Mata Kalika Bhajan | Raga Adana | By- Pandit Naresh Sinha | Maa Kali Bhajan | Tabla- Bachan Maharaj

0
740

‘माता कालिका महाकाल महारानी भवानी…’

  • काली पूजा पर बोकारो में बही संगीत-रसधार

बोकारो : कालीपूजा के उपलक्ष्य में गत वर्षो की भांति इस बार भी मैथिली कला मंच, काली पूजा ट्रस्ट के तत्वावधान में सेक्टर- 2 स्थित श्यामा माई मंदिर में शास्त्रीय एवं सुगम संगीत के कार्यक्रम का भव्य आयोजन किया गया। इस अवसर पर अतिथि कलाकारों के साथ-साथ स्थानीय लब्ध-प्रतिष्ठित कलाकारों ने अपनी गायकी से ऐसा समा बांधा कि रातभर सोता मंत्रमुग्ध हो झूमते रहे। एक तरफ मां काली की विधिवत भव्य पूजा होती रही, वहीं दूसरी ओर संगीत की सरिता प्रवाहित होती रही।
मुख्य आकर्षण का केंद्र सुरमणि सम्मानित बोकारो के प्रसिद्ध संगीतज्ञ पंडित नरेश सिन्हा का गायन रहा। विभिन्न रागों एवं तालों में निबद्ध उन्होंने अपनी गायकी से सबको मोहित कर दिया तथा मंदिर परिसर ही नहीं, आसपास का पूरा इलाका तालियों की गड़गड़ाहट से रातभर गूंजता रहा। उन्होंने राग अड़ाना में ‘माता कालिका महाकाल महारानी भवानी’… से अपनी गायकी शुरू की। इसके बाद राग दुर्गा में ‘जय दुर्गे दुर्गति परिहरिणी…’ राग मालकोश में ‘माता शारदे…’ एवं अन्य गीतों की प्रस्तुति की।
जिस प्रकार उन्होंने अपनी गायकी का दम दिखाया, ठीक उसी तरह तबले पर उनके साथ संगत कर रहे सुविख्यात तबलावादक पं. बच्चनजी महाराज ने ऐसी धमाकेदार पेशकश की श्रोता तालियां बजाते और झूमते नहीं थक रहे थे। कार्यक्रम का संचालन मैथिली कलामंच काली पूजा ट्रस्ट के महासचिव सुनील मोहन ठाकुर ने किया।

नियमित अपडेट रहने के लिये जुड़े रहें हमारे साथ-
Facebook- facebook.com/mithilavarnan
Follow us- twitter.com/mithila_varnan

  • Varnan Live.
Previous articleRaga Bhairavi | Bhavani Dayani | Naresh Sinha Live | Devotional bhajan | Tabla- Bachchan Maharaj
Next articleMaithili Thakur Sings समदाओन (Samdaon) | Maithili Lokgeet (Vidai Geet) | Tabla- Rupak Jha
मिथिला वर्णन (Mithila Varnan) : स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता'! DAVP मान्यता-प्राप्त झारखंड-बिहार का अतिलोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक अब न्यूज-पोर्टल के अवतार में भी नियमित अपडेट रहने के लिये जुड़े रहें हमारे साथ- facebook.com/mithilavarnan twitter.com/mithila_varnan ---------------------------------------------------- 'स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता', यही है हमारा लक्ष्य। इसी उद्देश्य को लेकर वर्ष 1985 में मिथिलांचल के गर्भ-गृह जगतजननी माँ जानकी की जन्मभूमि सीतामढ़ी की कोख से निकला था आपका यह लोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक 'मिथिला वर्णन'। उन दिनों अखण्ड बिहार में इस अख़बार ने साप्ताहिक के रूप में अपनी एक अलग पहचान बनायी। कालान्तर में बिहार का विभाजन हुआ। रत्नगर्भा धरती झारखण्ड को अलग पहचान मिली। पर 'मिथिला वर्णन' न सिर्फ मिथिला और बिहार का, बल्कि झारखण्ड का भी प्रतिनिधित्व करता रहा। समय बदला, परिस्थितियां बदलीं। अन्तर सिर्फ यह हुआ कि हमारा मुख्यालय बदल गया। लेकिन एशिया महादेश में सबसे बड़े इस्पात कारखाने को अपनी गोद में समेटे झारखण्ड की धरती बोकारो इस्पात नगर से प्रकाशित यह साप्ताहिक शहर और गाँव के लोगों की आवाज बनकर आज भी 'स्वच्छ और स्वस्थ पत्रकारिता' के क्षेत्र में निरन्तर गतिशील है। संचार क्रांति के इस युग में आज यह अख़बार 'फेसबुक', 'ट्वीटर' और उसके बाद 'वेबसाइट' पर भी उपलब्ध है। हमें उम्मीद है कि अपने सुधी पाठकों और शुभेच्छुओं के सहयोग से यह अखबार आगे और भी प्रगतिशील होता रहेगा। एकबार हम अपने सहयोगियों के प्रति पुनः आभार प्रकट करते हैं, जिन्होंने हमें इस मुकाम तक पहुँचाने में अपना विशेष योगदान दिया है।

Leave a Reply