जाको राखे साईयां… ओवरब्रिज से 100 फुट नीचे बाइक समेत गिरा, फिर भी यूं बच गई जान

0
227

बोकारो थर्मल। बोकारो थर्मल में 134 करोड़ की लागत से डीवीसी के निर्माणाधीन ओवरब्रिज से बाइक सहित सौ फीट नीचे गिरने दो युवक गंभीर रुप से घायल हो गये। घटना रविवार साढ़े सात बजे रात्रि की है। गंभीर रूप से दोनों घायलों को डीवीसी के स्थानीय अस्पताल से प्राथमिक उपचार के बाद बेहतर इलाज के लिए बोकारो बीजीएच रेफर कर दिया गया है।

घायलों का उपचार करते डॉक्टर।

घटना के संबंध में बताया जाता है कि आईईएल थाना क्षेत्र अंतर्गत लटखुट्टा निवासी 30 वर्षीय राजेश गंझू और 25 वर्षीय वरुण गंझू बजाज पल्सर बाइक से बोकारो थर्मल से आईईएल जाने के लिए रेलवे गेट के समीप से ओवरब्रिज पर चढ़ने की बजाय बोकारो थर्मल डिग्री कॉलेज के बगल से निर्माणाधीन ओवरब्रिज पर तेज रफ्तार से बाइक लेकर निकल गया। कार्यरत कंपनी के द्वारा निर्माणाधीन ओवरब्रिज पर बैरेकेडिंग नहीं लगाकर रखने की वजह से दोनों युवक बाइक सहित सौ फीट नीचे गिर पडा़। नीचे गिरने के कारण दोनों का हाथ, पैर और जबड़ा टूट गया, लेकिन गनीमत रही कि दोनों की जान बच गयी। स्थानीय लोगों ने दोनों घायलों को इलाज के लिए डीवीसी अस्पताल पहुंचाया। अस्पताल में डॉक्टर ए दास ने दोनों का प्राथमिक उपचार के बाद बेहतर इलाज के लिए बीजीएच रेफर कर दिया है।

– Varnan Live Report.

Previous articleजागरुकता रथ निकाल बालहिंसा के खिलाफ जगाई सामाजिक चेतना
Next articleCM ने पूजा-अर्चना कर मांगा राज्य की खुशहाली का आशीर्वाद, कहा- प्रकृति के पुजारी हैं संताली
मिथिला वर्णन (Mithila Varnan) : स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता'! DAVP मान्यता-प्राप्त झारखंड-बिहार का अतिलोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक अब न्यूज-पोर्टल के अवतार में भी नियमित अपडेट रहने के लिये जुड़े रहें हमारे साथ- facebook.com/mithilavarnan twitter.com/mithila_varnan ---------------------------------------------------- 'स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता', यही है हमारा लक्ष्य। इसी उद्देश्य को लेकर वर्ष 1985 में मिथिलांचल के गर्भ-गृह जगतजननी माँ जानकी की जन्मभूमि सीतामढ़ी की कोख से निकला था आपका यह लोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक 'मिथिला वर्णन'। उन दिनों अखण्ड बिहार में इस अख़बार ने साप्ताहिक के रूप में अपनी एक अलग पहचान बनायी। कालान्तर में बिहार का विभाजन हुआ। रत्नगर्भा धरती झारखण्ड को अलग पहचान मिली। पर 'मिथिला वर्णन' न सिर्फ मिथिला और बिहार का, बल्कि झारखण्ड का भी प्रतिनिधित्व करता रहा। समय बदला, परिस्थितियां बदलीं। अन्तर सिर्फ यह हुआ कि हमारा मुख्यालय बदल गया। लेकिन एशिया महादेश में सबसे बड़े इस्पात कारखाने को अपनी गोद में समेटे झारखण्ड की धरती बोकारो इस्पात नगर से प्रकाशित यह साप्ताहिक शहर और गाँव के लोगों की आवाज बनकर आज भी 'स्वच्छ और स्वस्थ पत्रकारिता' के क्षेत्र में निरन्तर गतिशील है। संचार क्रांति के इस युग में आज यह अख़बार 'फेसबुक', 'ट्वीटर' और उसके बाद 'वेबसाइट' पर भी उपलब्ध है। हमें उम्मीद है कि अपने सुधी पाठकों और शुभेच्छुओं के सहयोग से यह अखबार आगे और भी प्रगतिशील होता रहेगा। एकबार हम अपने सहयोगियों के प्रति पुनः आभार प्रकट करते हैं, जिन्होंने हमें इस मुकाम तक पहुँचाने में अपना विशेष योगदान दिया है।

Leave a Reply