व्यक्तित्व विकास और मानसिक संतुलन के लिए धैर्य जरूरी : साध्वी प्रमुखा कनकप्रभा

0
351

अमृत महोत्सव पर ऑनलाइन समागम में बताए सफल जीवन के गुर

बोकारो। ‘व्यक्तित्व विकास के लिए जिन गुणों को अपेक्षित माना जाता है, उनमें एक विशिष्ट गुण है- धैर्य। मन पर अनुशासन करने वाली अथवा मन को संतुलित करने वाली बुद्धि का नाम है- धैर्य। धैर्य संपन्न व्यक्ति छोटी-बड़ी किसी भी स्थिति से प्रभावित हुए बिना अपने कर्तव्यपथ पर अग्रसर रहता है। लक्ष्य की प्राप्ति में विलम्ब होने पर भी वह विचलित नहीं होता, शांत भाव से आगे बढ़ता रहता है।’ ये बातें तेरापंथ धर्म संघ की अष्टम असाधारण साध्वी प्रमुखा कनकप्रभा ने कही। अखिल भारतीय तेरापंथ महिला मंडल की ओर से साध्वी प्रमुखा के अमृत महोत्सव के उपलक्ष्य में बुधवार को आयोजित ऑनलाइन समागम के दौरान उन्होंने ये बातें कहीं। सफल जीवन के गुर सिखाते हुए साध्वी प्रमुखा ने कहा कि धैर्य का संबंध न ज्ञान के साथ है, न आचरण के साथ। कछ व्यक्ति विशिष्ट ज्ञान सम्पन्न होने पर भी साधारण-सी प्रतिकलता की स्थिति में अधीर हो जाते हैं। कुछ व्यक्तियों का चरित्रबल पृष्ट होता है। उनके आचरण पर किसी को अंगुली उठाने का मौका नहीं मिलता, पर वे विषम परिस्थितियों में शीघ्र ही अपना संतुलन खो देते हैं। इस दृष्टि से यह माना जा सकता है कि धैर्य का विकास होने पर व्यक्तित्व के अन्य पहलू अपने आप पुष्ट हो जाते हैं।

आत्महत्या अधीरता का परिणाम, सफलता का शॉर्टकट नहीं

उन्होंने कहा कि कुछ मनुष्य शार्टकट मेथड से सफलता पाना चाहते हैं। उसके लिए उचित-अनुचित संसाधनों का उपयोग करने में भी कोई विचार नहीं होता। इसके बावजूद सफलता न मिले या उसकी प्राप्ति में देरी हो जाए, तो निराश हो जाते हैं। उनमें से कुछ व्यक्ति आत्महत्या भी कर लेते हैं। ये अधीरता के परिणाम हैं। धैर्य संपन्न व्यक्ति जानता है कि बीज को वृक्ष बनने में कितना समय लगता है। पानी को बर्फ बनने में समय लगता है। प्रवृत्ति की निष्पत्ति समयसाध्य होती है। इन अनुभवों के आध पर पर वह सफलता के लिए उचित समय की प्रतीक्षा करता है, किन्तु निराश होकर अपने लक्ष्य की दिशा नहीं बदलता और कोई गलत काम भी नहीं करता। तेरापंथ महिला मंडल की स्थानीय अध्यक्ष रेणु चोरड़िया ने इस आशय की जानकारी देते हुए बताया कि साध्वी प्रमुखा गत पचास वर्षों से नारी चेतना को जागृत करने, स्वस्थ परिवार स्वस्थ समाज के निर्माण का अद्भुत कार्य कर रही हैं।

– Varnan Live Report.

Previous articlemyClassroom ने लॉन्च किया “mySEAT 202” – आईआईटी, एम्स और भारत के शीर्ष 100 कॉलेजों में सीट की गारंटी का दिया मौका
Next articleनियोजन नियमावली में मैथिली को शामिल करने को लेकर मुखर हुए लोग
मिथिला वर्णन (Mithila Varnan) : स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता'! DAVP मान्यता-प्राप्त झारखंड-बिहार का अतिलोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक अब न्यूज-पोर्टल के अवतार में भी नियमित अपडेट रहने के लिये जुड़े रहें हमारे साथ- facebook.com/mithilavarnan twitter.com/mithila_varnan ---------------------------------------------------- 'स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता', यही है हमारा लक्ष्य। इसी उद्देश्य को लेकर वर्ष 1985 में मिथिलांचल के गर्भ-गृह जगतजननी माँ जानकी की जन्मभूमि सीतामढ़ी की कोख से निकला था आपका यह लोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक 'मिथिला वर्णन'। उन दिनों अखण्ड बिहार में इस अख़बार ने साप्ताहिक के रूप में अपनी एक अलग पहचान बनायी। कालान्तर में बिहार का विभाजन हुआ। रत्नगर्भा धरती झारखण्ड को अलग पहचान मिली। पर 'मिथिला वर्णन' न सिर्फ मिथिला और बिहार का, बल्कि झारखण्ड का भी प्रतिनिधित्व करता रहा। समय बदला, परिस्थितियां बदलीं। अन्तर सिर्फ यह हुआ कि हमारा मुख्यालय बदल गया। लेकिन एशिया महादेश में सबसे बड़े इस्पात कारखाने को अपनी गोद में समेटे झारखण्ड की धरती बोकारो इस्पात नगर से प्रकाशित यह साप्ताहिक शहर और गाँव के लोगों की आवाज बनकर आज भी 'स्वच्छ और स्वस्थ पत्रकारिता' के क्षेत्र में निरन्तर गतिशील है। संचार क्रांति के इस युग में आज यह अख़बार 'फेसबुक', 'ट्वीटर' और उसके बाद 'वेबसाइट' पर भी उपलब्ध है। हमें उम्मीद है कि अपने सुधी पाठकों और शुभेच्छुओं के सहयोग से यह अखबार आगे और भी प्रगतिशील होता रहेगा। एकबार हम अपने सहयोगियों के प्रति पुनः आभार प्रकट करते हैं, जिन्होंने हमें इस मुकाम तक पहुँचाने में अपना विशेष योगदान दिया है।

Leave a Reply