BSL में आपातकालीन चिकित्सा के गुर सीख रहे कर्मी, जाने क्यों

0
190

बोकारो ः संयंत्र या कार्यस्थल पर चिकित्सा संबंधी आपातकालीन परिस्थिति से निपटने हेतु इस्पातकर्मियों को प्रशिक्षित करने के उद्देश्य से बीएसएल के व्यावसायिक स्वास्थ्य सेवा केंद्र द्वारा प्राथमिक चिकित्सा और इमरजेंसी केयर पर एक नया कॉम्पैक्ट प्रशिक्षण कार्यक्रम आरंभ किया गया है। प्राथमिक चिकित्सा और इमरजेंसी केयर पर प्रशिक्षण की श्रृंखला का प्रथम कार्यक्रम का आयोजन ओएचएस सेंटर के एचआरडी हाल में किया गया. कार्यक्रम में मुख्य महाप्रबंधक (सुरक्षा एवं अग्नि शमन सेवाएं) एके झा, महाप्रबंधक (ओएचएस) डॉ. टी. पाचाल, एडिशनल चीफ मेडिकल ऑफिसर (ओएचएस) डॉ. आर. कुमार, उप महाप्रबंधक (ओएचएस)  सुधीर भानु, उप महाप्रबंधक (ओएचएस) एसएम ठाकुर, ओएचएस की नर्सिंग सिस्टर एस. राय एवं एस. शर्मा सहित संयंत्र के विभिन्न विभागों के कर्मी उपस्थित थे। प्रशिक्षण कार्यक्रम का उदघाटन करते हुए झा ने कहा कि इस प्रकार के प्रशिक्षण कार्यक्रम औद्योगिक संगठनों  में अतिआवश्यक है तथा भारत सरकार के नए अधिसूचित स्वास्थ्य और सुरक्षा कोड को पालन करने के उद्देश्य को भी पूरा करेगा। कार्यक्रम के दौरान डॉ पाचाल ने इमरजेंसी केयर के सही तरीकों के साथ-साथ कार्यस्थलों पर प्राथमिक चिकित्सा और इमरजेंसी केयर से जुड़े सभी पहलुओं पर विस्तारपूर्वक जानकारी दी। डॉ कुमार ने कार्यस्थल पर सामान्य इमरजेंसी केयर और इससे निपटने के तरीके के बारे में बताया। डॉ कुमार और डॉ. पाचाल ने कर्मियों को कार्डियो पल्मोनरी रिससिटैशन पर भी व्यावहारिक प्रशिक्षण दिया। नर्सिंग सिस्टर श्रीमती रॉय और शर्मा ने प्रतिभागियों को इमरजेंसी केयर पर व्यावहारिक प्रशिक्षण दिया। कार्यक्रम के अंत में सुधीर भानु द्वारा एक प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिता का भी आयोजन किया गया। कार्यक्रम का समन्वयन ठाकुर ने किया।

– Varnan Live Report.

Previous articleContemporary Bihari culture
Next articleनेशनल ओलम्पियाड… 43 हजार में चुने गए बस 5, इनमें 1 बोकारो का भी, जानिए कौन
मिथिला वर्णन (Mithila Varnan) : स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता'! DAVP मान्यता-प्राप्त झारखंड-बिहार का अतिलोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक अब न्यूज-पोर्टल के अवतार में भी नियमित अपडेट रहने के लिये जुड़े रहें हमारे साथ- facebook.com/mithilavarnan twitter.com/mithila_varnan ---------------------------------------------------- 'स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता', यही है हमारा लक्ष्य। इसी उद्देश्य को लेकर वर्ष 1985 में मिथिलांचल के गर्भ-गृह जगतजननी माँ जानकी की जन्मभूमि सीतामढ़ी की कोख से निकला था आपका यह लोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक 'मिथिला वर्णन'। उन दिनों अखण्ड बिहार में इस अख़बार ने साप्ताहिक के रूप में अपनी एक अलग पहचान बनायी। कालान्तर में बिहार का विभाजन हुआ। रत्नगर्भा धरती झारखण्ड को अलग पहचान मिली। पर 'मिथिला वर्णन' न सिर्फ मिथिला और बिहार का, बल्कि झारखण्ड का भी प्रतिनिधित्व करता रहा। समय बदला, परिस्थितियां बदलीं। अन्तर सिर्फ यह हुआ कि हमारा मुख्यालय बदल गया। लेकिन एशिया महादेश में सबसे बड़े इस्पात कारखाने को अपनी गोद में समेटे झारखण्ड की धरती बोकारो इस्पात नगर से प्रकाशित यह साप्ताहिक शहर और गाँव के लोगों की आवाज बनकर आज भी 'स्वच्छ और स्वस्थ पत्रकारिता' के क्षेत्र में निरन्तर गतिशील है। संचार क्रांति के इस युग में आज यह अख़बार 'फेसबुक', 'ट्वीटर' और उसके बाद 'वेबसाइट' पर भी उपलब्ध है। हमें उम्मीद है कि अपने सुधी पाठकों और शुभेच्छुओं के सहयोग से यह अखबार आगे और भी प्रगतिशील होता रहेगा। एकबार हम अपने सहयोगियों के प्रति पुनः आभार प्रकट करते हैं, जिन्होंने हमें इस मुकाम तक पहुँचाने में अपना विशेष योगदान दिया है।

Leave a Reply