Ground Zero से सर्वे रिपोर्ट : झारखंड में किसी भी दल को बहुमत के आसार नहीं

1
748
(Photo Courtesy- google images)

(RnemaSurvey & Complain से साभार)
रांची : झारखंड विधानसभा की कुल 81 सीटों के चुनाव के लिए मतदान सम्पन्न हो चुके हैं। शुक्रवार की शाम पांच बजे तक अंतिम और पांचवें चरण के तहत 16 सीटों पर मतदान की प्रक्रिया भी सम्पन्न हो गयी। पूरे प्रदेश में मतगणना 23 दिसम्बर को होगी और उसी दिन राज्य के मतदाता अपने भावी प्रतिनिधियों की किस्मत का फैसला करेंगे। लेकिन, मतदान खत्म होने के साथ ही अब इस बात के कयास लगाये जाने लगे हैं कि राज्य में अगली सरकार किसकी बनेगी?

विभिन्न एजेंसियों द्वारा किये गये सर्वे रिपोर्टों का भी खुलासा होने लगा है और सब अलग-अलग दावे कर रहे हैं। लेकिन, ‘मिथिला वर्णन’ द्वारा देश की नामी-गिरामी सर्वे एजेन्सी ‘रनेमा (Real nation economic macrobian agenda) सर्वे एंड कम्पेन’ के सहयोग से ग्राउंड जीरो से किये गये सर्वेक्षण के अनुसार सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी द्वारा झारखंड में चुनाव से पूर्व किये गये 65 पार के दावे की हवा निकलती नजर आ रही है और किसी भी राजनीतिक दल को बहुमत मिलने के आसार नहीं नजर आ रहे हैं।

महागठबंधन 35+ सीटों के साथ शीर्ष पर

सर्वेक्षण के अनुसार झामुमो, कांग्रेस व राजद का महागठबंधन 35+ सीटों के साथ सबसे बड़े दल के रूप में उभरकर सामने आता दिख रहा है। तीन सीटों पर वामपंथी दलों की बढ़त दिखायी गयी है, जबकि भाजपा को महागठबंधन के बाद दूसरे स्थान पर 26+दिखाया गया है। नयी सरकार के गठन में आजसू पार्टी और निर्दलीयों की अहम भूमिका हो सकती है। लगभग इसी से मिलते-जुलते दावे कई अन्य सर्वे विश्लेषणों में भी किये जा रहे हैं और इस हिसाब से राज्य में भाजपा सरकार की वापसी पर ग्रहण लगता नजर आ रहा है। हालांकि इन सर्वेक्षणों के दावों की सच्चाई का खुलासा 23 दिसम्बर को मतगणना की समाप्ति के बाद ही संभव हो सकेगा और यह भी तय हो सकेगा कि अगली सरकार की सत्ता का ताज किसके सिर पर सजेगा!

  • Varnan Live Report.

प्रिय पाठक, आपको हमारा यह आलेख कैसा लगा, इसे लेकर निम्न कमेंट बॉक्स में आपकी प्रतिक्रिया का हार्दिक स्वागत है…

 

 

 

Previous articleबढ़ती कनकनी में बच्चों को राहत, DC के आदेश से क्या हुआ स्कूलों का नया समय, पढ़ें
Next articleDC, SP ने लिया वज्रगृह का जायजा, कहा- सुरक्षित माहौल में होगी पारदर्शी मतगणना
मिथिला वर्णन (Mithila Varnan) : स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता'! DAVP मान्यता-प्राप्त झारखंड-बिहार का अतिलोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक अब न्यूज-पोर्टल के अवतार में भी नियमित अपडेट रहने के लिये जुड़े रहें हमारे साथ- facebook.com/mithilavarnan twitter.com/mithila_varnan ---------------------------------------------------- 'स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता', यही है हमारा लक्ष्य। इसी उद्देश्य को लेकर वर्ष 1985 में मिथिलांचल के गर्भ-गृह जगतजननी माँ जानकी की जन्मभूमि सीतामढ़ी की कोख से निकला था आपका यह लोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक 'मिथिला वर्णन'। उन दिनों अखण्ड बिहार में इस अख़बार ने साप्ताहिक के रूप में अपनी एक अलग पहचान बनायी। कालान्तर में बिहार का विभाजन हुआ। रत्नगर्भा धरती झारखण्ड को अलग पहचान मिली। पर 'मिथिला वर्णन' न सिर्फ मिथिला और बिहार का, बल्कि झारखण्ड का भी प्रतिनिधित्व करता रहा। समय बदला, परिस्थितियां बदलीं। अन्तर सिर्फ यह हुआ कि हमारा मुख्यालय बदल गया। लेकिन एशिया महादेश में सबसे बड़े इस्पात कारखाने को अपनी गोद में समेटे झारखण्ड की धरती बोकारो इस्पात नगर से प्रकाशित यह साप्ताहिक शहर और गाँव के लोगों की आवाज बनकर आज भी 'स्वच्छ और स्वस्थ पत्रकारिता' के क्षेत्र में निरन्तर गतिशील है। संचार क्रांति के इस युग में आज यह अख़बार 'फेसबुक', 'ट्वीटर' और उसके बाद 'वेबसाइट' पर भी उपलब्ध है। हमें उम्मीद है कि अपने सुधी पाठकों और शुभेच्छुओं के सहयोग से यह अखबार आगे और भी प्रगतिशील होता रहेगा। एकबार हम अपने सहयोगियों के प्रति पुनः आभार प्रकट करते हैं, जिन्होंने हमें इस मुकाम तक पहुँचाने में अपना विशेष योगदान दिया है।

1 COMMENT

Leave a Reply