स्टेशन पर पलटी ट्रेन और अफरातफरी देख जब हो गए सब हैरान, जानें क्या था मामला

0
338

बोकारो ः पलटी हुईं ट्रेन की बोगियां, आसपास पड़े लहूलुहान लोग और सायरन की गूंज अचानक देख शुक्रवार को बोकारो स्टेशन के आसपास पहुंचे लोग दंग रह गए। न केवल दंग रह गए, बल्कि सहम भी गए। दरअसल, यह कोई हादसा नहीं था, बल्कि हादसों से निबटने के लिए एक छद्म अभ्यास (मॉक ड्रिल) था। बोकारो स्टील सिटी स्टेशन के हंप यार्ड में शुक्रवार को आद्रा रेल मंडल की ओर से आपदा प्रबंधन से जुड़ी मॉक ड्रिल का आयोजन किया गया। इसके तहत रेलकर्मियों को रेल हादसों से निबटने और आपातकालीन परिस्थिति में जानमाल की रक्षा करने की ट्रेनिंग दी गई। 

शुरुआत में, राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) के जवान, नागरिक सुरक्षा बल के जवान, भारत स्काउट्स एवं गाइड्स के स्वयंसेवक तथा चास स्थित एक निजी अस्पताल के मेडिकल टीम छद्म दुर्घटना स्थल पर पहुंची। घायल तथा मृत यात्रियों को क्षतिग्रस्त डिब्बों से निकालने, घायलों को फर्स्ट ऐड देने तथा गंभीर रूप से घायल होने वाले यात्रियों को पास के अस्पताल में भर्ती कराने का अभ्यास किया गया। घायल एवं मृत यात्रियों का संज्ञान प्राप्त करने के लिए रेलवे द्वारा इमरजेंसी इंक्वायरी भी बिठाई गई। पूरी नजारा ऐसा था, मानो वास्तव कोई बड़ी रेल दुर्घटना हुई हो।

कर्मियों की तत्परता और क्षमता की जांच जरूरी ः डीआरएम

कार्यक्रम के अंत में पत्रकारों से बातचीच में मंडल रेल प्रबंधक (आद्रा) नवीन कुमार ने कहा कि यह केवल एक मॉक ड्रिल थी, जिसके किए जाने का मूल उद्देश्य आपदा के समय रेल कर्मियों तथा आपदा प्रबंधन कर्मियों की क्षमता एवं तत्परता की जांच करना रहा। उन्होंने आपदा प्रबंधन से जुड़े सभी लोगों को इस मॉक ड्रिल के सफलतापूर्वक संपन्न होने पर बधाई दी।

– Varnan Live Report.

Previous articleचमोली ग्लेशियर हादसा : इस हेल्पलाइन नम्बर पर मिलेंगी सूचनाएं
Next articleपावरलिफ्टिंग में शानदार प्रदर्शन करने वाली ऐश्वर्या को मुख्यमंत्री ने किया सम्मानित
मिथिला वर्णन (Mithila Varnan) : स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता'! DAVP मान्यता-प्राप्त झारखंड-बिहार का अतिलोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक अब न्यूज-पोर्टल के अवतार में भी नियमित अपडेट रहने के लिये जुड़े रहें हमारे साथ- facebook.com/mithilavarnan twitter.com/mithila_varnan ---------------------------------------------------- 'स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता', यही है हमारा लक्ष्य। इसी उद्देश्य को लेकर वर्ष 1985 में मिथिलांचल के गर्भ-गृह जगतजननी माँ जानकी की जन्मभूमि सीतामढ़ी की कोख से निकला था आपका यह लोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक 'मिथिला वर्णन'। उन दिनों अखण्ड बिहार में इस अख़बार ने साप्ताहिक के रूप में अपनी एक अलग पहचान बनायी। कालान्तर में बिहार का विभाजन हुआ। रत्नगर्भा धरती झारखण्ड को अलग पहचान मिली। पर 'मिथिला वर्णन' न सिर्फ मिथिला और बिहार का, बल्कि झारखण्ड का भी प्रतिनिधित्व करता रहा। समय बदला, परिस्थितियां बदलीं। अन्तर सिर्फ यह हुआ कि हमारा मुख्यालय बदल गया। लेकिन एशिया महादेश में सबसे बड़े इस्पात कारखाने को अपनी गोद में समेटे झारखण्ड की धरती बोकारो इस्पात नगर से प्रकाशित यह साप्ताहिक शहर और गाँव के लोगों की आवाज बनकर आज भी 'स्वच्छ और स्वस्थ पत्रकारिता' के क्षेत्र में निरन्तर गतिशील है। संचार क्रांति के इस युग में आज यह अख़बार 'फेसबुक', 'ट्वीटर' और उसके बाद 'वेबसाइट' पर भी उपलब्ध है। हमें उम्मीद है कि अपने सुधी पाठकों और शुभेच्छुओं के सहयोग से यह अखबार आगे और भी प्रगतिशील होता रहेगा। एकबार हम अपने सहयोगियों के प्रति पुनः आभार प्रकट करते हैं, जिन्होंने हमें इस मुकाम तक पहुँचाने में अपना विशेष योगदान दिया है।

Leave a Reply