#Corona Research मामले में बोकारो से मिल सकती है बड़ी उपलब्धि, जानिए कैसे…

0
244
(Symbolic image, source- google images)

Expert View : बोकारो स्टील सिटी कॉलेज के Biotech Lab में मौजूद हैं उन्नत संसाधन

डॉ. केके मिश्रा
भूतपूर्व विभागाध्यक्ष एवं को-आॅर्डिनिटर
बायोटेक्नोलॉजी विभाग (बोकारो स्टील सिटी कॉलेज)।

बोकारो : प्राणघातक महामारी का कारक बने कोरोनावायरस के खात्मे को लेकर दुनियां भर में शोध पर शोध किए जा रहे हैं। कैसे इसके इलाज की कारगर वैक्सीन बने, इस पर विश्वभर के वैज्ञानिक लगातार काम कर रहे हैं। इसी कड़ी में अगर झारखंड सरकार ध्यान देती है इस प्रदेश की इस्पातनगरी और अब कोरोना शून्य हो चुके बोकारो में इस पर काम किया जा सकता है। न केवल शोध, बल्कि एक बड़ी उपलब्धि भी हासिल की जा सकती है। बोकारो स्टील सिटी कॉलेज में स्थापित बायोटेक्नोलॉजी विभाग इस कार्य में पूर्ण रूप से सक्षम है। कोरोनावायरस किट की मंजूरी मिलने के बाद उसे पूर्ण प्रयोगशाला के रूप में व्यवहार में लाया जा सकता है। यहां पर पीसीआर (पॉलीमर आई चेन रिएक्शन) उपकरण, लैमिनार फ्लो उपकरण तथा एयर टाइट लैबोरेट्री सरीखे वैसे उपकरण हैं, जिन्हें एलिवेट किया जा सकता है। बायोटेक्नोलॉजी तथा बायोकेमिस्ट्री मेडिकल साइंस की रीढ़ है। किसी भी प्रकार की मेडिसिन का खोज तथा वैक्सीन बनाने का काम बायोटेक का ही है। यदि झारखंड सरकार इस ओर ध्यान देती है तो बोकारो के लिए बहुत बड़ी उपलब्धि हो सकती है।

वायरस न सजीव, न निर्जीव

सामान्यतया वायरस बिना कोशिका के होते हैं। वायरस न्यूक्लियोप्रोटीन का बना होता है। इसमें न्यूक्लियस साइटोप्लाज्मा सेलमेंब्रेन नहीं होते हैं। इसके पार्टिकल में एक ही प्रकार के जेनेटिक मैटेरियल पाए जाते हैं। या तो डीएनए पाए जाते हैं या आरएनए पाए जाते हैं। मनुष्य में या अन्य प्राणी में डीएनए तथा आरएनए दोनों पाए जाते हैं (कुछ अपवाद को छोड़कर), लेकिन वायरस में सिर्फ एक ही प्रकार के न्यूक्लिक एसिड पाए जाते हैं। वायरस अपना मेटाबॉलिज्म बिना किसी होस्ट के पूरा नहीं कर सकता, क्योंकि वायरस ए सेल्यूलर (अकोशिकीय) है। उसमें न्यूक्लिक एसिड सिर्फ एक ही प्रकार के होते हैं, इसलिए यह अपना जीवन चक्र (मल्टीप्लिकेशन) होस्ट की मशीनरी के ऊपर निर्भर करता है। इसलिए यह न जीवित है और न ही निर्जीव। दोनों के बीच इंटरमीडिएट के अंतर्गत ये आते हैं। यही वजह है कि इलेक्ट्रॉन माइक्रोग्राफ से ही इसके रवादा (क्रिस्टल) को पहचाना जाता है। इसमें दो मुख्य भाग होते हैं, न्यूक्लिक एसिड तथा प्रोटीन। इसमें मुख्य रूप से न्यूक्लिक एसिड के चारों ओर प्रोटीन का एक घेरा होता है, जिसे कैप्सिड कहते हैं। वायरस आॅब्लिगेट एक्सट्रेसेल्यूलर पार्टिकल्स है। इसमें मेटाबोलिक एंजाइम्स नहीं पाए जाते हैं, इसलिए बिना होस्ट के यह प्रोटीन नहीं बना पाता है।

गरम पेय है काफी कारगर, खत्म करते हैं कैप्सिड लेयर

जहां तक कोविड-19 के बारे में विभिन्न वैज्ञानिकों का मत है कि जैसे ही कैप्सिड लेयर खत्म होगा, वैसे ही वायरस अपने आप खत्म हो जाएगा। इसमें गरम पेय हमारे लिए काफी लाभप्रद और कारगर साबित हो सकता है। इसके लिए गर्म पानी, गर्म कॉफी और गर्म चाय लेनी आवश्यक है, जिससे रेस्पिरेट्री सिस्टम को बाधा नहीं पहुंच सके।

Varnan Live EXCLUSIVE.

प्रिय पाठक, आपको यह आलेख कैसे लगा, कृपया नीचे कमेन्ट बॉक्स में अपनी प्रतिक्रिया, विचार अथवा सुझाव से अवगत कराएं।
धन्यवाद।

Previous articleझारखंड में जिस वृद्ध की हुई थी कोरोना से सबसे पहली मौत, उसका भाई भी निकला कोरोना पॉजिटिव
Next articleभूख और बेकारी से संकट में आदिम जनजाति के 441 लोग
मिथिला वर्णन (Mithila Varnan) : स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता'! DAVP मान्यता-प्राप्त झारखंड-बिहार का अतिलोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक अब न्यूज-पोर्टल के अवतार में भी नियमित अपडेट रहने के लिये जुड़े रहें हमारे साथ- facebook.com/mithilavarnan twitter.com/mithila_varnan ---------------------------------------------------- 'स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता', यही है हमारा लक्ष्य। इसी उद्देश्य को लेकर वर्ष 1985 में मिथिलांचल के गर्भ-गृह जगतजननी माँ जानकी की जन्मभूमि सीतामढ़ी की कोख से निकला था आपका यह लोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक 'मिथिला वर्णन'। उन दिनों अखण्ड बिहार में इस अख़बार ने साप्ताहिक के रूप में अपनी एक अलग पहचान बनायी। कालान्तर में बिहार का विभाजन हुआ। रत्नगर्भा धरती झारखण्ड को अलग पहचान मिली। पर 'मिथिला वर्णन' न सिर्फ मिथिला और बिहार का, बल्कि झारखण्ड का भी प्रतिनिधित्व करता रहा। समय बदला, परिस्थितियां बदलीं। अन्तर सिर्फ यह हुआ कि हमारा मुख्यालय बदल गया। लेकिन एशिया महादेश में सबसे बड़े इस्पात कारखाने को अपनी गोद में समेटे झारखण्ड की धरती बोकारो इस्पात नगर से प्रकाशित यह साप्ताहिक शहर और गाँव के लोगों की आवाज बनकर आज भी 'स्वच्छ और स्वस्थ पत्रकारिता' के क्षेत्र में निरन्तर गतिशील है। संचार क्रांति के इस युग में आज यह अख़बार 'फेसबुक', 'ट्वीटर' और उसके बाद 'वेबसाइट' पर भी उपलब्ध है। हमें उम्मीद है कि अपने सुधी पाठकों और शुभेच्छुओं के सहयोग से यह अखबार आगे और भी प्रगतिशील होता रहेगा। एकबार हम अपने सहयोगियों के प्रति पुनः आभार प्रकट करते हैं, जिन्होंने हमें इस मुकाम तक पहुँचाने में अपना विशेष योगदान दिया है।

Leave a Reply