हुए वह सेक्टर-1 की तरफ गए, जहां सेक्टर-1बी स्थित कमर्शियल टैक्स बिल्डिंग के पूर्व में तालाब के पास सड़क किनारे अवैध निर्माण का काम पाया गया। उनका कहना है कि उक्त स्थान पर पूर्व में कतिपय लोगों द्वारा कई गड्ढे खोदे गए थे, जिससे बोकारो इस्पात संयंत्र का संचार केबुल क्षतिग्रस्त हो गया था और कई दिनों तक संबंधित टेलीफोन सेवा बाधित रही।

मंगलवार को निरीक्षण में पाया गया कि पूर्व में किए गए गड्ढे को और भी गहरा कर दिया गया है तथा लोहे की छड़ डालकर पिलर का निर्माण कराया जा रहा है। चूंकि वहां पर बोकारो इस्पात केंद्र द्वारा इस प्रकार का पक्का-निर्माण करने का कोई भी अनापत्ति प्रमाण पत्र नहीं दिया गया था, अतः वहां काम कर रहे मजदूरों को तत्काल काम रोकने के लिए कहा गया। मजदूरों ने संबंधित ठेकेदार को सूचना दी, जो तत्काल घटनास्थल पर पहुंचे।

उसने स्थानीय विधायक बिरंची नारायण द्वारा यह कार्य कराए जाने की बात कही और उसकी सूचना के बाद विधायक भी मोटरसाइकिल के पीछे बैठकर लगभग 11.45 बजे पहुंचे। साथ में उनके समर्थक भी आए। एजीएम के अनुसार पहुंचते ही बिरंची ने उनसे पूछा- तुम कौन हो? उन्होंने जब अपना परिचय दिया तो इस पर वह आग-बबूला हो गए। उसके बाद गाली-गलौज और मारपीट की। इस घटना के बाद वे लोग जान बचाकर वहां से भागकर नगर प्रशासन विभाग आ गये। वहां से इलाज के लिए उन्हें बोकारो जनरल अस्पताल लाया गया और फिलहाल अस्पताल के आईसीयू में उनका इलाज चल रहा है।

कर रहे हैं जांच : थाना प्रभारी

एजीएम ने थाना प्रभारी को दी गई शिकायत में विधायक और उनके समर्थकों पर कानूनी कार्रवाई किए जाने की मांग की है।  इस संबंध में पूछे जाने पर सिटी थाना प्रभारी अजय प्रसाद ने कहा कि अभी लिखित शिकायत दर्ज कराई गई है। दोनों तरफ से आरोप-प्रत्यारोप की जांच की जा रही है। उसके बाद यथासंभव कार्रवाई की जाएगी। दूसरे पक्ष से सूर्य सरोवर जीर्णोद्धार तथा तिरंगा पार्क का निर्माण करने वाले संवेदक ने शिकायत दर्ज करायी है।

  • Varnan Live Report.

Previous articleबोकारो विधायक ने BSL के AGM को दौड़ा-दौड़ाकर पीटा, जानिये क्यों
Next articleजो आपके भीतर राम को स्थापित कर दे, वही गुरु : श्रीमाली
मिथिला वर्णन (Mithila Varnan) : स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता'! DAVP मान्यता-प्राप्त झारखंड-बिहार का अतिलोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक अब न्यूज-पोर्टल के अवतार में भी नियमित अपडेट रहने के लिये जुड़े रहें हमारे साथ- facebook.com/mithilavarnan twitter.com/mithila_varnan ---------------------------------------------------- 'स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता', यही है हमारा लक्ष्य। इसी उद्देश्य को लेकर वर्ष 1985 में मिथिलांचल के गर्भ-गृह जगतजननी माँ जानकी की जन्मभूमि सीतामढ़ी की कोख से निकला था आपका यह लोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक 'मिथिला वर्णन'। उन दिनों अखण्ड बिहार में इस अख़बार ने साप्ताहिक के रूप में अपनी एक अलग पहचान बनायी। कालान्तर में बिहार का विभाजन हुआ। रत्नगर्भा धरती झारखण्ड को अलग पहचान मिली। पर 'मिथिला वर्णन' न सिर्फ मिथिला और बिहार का, बल्कि झारखण्ड का भी प्रतिनिधित्व करता रहा। समय बदला, परिस्थितियां बदलीं। अन्तर सिर्फ यह हुआ कि हमारा मुख्यालय बदल गया। लेकिन एशिया महादेश में सबसे बड़े इस्पात कारखाने को अपनी गोद में समेटे झारखण्ड की धरती बोकारो इस्पात नगर से प्रकाशित यह साप्ताहिक शहर और गाँव के लोगों की आवाज बनकर आज भी 'स्वच्छ और स्वस्थ पत्रकारिता' के क्षेत्र में निरन्तर गतिशील है। संचार क्रांति के इस युग में आज यह अख़बार 'फेसबुक', 'ट्वीटर' और उसके बाद 'वेबसाइट' पर भी उपलब्ध है। हमें उम्मीद है कि अपने सुधी पाठकों और शुभेच्छुओं के सहयोग से यह अखबार आगे और भी प्रगतिशील होता रहेगा। एकबार हम अपने सहयोगियों के प्रति पुनः आभार प्रकट करते हैं, जिन्होंने हमें इस मुकाम तक पहुँचाने में अपना विशेष योगदान दिया है।

Leave a Reply