Mithila Diary : नये सांसद के लिए चैलेंज होगी जयनगर-सीतामढ़ी रेल परियोजना

0
318

संवाददाता

सीतामढ़ी : मधुबनी, झंझारपुर और सीतामढ़ी क्षेत्रों से गुजरकर जयनगर-सीतामढ़ी रेल मार्ग की मांग लंबे समय से की जा रहा है। बुलेट ट्रेन के इस युग में बॉर्डर इलाकों को जोड़ने वाली जयनगर-सीतामढ़ी रेल परियोजना एक सपना बनकर ही रह गयी है, जिसे बनाने को लेकर करीब नौ साल पहले ही वर्ष 2009 में मंजूरी दी गई थी, मगर अभी तक इस दिशा में कोई ठोस कदम नहीं उठाया जा रहा है। यानी यह परियोजना खटाई में पड़ चुकी है। मालूम हो कि रेलवे बुक में इस रेल परियोजना का नाम दर्ज हैं, जिसे बनाने की स्वीकृति मिलने के बाद सर्वे भी किया गया, जहां सर्वे के बाद मार्ग को तय कर लगभग एक दर्जन स्टेशनों और हॉल्ट का चयन भी कर लिया गया। अधिग्रहण के लिए जमीन की मापी कर पिलर भी गाड़े गया, लेकिन इसका कोई नतीजा नहीं निकला। इसके कारण परियोजना का कहीं कोई नाम-वजूद भी नहीं बन सका है। जयनगर-सीतामढ़ी रेल परियोजना बनने से तीन जिलों मधुबनी, सुपौल एवं सीतामढ़ी के निर्मली, लौकही, जयनगर, बासोपट्टी, हरलाखी, बेनीपट्टी, चरौत, सुरसंड और सीतामढ़ी प्रखंडों के दर्जनों गांवों को जोड़ा जा सकेगा। इस परियोजना के पूरी होने से बेनीपट्टी और सुरसंड जैसा महत्वपूर्ण बाजार रेल से जुड़ जाएगा। चुनाव के बाद जो नये सांसद बनेंगे, उनके लिये निश्चित रूप से उक्त परियोजना एक चुनौती होगी तो स्थानीय जनता के लिये उनसे एक बड़ी उम्मीद भी।

  • Varnan Live Report.
Previous articleबोखड़ा में शांतिपूर्ण चुनाव संपन्न, न प्राथमिकी, न कोई हिरासत में
Next articleजीवन का सबसे सुखद भाव है श्रद्धा – गुरुदेव श्री नंदकिशोर श्रीमाली
मिथिला वर्णन (Mithila Varnan) : स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता'! DAVP मान्यता-प्राप्त झारखंड-बिहार का अतिलोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक अब न्यूज-पोर्टल के अवतार में भी नियमित अपडेट रहने के लिये जुड़े रहें हमारे साथ- facebook.com/mithilavarnan twitter.com/mithila_varnan ---------------------------------------------------- 'स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता', यही है हमारा लक्ष्य। इसी उद्देश्य को लेकर वर्ष 1985 में मिथिलांचल के गर्भ-गृह जगतजननी माँ जानकी की जन्मभूमि सीतामढ़ी की कोख से निकला था आपका यह लोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक 'मिथिला वर्णन'। उन दिनों अखण्ड बिहार में इस अख़बार ने साप्ताहिक के रूप में अपनी एक अलग पहचान बनायी। कालान्तर में बिहार का विभाजन हुआ। रत्नगर्भा धरती झारखण्ड को अलग पहचान मिली। पर 'मिथिला वर्णन' न सिर्फ मिथिला और बिहार का, बल्कि झारखण्ड का भी प्रतिनिधित्व करता रहा। समय बदला, परिस्थितियां बदलीं। अन्तर सिर्फ यह हुआ कि हमारा मुख्यालय बदल गया। लेकिन एशिया महादेश में सबसे बड़े इस्पात कारखाने को अपनी गोद में समेटे झारखण्ड की धरती बोकारो इस्पात नगर से प्रकाशित यह साप्ताहिक शहर और गाँव के लोगों की आवाज बनकर आज भी 'स्वच्छ और स्वस्थ पत्रकारिता' के क्षेत्र में निरन्तर गतिशील है। संचार क्रांति के इस युग में आज यह अख़बार 'फेसबुक', 'ट्वीटर' और उसके बाद 'वेबसाइट' पर भी उपलब्ध है। हमें उम्मीद है कि अपने सुधी पाठकों और शुभेच्छुओं के सहयोग से यह अखबार आगे और भी प्रगतिशील होता रहेगा। एकबार हम अपने सहयोगियों के प्रति पुनः आभार प्रकट करते हैं, जिन्होंने हमें इस मुकाम तक पहुँचाने में अपना विशेष योगदान दिया है।

Leave a Reply