जर्जर थाना भवन के स्थानांतरण-आदेश से बूढ़ी जमीन मालकिन में जगी न्याय की आस

0
475
हजारीबाग मुफस्सिल थाने का जर्जर भवन

विशेष संवाददाता
हजारीबाग : जिले के एसपी मयूर कन्हैया लाल पटेल ने हजारीबाग के मुफस्सिल थाना भवन को स्थानांतरित करने का आदेश जारी किया है। उन्होंने अपने आदेश पत्र में उक्त थाना भवन को जर्जर और मरम्मत के लिए अयोग्य बताते हुए थाना भवन और मालखाने को वहां से हटाकर नए भवन में शिफ्ट करने की बात कही है। उपायुक्त, हजारीबाग के पत्रांक 109/सी., दिनांक- 11.01.2020 के संदर्भ में एसपी ने अपने पत्रांक- 51/सा.शा., दिनांक – 17.01.2020 में लिखा है कि इस भवन में जानमाल की संभावित घटना की आशंका के मद्देनजर जल्द से जल्द नए भवन में स्थानांतरित करने का आदेश दिया है। उनके आदेश से एक तरफ जहां जर्जर थाना भवन की समस्या से निजात मिलेगी, वहीं दूसरी ओर पुराने भवन की जमीन मालिक 75 वर्षीय वृद्धा शकुंतला देवी को भी न्याय मिलने की उम्मीद जग गई है।

haz sp ka aadesh

महिला का कहना है कि उनकी पुरखों की जमीन प्रशासन की ओर से हड़प ली गई थी। एसपी के इस आदेश से उसे अपनी जमीन वापस मिल सकेगी। वैसे यह मामला न्यायालय में भी लंबित बताया जा रहा है। हजारीबाग निवासी शकुंतला देवी जैन का कहना है कि वर्ष 1984 में उन्होंने अपने पुरखों की खाली जमीन प्रशासन के आग्रह पर थाना बनाने के लिए किराये पर दी थी। तय मसौदे के अनुसार एक से दो कमरों की पुलिस चौकी की जगह दी गई थी, जिसका किराया दो हजार रूपये तय किया गया था।

malkhana

आरोप है कि शकुंतला देवी की जमीन पर 1984 में थाना स्थापित होने के बाद आसपास की उसकी पूरी जमीन अतिक्रमित कर ली गई। शकुंतला ने हर बार कई पुलिस अधीक्षकों के दरवाजे न्याय के लिए खटखटाए। जब न्याय नहीं मिला तो उसने कोर्ट की शरण ली। अब एसपी के आदेश से उसमें न्याय की आस जगी है।

Leave a Reply