नया विधानसभा भवन – झारखंड का अनुपम गौरव

0
1494

विशेष संवाददाता
रांची : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने झारखंड की माटी से जो बड़ी सौगातें दीं, उनमें झारखंड विधानसभा के नये भवन का उद्घाटन मुख्य रूप से शामिल रहा। इस अद्भत नजारे के साक्षी करीब सवा लाख लोग बने। पहली बार झारखंड को अपना विधानसभा भवन मिला, जिसकी भव्यता का जितना वर्णन किया जाय, कम होगा। खास बात यह है कि पूरे देश में पहली पेपरलेस विधानसभा का गौरव झारखंड को प्राप्त हुआ है। इसमें इसके अलावा जल और ऊर्जा संरक्षण की व्यवस्था है। इसकी छत पर झारखंडी संस्कृति की झलक दिख रही है। यहां आगंतुकों के लिए गैलरी बनायी गयी है। विधानसभा में सौर ऊर्जा से भी बिजली की आपूर्ति होगी। यह भवन विश्वस्तरीय सुविधाओं से युक्त हरित भवन की अवधारणा को पूर्ण करता है। मुख्य भवन में 600 किलोवाट बिजली की आपूर्ति सौर ऊर्जा से मिलेगी। यह आपूर्ति आंतरिक और बाह्य आवश्यक्ताओं की 15 प्रतिशत प्रतिपूर्ति करेगी। भवन में वाटर ट्रीटमेंट प्लांट लगाया गया है।

वहीं वर्षा जल संचयन के लिए छह भूमि रिचार्ज पिट लगाये गये हैं। इसके अलावा, विधानसभा के चारों तल्ले की डिजाइन एक समान है। सेंट्रल विंग विधानसभा का मुख्य भवन है। इसमें 400 सीटों का कांफ्रेंस हॉल और सुरक्षाकर्मियों के विश्राम कक्ष से लेकर गार्ड रूम भी बनाये गये हैं। सेंट्रल विंग के बीच में सदन है। सदन में आसन और रिर्पोटियर डेस्क है। उसके सामने सात लाइन में गोलाकार रूप से विधायकों का सीटिंग अरेंजमेंट है। इसमें इलेक्ट्रिकल सब स्टेशन, एसी प्लांट रूम, पुलिस बैरक, मेंटेनेंस रूम, वाटर वर्क्स आदि का निर्माण3500 वर्गमीटर के अलावा 600 किलोवाट बिजली सौर ऊर्जा से मिलेगी। छह वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम बनाये गये हैं।

 

vidhasabha

नये भवन में 162 विधायकों के बैठने की व्यवस्था की गयी है। इसके अलावा 400 लोंगों की क्षमता वाला एक कांफ्रेंस हॉल भी है। बता दें कि इस नये विधानसभा भवन को तीन हिस्से सेंट्रल, ईस्ट और वेस्ट विंग में बांटा गया है। सेंट्रल विंग में विधानसभा सदन है। ईस्ट और वेस्ट विंग पर विधानसभा के पदाधिकारियों-कर्मचारियों के लिए कार्यालय हैं। तीसरे तल्ले पर कैंटीन आदि की सुविधाएं हैं। ग्राउंड फ्लोर में कांफ्रेंस हॉल और सभी विधायकों और कर्मचारियों के लिए पार्किंग की व्यवस्था है। मुख्यमंत्री रघुवर दास ने झारखंड के इस अनुपम गौरव को राज्य की सवा तीन करोड़ जनता के प्रति समर्पित किया है।

  • Varnan Live Report.
Previous articleनये ट्रैफिक नियम, खाकी गुंडई और जनोद्वेलन
Next articleबच्चा चोरी की अफवाह के आतंक में बोकारो
मिथिला वर्णन (Mithila Varnan) : स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता'! DAVP मान्यता-प्राप्त झारखंड-बिहार का अतिलोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक अब न्यूज-पोर्टल के अवतार में भी नियमित अपडेट रहने के लिये जुड़े रहें हमारे साथ- facebook.com/mithilavarnan twitter.com/mithila_varnan ---------------------------------------------------- 'स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता', यही है हमारा लक्ष्य। इसी उद्देश्य को लेकर वर्ष 1985 में मिथिलांचल के गर्भ-गृह जगतजननी माँ जानकी की जन्मभूमि सीतामढ़ी की कोख से निकला था आपका यह लोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक 'मिथिला वर्णन'। उन दिनों अखण्ड बिहार में इस अख़बार ने साप्ताहिक के रूप में अपनी एक अलग पहचान बनायी। कालान्तर में बिहार का विभाजन हुआ। रत्नगर्भा धरती झारखण्ड को अलग पहचान मिली। पर 'मिथिला वर्णन' न सिर्फ मिथिला और बिहार का, बल्कि झारखण्ड का भी प्रतिनिधित्व करता रहा। समय बदला, परिस्थितियां बदलीं। अन्तर सिर्फ यह हुआ कि हमारा मुख्यालय बदल गया। लेकिन एशिया महादेश में सबसे बड़े इस्पात कारखाने को अपनी गोद में समेटे झारखण्ड की धरती बोकारो इस्पात नगर से प्रकाशित यह साप्ताहिक शहर और गाँव के लोगों की आवाज बनकर आज भी 'स्वच्छ और स्वस्थ पत्रकारिता' के क्षेत्र में निरन्तर गतिशील है। संचार क्रांति के इस युग में आज यह अख़बार 'फेसबुक', 'ट्वीटर' और उसके बाद 'वेबसाइट' पर भी उपलब्ध है। हमें उम्मीद है कि अपने सुधी पाठकों और शुभेच्छुओं के सहयोग से यह अखबार आगे और भी प्रगतिशील होता रहेगा। एकबार हम अपने सहयोगियों के प्रति पुनः आभार प्रकट करते हैं, जिन्होंने हमें इस मुकाम तक पहुँचाने में अपना विशेष योगदान दिया है।

Leave a Reply