Ballets beat Bullets : नक्सलियों के गढ़ में भारी रही लोकतांत्रिक धमक

0
313

विशाल अग्रवाल, Correspondent.

गोमिया (बोकारो) : लोकतंत्र के महापर्व के लिए रविवार का दिन मंगलकारी साबित हुआ। कल तक जहां बदूकें लहरती थी, वहां अब लोकतंत्र की जय-जयकार हो रही है। गोमिया के नक्सल प्रभावित इलाके तुइयो, राजडेरवा, कुरकुटिया, चैयाटांड़, दनरा, अमन, चचुआबेड़ा, खराबेड़ा गांव के उत्क्रमित मध्य विद्यालय चुट्टे बूथ संख्या 36, 37, 38 एवं 39 सहित विभिन्न बूथों पर वोट बरसते रहे। सुबह से मौसम में गर्मी के बावजूद लोधी, कुर्कनालो, पेजुआ के विभिन्न बूथों पर वोटरों की लंबी लाइन लग गयी थी। वोट देने के लिये मतदाताओं का उत्साह व उमंग चरम पर नजर आया। बूथों पर पुरुष और महिला मतदाताओं से लंबी लाइन जागरूकता का संदेश दे रही थी। क्षेत्र के करीब 3-4 मतदान केंद्रों पर इवीएम सहित अन्य तकनीकी खराबी के कारण कुछ देर मतदान बाधित रहा। हालांकि प्रशासन की तत्परता के कारण जल्द ही आयी खराबी को दूर कर मतदान सुचारु रूप से शुरू करवा दिया गया। हाई प्रोफाइल चेहरों ने किया मतदाननये से लेकर बुजुर्ग मतदाताओं का उत्साह देखते ही बन रहा था। यहां मतदान करने गोमिया प्रखंड प्रमुख गुलाब चन्द्र हांसदा, उप प्रमुख मिना देवी ने भी मतदान किया। मतदान केंद्रों पर स्काउट एंड गाइड मुस्तैदी से कर्तव्य निर्वहन में लगे रहे. वोटरों को लाइन में लगाने से लेकर दिव्यांग सहित बुजुर्ग मतदाताओं को मतदान में स्काउंट एंड गाइड की मदद ली गयी।

चुनावी गतिविधि पर होती रही कड़ी निगरानी

चुनाव के दौरान चुनावी गतिविधि को लेकर प्रखंड क्षेत्र में चुनाव कार्य में लगे 110 वाहनों से निगरानी की जा रही थी। खासकर नक्सल प्रभावित क्षेत्र झुमरा पहाड़ स्थित उत्क्रमित मध्य विद्यालय मतदान केंद्र की संख्या 44 पर हेलीकॉप्टर द्वारा मतदान कर्मियों को वहां पहुंचाया गया। में हेलीकॉप्टर द्वारा झुमरा क्षेत्र कड़ी निगरानी रखी जा रही थी। तो दूसरी तरफ गोमिया बीडीओ मोनी कुमारी, सीओ ओम प्रकाश मंडल, गोमिया सीआई सुरेश बर्णवाल मतदान केंद्रों पर जाकर हालात का जायजा लिया। नक्सल गतिविधियों को देखते हुए तुइयो, राजडेरवा, कुरकुटिया, चैयाटांड़, दनरा, अमन, चचुआबेड़ा, खराबेड़ा आदि नक्सल प्रभावित इलाके में लोकसभा चुनाव के मद्देनजर अति उग्रवाद प्रभावित क्षेत्र चतरोचट्टी थाना, महुआटांड़ थाना एवं जागेश्वर बिहार थाना क्षेत्र में सुरक्षा प्रबंध की व्यापक व्यवस्था की गई थी। वहां केंद्रीय अर्धसैनिक बल, सीआरपीएफ की कंपनी के अलावा जगुआर, जैप, जिला पुलिस, होमगार्ड के पांच कंपनियां क्षेत्र में तैनात किए गए तथाा सीमा को पूरी तरह सील कर दिया गया था।

  • Varnanlive Report 12/05/19.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.