BGH में Plasma Therapy से हो सकेगा कोरोना का इलाज, DC ने दिया निर्देश

0
492
बोकारो जनरल अस्पताल (BGH).

बोकारो। बोकारो जनरल अस्पताल में निकट भविष्य में कोरोना संक्रमितों का इलाज अत्याधुनिक प्लाज्मा थेरेपी विधि से हो सकेगा। जिले के डीसी राजेश सिंह ने इसे लेकर अग्रेतर कार्रवाई का निर्देश सिविल सर्जन डॉ. अशोक कुमार पाठक को दिया है। मंगलवार को डीएमएफटी प्रबंधकीय परिषद की बैठक उपायुक्त राजेश सिंह की अध्यक्षता में गोपनीय प्रकोष्ठ में की गई। डीएमएफटी प्रबंधकीय समिति द्वारा बैठक में कुल 07 बिन्दुओं पर चर्चा की गयी। इनमें प्लाज्मा तकनीक पर काम करने की भी योजना थी।

बैठक में मौजूद डीसी, सिविल सर्जन व अन्य।

उक्त बैठक में पहले सिविल सर्जन डॉ. अशोक कुमार पाठक की अधियाच पर कोविड-19 के रोकथाम, टेस्टिंग एवं अन्य कोविड से संबंधित सामग्रियों के क्रय पर चर्चा की गयी। इसपर उपायुक्त श्री सिंह ने सिविल सर्जन को निदेशित किया कि सरकार के दिशा निदेशों एवं मापदंडों का अनुपालन करते हुए  कोविड-19 से संबंधित सामग्रियों का क्रय किया जाय। उन्होंने सिविल सर्जन को निदेश दिया कि कोविड 19 के लिए कार्य कर रहे डाटा एंट्री ऑपरेटर के मानदेय का भुगतान शीघ्र करायें। साथ ही बोकारो जेनरल अस्पताल बोकारो में ब्लड प्लाज्मा थैरेपी सुविधा स्थापित करने को लेकर सिविल सर्जन को अग्रेतर कार्यवाई हेतु निदेशित किया। पीआरडी सूत्रों के अनुसार उपायुक्त श्री सिंह ने कोविड 19 की रोकथाम हेतु वाहन व फ्लेक्स होल्डिंग के माध्यम से व्यापक प्रचार-प्रसार करने का निदेश भी दिया। बैठक के दौरान उप विकास आयुक्त जय किशोर प्रसाद, वन क्षेत्र पदाधिकारी अमरेंद्र कुमार सिंह, जिला योजना पदाधिकारी देवेश गौतम सहित अन्य उपस्थित थे।

– Varnan Live Report.

प्रिय पाठक आपको रिपोर्ट कैसी लगी, अपनी प्रतिक्रिया कमेंट बॉक्स में जरूर दें।

धन्यवाद!

Previous articleAchievement… Vedanta ESL bags SAP Award
Next articleऑटो चालक ने फांसी लगाकर दे दी जान
मिथिला वर्णन (Mithila Varnan) : स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता'! DAVP मान्यता-प्राप्त झारखंड-बिहार का अतिलोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक अब न्यूज-पोर्टल के अवतार में भी नियमित अपडेट रहने के लिये जुड़े रहें हमारे साथ- facebook.com/mithilavarnan twitter.com/mithila_varnan ---------------------------------------------------- 'स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता', यही है हमारा लक्ष्य। इसी उद्देश्य को लेकर वर्ष 1985 में मिथिलांचल के गर्भ-गृह जगतजननी माँ जानकी की जन्मभूमि सीतामढ़ी की कोख से निकला था आपका यह लोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक 'मिथिला वर्णन'। उन दिनों अखण्ड बिहार में इस अख़बार ने साप्ताहिक के रूप में अपनी एक अलग पहचान बनायी। कालान्तर में बिहार का विभाजन हुआ। रत्नगर्भा धरती झारखण्ड को अलग पहचान मिली। पर 'मिथिला वर्णन' न सिर्फ मिथिला और बिहार का, बल्कि झारखण्ड का भी प्रतिनिधित्व करता रहा। समय बदला, परिस्थितियां बदलीं। अन्तर सिर्फ यह हुआ कि हमारा मुख्यालय बदल गया। लेकिन एशिया महादेश में सबसे बड़े इस्पात कारखाने को अपनी गोद में समेटे झारखण्ड की धरती बोकारो इस्पात नगर से प्रकाशित यह साप्ताहिक शहर और गाँव के लोगों की आवाज बनकर आज भी 'स्वच्छ और स्वस्थ पत्रकारिता' के क्षेत्र में निरन्तर गतिशील है। संचार क्रांति के इस युग में आज यह अख़बार 'फेसबुक', 'ट्वीटर' और उसके बाद 'वेबसाइट' पर भी उपलब्ध है। हमें उम्मीद है कि अपने सुधी पाठकों और शुभेच्छुओं के सहयोग से यह अखबार आगे और भी प्रगतिशील होता रहेगा। एकबार हम अपने सहयोगियों के प्रति पुनः आभार प्रकट करते हैं, जिन्होंने हमें इस मुकाम तक पहुँचाने में अपना विशेष योगदान दिया है।

Leave a Reply