मैथिली कविता : योग जीवन

0
528
Symbolic Pic of Yoga (Courtesy : Google Images)
– Ram Chandra Mishra “Madhukar”

योग नहि थिक कला कौशल,
योग अनुपम धर्म थिक,
योग थिक विज्ञान धन,
तन मन सुधारक कर्म थिक।

विज्ञान ई व्यवहार कार्यक,
करय सेवा मनुज जीवन
रोग केर कारण हटाएब,
स्वस्थ्य अनुखन मानवक तन।

मोक्ष अछि उद्देश्य योगक,
करय मनुजक, दु:ख हरण,
क्लेश बंधन वासना सं,
मुक्तिदाता ऋषिक चिन्तन।

परम लक्ष्य ई जीवनक अछि,
पुरुषार्थ प्राप्तिक परम साधन,
जीवनक उत्थान पथ ई,
रोग मुक्तिक भोग साधन।

शारीरिक बल बुद्धि विकसित,
आयु आ’ सौन्दर्य बढ़य
प्राण शक्तिक अभ्युदय हो,
ध्यान मानस शान्ति भेटय।

योग हो जीवनक शैली,
योग कर्मक क्रान्ति साधन
करी जन मानस कें जागृत,
लक्ष्य बनाबी योग जीवन।

Previous articleएक महायुद्ध ऐसा भी…!
Next articleहिन्दी कविता : तपती धरती
मिथिला वर्णन (Mithila Varnan) : स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता'! DAVP मान्यता-प्राप्त झारखंड-बिहार का अतिलोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक अब न्यूज-पोर्टल के अवतार में भी नियमित अपडेट रहने के लिये जुड़े रहें हमारे साथ- facebook.com/mithilavarnan twitter.com/mithila_varnan ---------------------------------------------------- 'स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता', यही है हमारा लक्ष्य। इसी उद्देश्य को लेकर वर्ष 1985 में मिथिलांचल के गर्भ-गृह जगतजननी माँ जानकी की जन्मभूमि सीतामढ़ी की कोख से निकला था आपका यह लोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक 'मिथिला वर्णन'। उन दिनों अखण्ड बिहार में इस अख़बार ने साप्ताहिक के रूप में अपनी एक अलग पहचान बनायी। कालान्तर में बिहार का विभाजन हुआ। रत्नगर्भा धरती झारखण्ड को अलग पहचान मिली। पर 'मिथिला वर्णन' न सिर्फ मिथिला और बिहार का, बल्कि झारखण्ड का भी प्रतिनिधित्व करता रहा। समय बदला, परिस्थितियां बदलीं। अन्तर सिर्फ यह हुआ कि हमारा मुख्यालय बदल गया। लेकिन एशिया महादेश में सबसे बड़े इस्पात कारखाने को अपनी गोद में समेटे झारखण्ड की धरती बोकारो इस्पात नगर से प्रकाशित यह साप्ताहिक शहर और गाँव के लोगों की आवाज बनकर आज भी 'स्वच्छ और स्वस्थ पत्रकारिता' के क्षेत्र में निरन्तर गतिशील है। संचार क्रांति के इस युग में आज यह अख़बार 'फेसबुक', 'ट्वीटर' और उसके बाद 'वेबसाइट' पर भी उपलब्ध है। हमें उम्मीद है कि अपने सुधी पाठकों और शुभेच्छुओं के सहयोग से यह अखबार आगे और भी प्रगतिशील होता रहेगा। एकबार हम अपने सहयोगियों के प्रति पुनः आभार प्रकट करते हैं, जिन्होंने हमें इस मुकाम तक पहुँचाने में अपना विशेष योगदान दिया है।

Leave a Reply