बोकारो में Flying Institute जल्द, मिली सरकारी सहमति, MLA ने की CEO से वार्ता

0
552

संवाददाता

बोकारो : बोकारो में न केवल जल्द व्यावसायिक हवाई सेवायें शुरू होने जा रही हैं, बल्कि राज्यभर के युवाओं को पायलट की ट्रेनिंग देने की व्यवस्था भी बहाल होने को है। परिवहन एवं नागरिक उड्डयन विभाग (झारखंड सरकार) के निदेशक से इसकी सहमति मिल गयी है। बोकारो हवाई अड्डा स्थित एक कमरे में इस मुद्दे को लेकर बोकारो विधायक बिरंची नारायण रविवार को बोकारो स्टील के सीईओ पीके सिंह से मिले। सरकारी सहमति के आलोक में उन्होंने सीईओ से सहयोग की मांग की। साथ ही, फ्लाइंग इंस्टीच्यूट के कार्यालय को लेकर उनसे हवाई अड्डे में एक कमरा उपलब्ध कराने का आग्रह भी किया। विधायक प्रतिनिधि संजय त्यागी के अनुसार सीईओ श्री सिंह ने सकारात्मक सहयोग का भरोसा दिलाया। त्यागी के अनुसार उक्त संदर्भ में दूरभाष से निदेशक परिवहन एवं नागरिक उड्डयन विभाग, झारखंड सरकार के निदेशक कैप्टन एसपी सिन्हा ने बोकारो विधायक बिरंची नारायण को जानकारी दी।

संजय ने बताया कि झारखंड विधानसभा बजट सत्र में 08 फरवरी, 2019 को विधायक बिरंची नारायण ने शून्यकाल के माध्यम से शीघ्र शुरू होने वाले बोकारो एयरपोर्ट में पायलट ट्रेनिंग हेतु फ्लाइंग इंस्टीच्यूट खोलने का मांग की थी। कहा था कि बोकारो में प्रारंभ होने वाले एयरपोर्ट पर हैवी ट्रैफिक की संभावना कम है। उपलब्ध संसाधन के कारण बोकारो एयरपोर्ट में पायलट ट्रेनिंग हेतु फ्लाइंग इंस्टिट्यूट शुरू करने से बोकारो सहित राज्य भर के मेधावी बच्चे पायलट की ट्रेनिंग प्राप्त कर सकते हैं।

निदेशक, परिवहन एवं नागरिक उड्डयन विभाग, झारखंड सरकार को सहमति देने के लिए विधायक ने राज्य के मुख्यमंत्री रघुवर दास के प्रति भी आभार व्यक्त किया। कहा कि बोकारो में पायलट ट्रेनिंग के लिये फ्लाइंग इंस्टीच्यूट शुरू होने से बोकारो सहित राज्यभर के मेधावी बच्चों की ऊंची उड़ान का सपना साकार होगा।

  • Varnan Live Report.

 

Previous articleसरकारी मदद से उन्नत खेती की नई इबारत रच रहे बोकारो के ये दो किसान
Next articleDigital Jharkhand – start from land records digitization
मिथिला वर्णन (Mithila Varnan) : स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता'! DAVP मान्यता-प्राप्त झारखंड-बिहार का अतिलोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक अब न्यूज-पोर्टल के अवतार में भी नियमित अपडेट रहने के लिये जुड़े रहें हमारे साथ- facebook.com/mithilavarnan twitter.com/mithila_varnan ---------------------------------------------------- 'स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता', यही है हमारा लक्ष्य। इसी उद्देश्य को लेकर वर्ष 1985 में मिथिलांचल के गर्भ-गृह जगतजननी माँ जानकी की जन्मभूमि सीतामढ़ी की कोख से निकला था आपका यह लोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक 'मिथिला वर्णन'। उन दिनों अखण्ड बिहार में इस अख़बार ने साप्ताहिक के रूप में अपनी एक अलग पहचान बनायी। कालान्तर में बिहार का विभाजन हुआ। रत्नगर्भा धरती झारखण्ड को अलग पहचान मिली। पर 'मिथिला वर्णन' न सिर्फ मिथिला और बिहार का, बल्कि झारखण्ड का भी प्रतिनिधित्व करता रहा। समय बदला, परिस्थितियां बदलीं। अन्तर सिर्फ यह हुआ कि हमारा मुख्यालय बदल गया। लेकिन एशिया महादेश में सबसे बड़े इस्पात कारखाने को अपनी गोद में समेटे झारखण्ड की धरती बोकारो इस्पात नगर से प्रकाशित यह साप्ताहिक शहर और गाँव के लोगों की आवाज बनकर आज भी 'स्वच्छ और स्वस्थ पत्रकारिता' के क्षेत्र में निरन्तर गतिशील है। संचार क्रांति के इस युग में आज यह अख़बार 'फेसबुक', 'ट्वीटर' और उसके बाद 'वेबसाइट' पर भी उपलब्ध है। हमें उम्मीद है कि अपने सुधी पाठकों और शुभेच्छुओं के सहयोग से यह अखबार आगे और भी प्रगतिशील होता रहेगा। एकबार हम अपने सहयोगियों के प्रति पुनः आभार प्रकट करते हैं, जिन्होंने हमें इस मुकाम तक पहुँचाने में अपना विशेष योगदान दिया है।

Leave a Reply