GOOD NEWS : मुफ्त में संवारिए अपनी तंदुरुस्ती, बोकारो में भी अब जगह-जगह Open Gym

0
670

संवाददाता
बोकारो :
‘मुस्कुराइए आप बोकारो में है’। इस नारे को अमलीजामा पहनाते हुए जिला प्रशासन ने बोकारोवासियों की तंदुरुस्ती को लेकर एक और नया आयाम जोड़ दिया है। स्वच्छ बोकारो, स्वस्थ बोकारो के निर्माण की कड़ी में प्लास्टिक उन्मूलन एवं साइकिल के अधिकाधिक उपयोग से पर्यावरण प्रदूषण पर नियंत्रण की कवायदों के बाद बड़े शहरों की तरह बोकारो में भी जगह-जगह ओपन जिम खोले जाने की पहल की गई है। इसकी शुरुआत सेक्टर-5 स्थित पुस्तकालय मैदान से हो रही है, जहां खुली व्यायामशाला के सभी उपकरणों को स्थापित कर लिया गया है। उन्हें चालू करने को लेकर काम अब अंतिम चरण में है। कारपेटिंग का काम मुख्य रूप से बाकी है। बता दें कि महानगरों की तर्ज पर यहां भी सुबह-सवेरे व्यायाम करने वाले यहां के लोगों को नि:शुल्क जिम की सुविधा खुले तौर पर दी जाने की यह कवायद पहली बार हुई है।

सभी सेक्टरों के मैदान में होगा निर्माण
बोकारो में पहली बार ओपन जिम की अवधारणा को मूर्त रूप देने वाले जिले के उपायुक्त मुकेश कुमार के अनुसार शहर के सभी सेक्टरों में खुले मैदान के बीच इस तरह का एक-एक ओपन जिम खोलने की योजना बनाई गई है। इस्पात नगर क्षेत्र के प्रत्येक सेक्टर में मैदान होने के बावजूद इस तरह की जनसुविधा नहीं थी। जबकि बोकारो में तरक्की की अपार संभावनाएं हैं। इसी उद्देश्य से बड़े शहरों के तर्ज पर बोकारो को भी इस मामले में भी विकसित किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि सभी सेक्टरों के अलावा चास नगर निगम क्षेत्र और आसपास के इलाके से भी इसकी मांग आई है। सभी जगहों को मिलाकर प्रथम चरण में लगभग 20 जगहों पर चास-बोकारो में इस तरह की खुली व्यायामशाला बनाई जाएगी। डीसी ने बताया कि अभी जिम लगाने का काम चल रहा है। चुनाव के बाद विधिवत उद्घाटन होंगे।

चिल्ड्रेन पार्क भी बनेंगे
उपायुक्त मुकेश ने बताया कि पुस्तकालय मैदान के साथ-साथ चास-बोकारो में जिन जगहों पर ओपन जिम बनाए जा रहे हैं, वहीं बगल में ही चिल्ड्रेन पार्क बनाने की भी योजना है। इसका उद्देश्य यह है कि जो भी लोग अपने बच्चों के साथ जिम में व्यायाम करने आयें वो अपने बच्चों को चिल्ड्रेन पार्क में खेलने छोड़ सकते हैं। इससे अभिभावकों के साथ-साथ उनके बच्चों की भी सेहत शुरू से ही अच्छी बनी रह सकेगी।

ठीक से लग जाने पर ही करें उपयोग : डीसी

उपायुक्त ने शहरवासियों से अपील करते हुए कहा कि ओपन जिम बोकारो के लिए फिटनेस जगत में एक धरोहर है। इसकी देखरेख से लेकर इसके इस्तेमाल में जनता का सहयोग भी अपेक्षित है। उन्होंने कहा कि अभी पुस्तकालय मैदान में बन रहा ओपन जिम निमार्णाधीन ही है। पूरी तरह से लग जाने के बाद ही नगरवासी इसका उपयोग करेंगे तो सही रहेगा। उन्होंने कहा कि यद्यपि ओपन जिम सबके लिए ओपन है। कोई शुल्क नहीं है। फिर, आगे चलकर अगर उपकरणों की छोटी-मोटी समस्याएं होती हैं। नट-वोल्ट का ढीला होना, ग्रीसिंग की जरूरत आदि दिक्कतों की स्थिति में सक्षम लोग मदद कर सकते हैं। यह सबके लिए ही है। उन्होंने बताया कि एक जगह पर ओपन जिम बनाने की लागत चार से पांच लाख रुपए के बीच आ रही है। इनमें साइक्लिंग मशीन तक की सुविधाएं शामिल हैं।

स्वस्थ वातावरण देगा उद्देश्य
उपायुक्त ने कहा कि ओपन जिम का उद्देश्य शहरवासियों को स्वस्थ वातावरण देना उद्देश्य है। बड़े शहरों वाली सुविधाओं का लाभ यहां के लोगों को भी मिले, यह उनकी सोच है। इसीलिए उन्होंने इस्पात प्रबंधन के सहयोग से यह कवायद शुरू की है। उल्लेखनीय है कि डीसी मुकेश ने मुस्कुराइए आप बोकारो में है की थीम के तहत प्लास्टिकमुक्त बोकारो बनाने की शुरुआत समाहरणालय से ही की थी। इसके बाद अधिकारियों से लेकर कर्मचारियों तक के लिए हफ्ते में एक दिन साइकिल से कार्यालय जाने की मुहिम भी छेड़ी थी।

लोगों में उत्साह, ले रहे मजे
अपने शहर में पहली बार ओपन जिम बनने को लेकर चास-बोकारो के लोगों में काफी उत्साह देखा जा रहा है। वे निमार्णाधीन स्थिति से ही इसके मजे लेने लगे हैं। बुधवार को बड़ी संख्या में लोगों ने सेक्टर-5 स्थित पुस्तकालय मैदान पहुंचकर व्यायाम के उपकरणों का आनंद लिया। लोगों ने प्रशासन के इस प्रयास की सराहना की है। चास निवासी संतोष बर्णवाल ने यथाशीघ्र चास नगर निगम क्षेत्र में भी ऐसी सुविधा बहाल करने की मांग की है।

– Varnan Live Report

Previous articlePMCH – संवेदनहीनता की मिसाल
Next articleलोकतंत्र के महापर्व में कहीं उत्साह, तो कहीं बेरुखी : बोकारो में मात्र 51.5%, तो चंदनकियारी में रिकार्ड 75% मतदान
मिथिला वर्णन (Mithila Varnan) : स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता'! DAVP मान्यता-प्राप्त झारखंड-बिहार का अतिलोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक अब न्यूज-पोर्टल के अवतार में भी नियमित अपडेट रहने के लिये जुड़े रहें हमारे साथ- facebook.com/mithilavarnan twitter.com/mithila_varnan ---------------------------------------------------- 'स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता', यही है हमारा लक्ष्य। इसी उद्देश्य को लेकर वर्ष 1985 में मिथिलांचल के गर्भ-गृह जगतजननी माँ जानकी की जन्मभूमि सीतामढ़ी की कोख से निकला था आपका यह लोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक 'मिथिला वर्णन'। उन दिनों अखण्ड बिहार में इस अख़बार ने साप्ताहिक के रूप में अपनी एक अलग पहचान बनायी। कालान्तर में बिहार का विभाजन हुआ। रत्नगर्भा धरती झारखण्ड को अलग पहचान मिली। पर 'मिथिला वर्णन' न सिर्फ मिथिला और बिहार का, बल्कि झारखण्ड का भी प्रतिनिधित्व करता रहा। समय बदला, परिस्थितियां बदलीं। अन्तर सिर्फ यह हुआ कि हमारा मुख्यालय बदल गया। लेकिन एशिया महादेश में सबसे बड़े इस्पात कारखाने को अपनी गोद में समेटे झारखण्ड की धरती बोकारो इस्पात नगर से प्रकाशित यह साप्ताहिक शहर और गाँव के लोगों की आवाज बनकर आज भी 'स्वच्छ और स्वस्थ पत्रकारिता' के क्षेत्र में निरन्तर गतिशील है। संचार क्रांति के इस युग में आज यह अख़बार 'फेसबुक', 'ट्वीटर' और उसके बाद 'वेबसाइट' पर भी उपलब्ध है। हमें उम्मीद है कि अपने सुधी पाठकों और शुभेच्छुओं के सहयोग से यह अखबार आगे और भी प्रगतिशील होता रहेगा। एकबार हम अपने सहयोगियों के प्रति पुनः आभार प्रकट करते हैं, जिन्होंने हमें इस मुकाम तक पहुँचाने में अपना विशेष योगदान दिया है।

Leave a Reply