स्वामी चिन्मयानंदजी एक असीम ज्ञानमय विराट व्यक्तित्व : महेश त्रिपाठी

0
575
संवाददाता
बोकारो। स्थानीय चिन्मय विद्यालय में आधुनिक भारत के महान वेदांती महामानव परमपूज्य गुरूदेव स्वामी चिन्मयानंद महाराज का 27वां महापरिनिर्वाण दिवस आराधना दिवस के रूप मे शनिवार को पूरे भक्ति भाव के साथ सोल्लासपूर्वक मनाया गया। इस अवसर पर गुरूदेव को समर्पित कई कार्यक्रमों का आयोजन हुआ। प्रातः काल सर्वप्रथम चिन्मय सप्तर्षि भवन में विशाल सभागार में परमपूज्य स्वामिनी संयुक्तानंद सरस्वती आचार्या चिन्मय मिशन केन्द्र बोकारो के निर्देशन में विद्यालय सचिव महेश त्रिपाठी ने संपूर्ण विश्व के कल्याण हेतु गुरूदेव की पूजा की एवं उनके पादूका का पूजन किया गया। उनके साथ विद्यालय के सभी छात्र-छात्राओं एवं शिक्षकों ने भी चिन्मय अष्टोत्तर शतनाम का पाठ किया और गुरूदेव के चरणों में अपने श्रद्धा-सुमन अर्पित किये।
aaradhna diwas2
सबसे निराले ढंग से चिन्मय विद्यालय के नन्हें विद्यार्थियों ने परम पूज्य गुरूदेव की आराधना की। विद्यालय के तपोवन सभागार में बच्चों ने गुरूदेव के चित्र पर माल्यार्पण किया और बड़े ही सुरूचिपूर्वक तरीके से स्वामीजी के चित्र का फूलों से श्रृंगार किया। उन्होने भजन-कीर्तन किया एवं श्रीमद्भगवदगीता के प्रथम अध्याय का समवेत स्वर में पाठ भी किया।
aaradhna diwas3
वहीं, युवाओं ने खेल में अपनी क्षमता दिखाकर गुरूदेव को नमन किया। परमपूज्य गुरूदेव का कहना था कि युवाओं में असीम सृजनात्मक क्षमता हैं। आवश्यकता इस बात की है कि उन्हें उपयोगहीन न मानकर उन्हें उनकी क्षमता से परिचित कराकर उनकी क्षमता को मानव समाज एवं राष्ट्र के कल्याण के लिए सदुपयोग किया जाए। इस अवसर विद्यालय के मैदान में फुटबाॅल, कबड्डी प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। नर सेवा ही नारायण सेवा है सम्यक ज्ञान ही परम ब्रह्म  है।
                   गुरूदेव के इस दृष्टिकोण को पूरा करने हेतु विद्यालय प्रबंधन ने मानव सेवा आश्रम में बच्चों के बीच अन्न, फल, एवं चाकलेट का वितरण किया गया। इसके बाद डा. रोशन शर्मा, देवज्योति बराल, विजय गोप, पंकज मिश्र, मोहन साव, एसएन झा एवं विद्यालय छात्र सेवा समिति के सदस्यो ने उत्क्रमित विद्यालय चीरा चास में जाकर छात्रों के बीच नवीन पुस्तको का वितरण किया। इस अवसर पर परम पूज्या स्वामिनी संयुक्तानंद सरस्वती ने बच्चों को परम पूज्य गुरूदेव के व्यक्तित्व एवं कृतित्व से अवगत कराया तो विद्यालय सचिव महेश त्रिपाठी ने स्वामी चिन्मयानंद को पूर्ण रूप से असीम ज्ञानमय विराट व्यक्तित्व बताया।
– Varnan Live Report.

Leave a Reply