The Democratic Devotion : विवाह मंडप से उठकर मतदान देने पहुंची दुल्हन

0
326

विदाई से पहले हो आयी मतदान केन्द्र, कहा- है हमारा संवैधानिक अधिकार

Kumar Sanjay

Correspondent, Bokaro Thermal.
मतदान केंद्र के बाहर मत देने के बाद दुल्हन पुष्पा अपने दूल्हा के साथ.

बोकारो थर्मल ः बोकारो जिले के बेरमो अनुमंडल के गांधीनगर थाना क्षेत्र अंतर्गत जरीडीह पश्चिमी पंचायत के सरैयाटांड़ चैती दुर्गा मंदिर के समीप सामुदायिक भवन में बूथ संख्या 44 में सुबह मतदान शुरू होते ही एक दुल्हन शादी के जोड़े में वोट देने पहुंची.मतदान केंद्र पर आते ही देखने के लिए काफी संख्या में लोगों की भीड़ जुट गई। डिहवा गांव के चंद्रदेव महतो उर्फ सीडी सिंह की पुत्री पुष्पा कुमारी का विवाह बगोदर के राजकुमार के साथ रविवार की सुबह संपन्न हुआ। बारात शनिवार रात्रि को पहुंची थी। सुबह दुल्हन ने वोट देने की इच्छा जाहिर की तो सजी कार पर विदाई के पूर्व दुल्हन दूल्हे के साथ अपना वोट देने मतदान केंद्र पहुंची। दुल्हन पुष्पा ने शादी के जोड़े में अपने मताधिकार का प्रयोग किया। दुल्हन पुष्पा ने कहा कि मतदान हमारा संवैधानिक अधिकार है। चुनाव में एक-एक मत का महत्व होता है, इसलिए हमने अपने मत का प्रयोग करने की सोची। पुष्पा केवी कॉलेज से स्नातक की शिक्षा पूरी कर चुकी है। पुष्पा ने मतदाताओं से अपील किया कि हर व्यक्ति अपने मताधिकार का प्रयोग अवश्य करें.गांधीनगर थाना प्रभारी आरबी सिंह ने भी दुल्हन की इस पहल की प्रशंसा करते हुए दूल्हा दुल्हन को आशीर्वाद दिया।

  • Varnan Live Report. (12/05/2019)
Previous articleBallets beat Bullets : नक्सलियों के गढ़ में भारी रही लोकतांत्रिक धमक
Next article” चल बेटा, ले चल वोट दिलाने…!”
मिथिला वर्णन (Mithila Varnan) : स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता'! DAVP मान्यता-प्राप्त झारखंड-बिहार का अतिलोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक अब न्यूज-पोर्टल के अवतार में भी नियमित अपडेट रहने के लिये जुड़े रहें हमारे साथ- facebook.com/mithilavarnan twitter.com/mithila_varnan ---------------------------------------------------- 'स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता', यही है हमारा लक्ष्य। इसी उद्देश्य को लेकर वर्ष 1985 में मिथिलांचल के गर्भ-गृह जगतजननी माँ जानकी की जन्मभूमि सीतामढ़ी की कोख से निकला था आपका यह लोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक 'मिथिला वर्णन'। उन दिनों अखण्ड बिहार में इस अख़बार ने साप्ताहिक के रूप में अपनी एक अलग पहचान बनायी। कालान्तर में बिहार का विभाजन हुआ। रत्नगर्भा धरती झारखण्ड को अलग पहचान मिली। पर 'मिथिला वर्णन' न सिर्फ मिथिला और बिहार का, बल्कि झारखण्ड का भी प्रतिनिधित्व करता रहा। समय बदला, परिस्थितियां बदलीं। अन्तर सिर्फ यह हुआ कि हमारा मुख्यालय बदल गया। लेकिन एशिया महादेश में सबसे बड़े इस्पात कारखाने को अपनी गोद में समेटे झारखण्ड की धरती बोकारो इस्पात नगर से प्रकाशित यह साप्ताहिक शहर और गाँव के लोगों की आवाज बनकर आज भी 'स्वच्छ और स्वस्थ पत्रकारिता' के क्षेत्र में निरन्तर गतिशील है। संचार क्रांति के इस युग में आज यह अख़बार 'फेसबुक', 'ट्वीटर' और उसके बाद 'वेबसाइट' पर भी उपलब्ध है। हमें उम्मीद है कि अपने सुधी पाठकों और शुभेच्छुओं के सहयोग से यह अखबार आगे और भी प्रगतिशील होता रहेगा। एकबार हम अपने सहयोगियों के प्रति पुनः आभार प्रकट करते हैं, जिन्होंने हमें इस मुकाम तक पहुँचाने में अपना विशेष योगदान दिया है।

Leave a Reply