DPS में 33 स्कूलों के 65 शिक्षकों को मिला ‘गुरु वशिष्ठ शिक्षक सम्मान’

0
435

डीसी ने किया सम्मानित, कहा- विद्यार्थियों की रुचि व प्रतिभा के अनुरुप आगे बढ़ने के लिए प्रेरित करें शिक्षक

बोकारो। दिल्ली पब्लिक स्कूल, बोकारो में शुक्रवार को डॉ एस राधाकृष्णन सहोदया स्कूल कॉम्प्लेक्स बोकारो के तत्वावधान में पांचवां गुरु वशिष्ठ श्रेष्ठ शिक्षक पुरस्कार समारोह 2021 का आयोजन किया गया, जिसमें बोकारो जिले के 33 स्कूलों के 65 शिक्षकों को सम्मानित किया गया। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि बोकारो के उपायुक्त कुलदीप चौधरी थे। अन्य गणमान्य व्यक्तियों में डॉ राधाकृष्णन सहोदया स्कूल कॉम्प्लेक्स के अध्यक्ष ए एस गंगवार, उपाध्यक्ष अनिल कुमार गुप्ता, सचिव बिश्वजीत पात्रा, कोषाध्यक्ष फादर रेजी सी. वर्गीज, सांस्कृतिक सचिव सिस्टर कमला पॉल उपस्थित थीं।
समारोह की शुरुआत दीप प्रज्ज्वलन के बाद स्वागत गीत और स्कूल गीत से हुई। इस समारोह में दो मंत्रमुग्ध कर देने वाले नृत्य और एक आर्केस्ट्रा का प्रदर्शन हुआ। बच्चों ने गुरु महिमा पर विशेष प्रस्तुति दी। मुख्य अतिथि द्वारा शिक्षक पुरस्कार विजेताओं को प्रमाण पत्र, स्मृति चिन्ह और शॉल देकर सम्मानित किया गया।
समारोह को संबोधित करते हुए मुख्य अतिथि श्री चौधरी ने कहा कि वर्तमान शिक्षा परिदृश्य में एक गुरु की भूमिका बहुआयामी है। विद्यार्थियों को पढ़ाने का तरीका रोचक व आनंदमय हो। शिक्षक विद्यार्थियों की रुचि व प्रतिभा के अनुरुप उन्हें आगे बढ़ने के लिए प्रेरित करें। उन्होंने विद्यार्थियों के समग्र विकास के लिए सांस्कृतिक व खेल-कूद की गतिविधियों को जरूरी बताया। उपायुक्त ने कार्यक्रम के दौरान विद्यार्थियों द्वारा प्रस्तुत सांस्कृतिक कार्यक्रमों की सराहना की और कहा कि बोकारो सहित पूरे झारखंड में शिक्षा का बेहतर माहौल है। डॉ राधाकृष्णन सहोदया स्कूल कॉम्प्लेक्स के कार्यों की भी उपायुक्त ने प्रशंसा की।

एक प्राचार्य को सम्मानित करते डीसी कुलदीप चौधरी, साथ मौजूद डीपीएस के प्राचार्य एएस गंगवार व अन्य।

समाज को सकारात्मक आकार देते हैं शिक्षक : गंगवार

अपने संबोधन में डॉ राधाकृष्णन सहोदया स्कूल कॉम्प्लेक्स के अध्यक्ष सह डीपीएस बोकारो के प्राचार्य ए एस गंगवार ने कहा कि इस तरह के शिक्षक सम्मान समारोह के आयोजन से शिक्षकों के उत्कृष्ट योगदान को मान्यता मिलती है। शिक्षक एक सकारात्मक समाज को आकार देने और राष्ट्र को मजबूत करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। उन्होंने कहा कि विद्यार्थियों की बदलती जरूरतों को पूरा करने के लिए शिक्षकों को अपने कौशल में सतत अपडेट करना चाहिए। डॉ. राधाकृष्णन सहोदया स्कूल कॉम्प्लेक्स के उपाध्यक्ष अनिल कुमार गुप्ता ने सहोदया की गतिविधियों पर प्रकाश डाला। अंत में धन्यवाद ज्ञापन सचिव बिश्वजीत पात्रा ने किया। कार्यक्रम का संचालन 12वीं की छात्रा मिताली सिंह, शिखर शर्मा, उत्कर्ष वैभव, रितिका व समृद्धि दुबे ने किया।

– Varnan Live Report.

Previous articleESL Steel bags ‘Greentech Effective Safety Culture Award’ again
Next articleआजादी के अमृत महोत्सव पर ONGC ने शुरू की चौथी हस्तशिल्प परियोजना
मिथिला वर्णन (Mithila Varnan) : स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता'! DAVP मान्यता-प्राप्त झारखंड-बिहार का अतिलोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक अब न्यूज-पोर्टल के अवतार में भी नियमित अपडेट रहने के लिये जुड़े रहें हमारे साथ- facebook.com/mithilavarnan twitter.com/mithila_varnan ---------------------------------------------------- 'स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता', यही है हमारा लक्ष्य। इसी उद्देश्य को लेकर वर्ष 1985 में मिथिलांचल के गर्भ-गृह जगतजननी माँ जानकी की जन्मभूमि सीतामढ़ी की कोख से निकला था आपका यह लोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक 'मिथिला वर्णन'। उन दिनों अखण्ड बिहार में इस अख़बार ने साप्ताहिक के रूप में अपनी एक अलग पहचान बनायी। कालान्तर में बिहार का विभाजन हुआ। रत्नगर्भा धरती झारखण्ड को अलग पहचान मिली। पर 'मिथिला वर्णन' न सिर्फ मिथिला और बिहार का, बल्कि झारखण्ड का भी प्रतिनिधित्व करता रहा। समय बदला, परिस्थितियां बदलीं। अन्तर सिर्फ यह हुआ कि हमारा मुख्यालय बदल गया। लेकिन एशिया महादेश में सबसे बड़े इस्पात कारखाने को अपनी गोद में समेटे झारखण्ड की धरती बोकारो इस्पात नगर से प्रकाशित यह साप्ताहिक शहर और गाँव के लोगों की आवाज बनकर आज भी 'स्वच्छ और स्वस्थ पत्रकारिता' के क्षेत्र में निरन्तर गतिशील है। संचार क्रांति के इस युग में आज यह अख़बार 'फेसबुक', 'ट्वीटर' और उसके बाद 'वेबसाइट' पर भी उपलब्ध है। हमें उम्मीद है कि अपने सुधी पाठकों और शुभेच्छुओं के सहयोग से यह अखबार आगे और भी प्रगतिशील होता रहेगा। एकबार हम अपने सहयोगियों के प्रति पुनः आभार प्रकट करते हैं, जिन्होंने हमें इस मुकाम तक पहुँचाने में अपना विशेष योगदान दिया है।

Leave a Reply