DVC में कई मुख्य अभियंता इधर-उधर, BTPS के CE बने डीवीसी मेजिया के HoP

0
392
बोकारो थर्मल से स्थानांतरित किये गए मुख्य अभियंता निखिल चौधरी।

संवाददाता

बोकारो थर्मल। बोकारो थर्मल के सीई निखिल कुमार चौधरी का तबादला डीवीसी मेजिया कर दिया गया है.डीवीसी मेजिया के एचओपी चंद्रशेखर त्रिपाठी के 31 जुलाई को अवकाश ग्रहण करने के बाद वे एनके चौधरी एचओपी का पदभार ग्रहण करेंगे. इसी प्रकार कोडरमा के एचओपी एमसी मिश्रा का तबादला कोलकाता कर दिया गया है.कोलकाता के सीई वन देवाशीष घोष के 31 जुलाई को अवकाश ग्रहण करने के बाद एमसी मिश्रा पदभार ग्रहण करेंगे.

डीवीसी मैथन हाईडल के सीई एके मल्लिक के 31 जुलाई को अवकाश ग्रहण करने के बाद पंचेत के एचओपी सुप्रीयो गुप्ता को डीवीसी मैथन हाईडल के सीई का अतिरिक्त प्रभार दिया गया है.रघुनाथपुर के सीई सजल बनर्जी को डीवीसी कोडरमा का एचओपी बनाया गया है.

डीवीसी चंद्रपुरा ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट के निदेशक पीके दास का तबादला एसएलडीसी हावड़ा कर दिया गया है. कोलकाता के सीई वन अंजन कुमार डे को ईडी सिस्टम बनाया गया है. उपरोक्त सभी तबादला डीवीसी कोलकाता के ईडी एचआर एके वर्मा के द्वारा 22 जुलाई को किया गया है.

  • Varnan Live Report.
Previous articleSAIL ने चन्द्रयान – 2 के लिए की स्पेशल क्वालिटी के स्टील की आपूर्ति
Next articleअज्ञात वाहन की चपेट में आकर बाइक सवार घायल
मिथिला वर्णन (Mithila Varnan) : स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता'! DAVP मान्यता-प्राप्त झारखंड-बिहार का अतिलोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक अब न्यूज-पोर्टल के अवतार में भी नियमित अपडेट रहने के लिये जुड़े रहें हमारे साथ- facebook.com/mithilavarnan twitter.com/mithila_varnan ---------------------------------------------------- 'स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता', यही है हमारा लक्ष्य। इसी उद्देश्य को लेकर वर्ष 1985 में मिथिलांचल के गर्भ-गृह जगतजननी माँ जानकी की जन्मभूमि सीतामढ़ी की कोख से निकला था आपका यह लोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक 'मिथिला वर्णन'। उन दिनों अखण्ड बिहार में इस अख़बार ने साप्ताहिक के रूप में अपनी एक अलग पहचान बनायी। कालान्तर में बिहार का विभाजन हुआ। रत्नगर्भा धरती झारखण्ड को अलग पहचान मिली। पर 'मिथिला वर्णन' न सिर्फ मिथिला और बिहार का, बल्कि झारखण्ड का भी प्रतिनिधित्व करता रहा। समय बदला, परिस्थितियां बदलीं। अन्तर सिर्फ यह हुआ कि हमारा मुख्यालय बदल गया। लेकिन एशिया महादेश में सबसे बड़े इस्पात कारखाने को अपनी गोद में समेटे झारखण्ड की धरती बोकारो इस्पात नगर से प्रकाशित यह साप्ताहिक शहर और गाँव के लोगों की आवाज बनकर आज भी 'स्वच्छ और स्वस्थ पत्रकारिता' के क्षेत्र में निरन्तर गतिशील है। संचार क्रांति के इस युग में आज यह अख़बार 'फेसबुक', 'ट्वीटर' और उसके बाद 'वेबसाइट' पर भी उपलब्ध है। हमें उम्मीद है कि अपने सुधी पाठकों और शुभेच्छुओं के सहयोग से यह अखबार आगे और भी प्रगतिशील होता रहेगा। एकबार हम अपने सहयोगियों के प्रति पुनः आभार प्रकट करते हैं, जिन्होंने हमें इस मुकाम तक पहुँचाने में अपना विशेष योगदान दिया है।

Leave a Reply